• Home
  • »
  • News
  • »
  • uttar-pradesh
  • »
  • RAMPUR NEW TREND FRAUD BLACKMAILING PORNOGRAPHIC VIDEO CHAT WHATSAPP AFTER FRIENDSHIP FACEBOOK CRIME CGNT

ठगी का नया ट्रेंड: फेसबुक पर दोस्ती के बाद वाट्सएप पर अश्लील वीडियो चैट कर ब्लैकमेलिंग

सांकेतिक फोटो.

Rampur News: उत्तर प्रदेश के रामपुर की कोतवाली मिलक पुलिस (UP Police) और एसओजी टीम ने सोशल मीडिया के माध्यम से अश्लील वीडियो और फ़ोटो बनाकर लोगों से रुपए ऐंठने वाले गैंग के तीन अभियुक्तों को गिरफ्तार किया है.

  • Share this:
रामपुर. उत्तर प्रदेश के रामपुर की कोतवाली मिलक पुलिस (Rampur Police) और एसओजी टीम ने सोशल मीडिया के माध्यम से अश्लील वीडियो और फ़ोटो बनाकर लोगों से रुपए ऐंठने वाले गैंग के तीन अभियुक्तों को गिरफ्तार किया है. इस गिरोह के सात अभियुक्त अभी फरार हैं. पुलिस उनकी तलाश कर रही है. गिरफ्तार अभियुक्तों में आमिर और मुस्तकीम राजस्थान के जिला भरतपुर के गांव औलन्दा के रहने वाले हैं. वहीं तीसरा अभियुक्त इमरान रामपुर के ही थाना टांडा क्षेत्र का रहने वाला है. यह लोग लड़कियों के फ़ोटो लगाकर फ़र्ज़ी फेसबुक आईडी बनाकर लोगों से जुड़ जाते थे. उनका व्हाट्सएप नम्बर लेकर चेटिंग करते थे और अश्लील बातें करते थे. इसके बाद अश्लील वीडियो बनाकर उन्हें ब्लैकमेल करते थे.

इस मामले में एसपी शगुन गौतम ने बताया 24 मार्च 2021 को शिकायत मिली, जिसमें सुरेश कुमार ने बताया कि उनके व्हाट्सएप पर एक अनजान नंबर से वीडियो कॉल आई जिसमे उन्हें एक निर्वस्त्र लड़की का वीडियो आया, जिसके बाद उन्होंने फोन काट दिया. दोबारा उनके पास कॉल आया व्हाट्सएप मैसेज के थ्रू उनसे पैसा मांगा गया, जिसमें उनको स्क्रीन शार्ट और कुछ फोटो भेजे गए थे, जिसके द्वारा उनसे 20,000 रुपए की मांग की गई. इस मामले मे थाने में धारा 386 420 और 507 में मुक़दमा दर्ज कर इसकी जांच शुरू की, जिसमें कुछ लोग उजागर हुए जिन्हें गिरफ्तार किया गया है. इनमें आमिर और मुस्तकीम थाना कैथवाड़ा भरतपुर निवासी है और इमरान रामपुर के थाना टांडा का रहना वाला है.



आरोपियों ने कबूल किया जुर्म
पुलिस का दावा है कि आरोपियों ने अपना जुर्म कबूल कर लिया है. एसपी ने बताया कि ये फेसबुक पर महिला के नाम से फ़र्ज़ी अकाउंट बनाते थे. इसके बाद लोगों को फ्रेंड रिक्वेस्ट भेज कर उनसे कॉन्टेक्ट बढ़ाते थे और फिर किसी तरह उनका फोन नंबर लेकर व्हाट्सएप मैसेज, व्हाट्सएप कॉल एक्सचैंज कर के उसी नंबर पर अश्लील वीडियो चला के लोगो को फंसाते थे. वीडियो रिकॉर्ड कर उन्हें मैसेज करके उनसे पैसों की डिमांड करते थे और कहते थे हमें पैसे नही दोगे तो आपकी वीडियो मार्केट में रिलीज कर देंगे और सोशल मीडिया पर डाल देंगे. गिरफ्तार तीनों युवक फर्जी क्राइम ब्रांच के अफसर बन कर कॉल करते थे और कहते थे कि आपका वीडियो बन गया है अगर आप पैसे नहीं देंगे तो यूट्यूब पर ऑनलाइन पोस्ट हो जाएगा पुलिस आपको अरेस्ट कर लेगी.
Published by:Neelesh Tripath
First published: