अपना शहर चुनें

States

6 साल की मासूम से रेप और उसे जलाकर मार डालने के केस में रामपुर कोर्ट ने सुनाई फांसी की सजा

सीलमपुर में शुक्रवार को संशोधित नागरिकता कानून के खिलाफ प्रदर्शन के हिंसा करने के मामले में गिरफ्तार 11 लोगों को 14 दिनों की न्यायिक हिरासत में भेज दिया. (प्रतीकात्मक तस्वीर)
सीलमपुर में शुक्रवार को संशोधित नागरिकता कानून के खिलाफ प्रदर्शन के हिंसा करने के मामले में गिरफ्तार 11 लोगों को 14 दिनों की न्यायिक हिरासत में भेज दिया. (प्रतीकात्मक तस्वीर)

मामले में सहायक सरकारी वकील कुमार सौरभ ने बताया कि विशेष न्यायाधीश पॉक्सो कोर्ट का मामला है. इसमें एक 6 साल की बच्ची थी, जो गायब हो गई थी. उसकी लाश डेढ़ माह बाद मिली थी. जिस दिन लाश मिली थी, उस दिन आरोपी नाज़िल को गिरफ्तार किया गया था.

  • Share this:
रामपुर. उत्तर प्रदेश में रामपुर पुलिस (Rampur Police) ने रेप और हत्या के एक मामले में न्यायालय में लगातार पैरवी कर एक बड़ी कामयाबी हासिल की है. करीब छह महीने पहले कोतवाली सिविल लाइन क्षेत्र में 6 साल की मासूम से रेप के बाद हत्या करने वाले आरोपी को विशेष न्यायालय पॉक्सो कोर्ट (Pocso Court) द्वारा फांसी (Death Sentence) की सजा सुना दी गई है.

आपको बता दें मई 2019 में छह साल की मासूम बच्ची को उसके पड़ोसी नाजिल ने बलात्कार के बाद जलाकर मौत के घाट उतार दिया था. पुलिस ने परिजनों की शिकायत के बाद तेजी से कार्यवाही करते हुए बच्ची का शव बरामद किया और आरोपी नाजिल को मुठभेड़ के दौरान गिरफ्तार किया था. कोर्ट में पुलिस ने लगातार पैरवी की और इन्वेस्टिगेशन में जो साक्ष्य थे, वो भी जल्द से जल्द पेश किए जिसके बाद फास्ट ट्रैक कोर्ट द्वारा फांसी की सजा सुनाई गई है.

इस मामले में सहायक सरकारी वकील कुमार सौरभ ने बताया कि विशेष न्यायाधीश पॉक्सो कोर्ट का मामला है. इसमें एक 6 साल की बच्ची थी, जो गायब हो गयी थी. उसकी लाश डेढ़ माह बाद मिली थी. जिस दिन लाश मिली थी, उस दिन आरोपी नाज़िल को गिरफ्तार किया गया था. रात्रि में मुठभेड़ में उसकी निशानदेही पर वहां से कुछ सामान बरामद हुआ था, जिसमे उसके फिंगरप्रिंट पाए गए थे. डीएनए रिपोर्ट आई थी.



सितंबर में कोर्ट के संज्ञान में आया केस, 3 महीने में फैसला
उन्होंने बताया कि यह मामला कोर्ट में 5 सितंबर 2019 को संज्ञान में आया था. ट्रायल शुरू हुआ था. 13 दिसंबर को नाजिल को गिल्टी होल्ड किया गया था. बच्चे के मर्डर और उसके बलात्कार में उस पर सेक्शन 302, 361, 376बी आईपीसी एवं पॉक्सो अधिनियम लगे. आज इस मामले में जो सुनवाई थी वह सुनवाई थी कि इसे क्या सजा दी जाए? वकील कुमार सौरभ ने बताया कि हमारी तरफ से यही गुजारिश की गई थी कि ये केस विरलतम श्रेणी में है. छोटी बच्ची के साथ दरिंदगी हुई है, उसका बलात्कार किया गया है. और चूंकि वह अभियुक्त को पहचानती थी बच्ची इसलिए उसे जान से मार दिया. मोटिव क्लियर था. इसके बाद जज ने फांसी की सजा सुनाई है. साथ ही 25000 का जुर्माना लगाया गया है.

रिपोर्ट: विशाल सक्सेना

ये भी पढ़ें:

बुरी तरह झुलसी फतेहपुर रेप पीड़िता की कानपुर में इलाज के दौरान मौत

उन्नाव रेप पीड़िता की जलाकर हत्या केस: आरोपियों की 12 घंटे की सशर्त रिमांड
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज