UP: सांसद आजम खान को मिली बंदूक बेचने की इजाजत, रामपुर जेल पहुंचा अनुमति पत्र

आजम खान को मिली हथियार बेचने की अनुमति. File Photo)

आजम खान को मिली हथियार बेचने की अनुमति. File Photo)

Rampur News:  सिटी मजिस्ट्रेट ने आजम खान को  असलाह बेचने की अनुमति दे दी है. आजम खान  (Azam Khan)  ने दो नली बंदूक को बेचने की अनुमति मांगी थी.

  • Share this:
रामपुर. समाजवादी पार्टी वरिष्ठ नेता आजम खान (Azam Khan) और रामपुर सांसद आजम खान को अपना हथियार बेचने की अनुमति मिल गई है, सिटी मजिस्ट्रेट ने आजम खान को अपनी दो नाली बंदूक बेचने की इजाजत दे दी है. कोर्ट के आदेश के बाद बंदूक बेचने का अनुमति पत्र सीतापुर जेल भेजा गया. बता दें कि आजम खान के पास तीन असलाह थे. इसके बाद शासन ने तीन असलाह रखने पर रोक लगा दी थी. इसके बाद आजम खान ने दो नली बंदूक को बेचने की अनुमति मांगी थी. गौरतलब हो कि पिछले एक साल से आजम खान सीतापुर जेल में बंद हैं.

समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष और पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव के निर्देश पर आजम खान  के समर्थन में रामपुर से लखनऊ तक  साइकिल यात्रा करने जा रही है. ये साइकिल यात्रा 12 मार्च से शुरू होगी और इसका समापन 21 मार्च 2021 को लखनऊ में होगा. इस साइकिल यात्रा का उद्देश्य रामपुर में मोहम्मद अली जौहर विश्वविद्यालय के संस्थापक सांसद मोहम्मद आजम खान के प्रति भाजपा सरकार की बदले की भावना से की जा रही कार्यवाहियों के विरूद्ध जनाक्रोश दर्ज करना है.

अखिलेश यादव का बड़ा बयान

समाजवादी पार्टी का मानना है कि रामपुर से सांसद पूर्व कैबिनेट मंत्री मोहम्मद आजम खान, उनकी विधायक पत्नी तंजीन फातिमा और उनके पुत्र अब्दुल्ला आजम पर सैकड़ों फर्जी केस दर्ज किए गए हैं. यहां तक कि मोहम्मद आजम खान को मिल रही लोकतंत्र सेनानी पेंशन पर भी रोक लगा दी गई है, जो समाजवादी सरकार ने आपातकाल के विरोध और लोकतंत्र की रक्षा करने वालों के लिए चालू की थी. आजम खान ने लोकतंत्र के लिए आपातकाल 1975-76 में जेल में रहकर यातना भोगी थी.
ये भी पढ़ें: लखनऊ: ट्रेन के सामने कूदा सचिवालय कर्मी, सुसाइड नोट में लिखा 'मौत के जिम्मेदार' का नाम

अखिलेश यादव का कहना है कि जौहर विश्वविद्यालय की स्थापना करके मोहम्मद आजम खान ने उच्च शिक्षा के प्रसार और नौजवानों की जिंदगी बेहतर बनाने की दिशा में जो सराहनीय कदम उठाए थे, उससे चिढ़कर ही उन्हें अपमानित और प्रताड़ित किया जा रहा है. जनपद के अधिकारी अपने स्वार्थ के वशीभूत होकर झूठे मामले तैयार करा रहे हैं. जनता सब समझती है और समय आने पर करारा जवाब भी देगी.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज