आजम और अमर सिंह के लड़ाई के ये है असली वजह
Rampur News in Hindi

अमर सिंह ने कहा कि आजम खान से मेरी लड़ाई जय प्रदा की वजह से शुरू हुई. उस वक्त मैं जया प्रदा को जानता भी नहीं था.

  • Share this:
लोकसभा चुनाव में बयानबाजियों का दौर चरम पर है. इन्हीं में से एक बीजेपी प्रत्याशी जया प्रदा पर विवादित बोल के मामले में सपा के कद्दावर नेता और रामपुर से गठबंधन के प्रत्याशी आजम खान पर पिछले दिनों चुनाव आयोग ने 72 घंटे का प्रतिबंध लगा दिया. प्रतिबंध की मियाद शुक्रवार 19 अप्रैल को खत्म हो गई. इस बीच राज्यसभा सदस्य अमर सिंह ने ऐलान किया है कि वह रामपुर आ रहे हैं. अमर सिंह जया प्रदा के समर्थन में स्वार और रामपुर में जनसभा को संबोधित करेंगे. माना जा रहा है कि अमर सिंह की रामपुर के गरम चुनावी माहौल में एंट्री से जुबानी जंग और तेज हो सकती है. अमर सिंह ने वीडियो के माध्यम से कहा है कि आ रहा हूं आजम तुम्हारी खोज खबर लेने.

वैसे लखनऊ के सत्ता के गलियारों में अमर सिंह और आजम खान के बीच अदावत की कई कहानियां प्रचलित हैं. सच क्या है, इसी को जानने के लिए पिछले दिनों न्यूज 18 ने अमर सिंह से खास बातचीत की थी, जिसमें उन्होंने कई खुलासे किए थे.

समाजवादी पार्टी (सपा) के पूर्व नेता और राज्यसभा सांसद अमर सिंह ने कहा कि आजम खान से मेरी लड़ाई जया प्रदा की वजह से शुरू हुई. उस वक्त में जया प्रदा को वह जानते भी नहीं थे. अमर सिंह ने कहा कि जया प्रदा आजम खान की उम्मीदवार थीं, और आजम खान ने हंसकर कहा था कि, 'मैं नूर बानों को अपने हूर बोनों से हराऊंगा.' उस समय आजम खान के पास एक पर्दें वाली गाड़ी हुआ करती थी. उसमें उसने जया प्रदा को बैठाया था. इसके आगे में नहीं कहूंगा.



अमर सिंह ने कहा कि इसके बाद सभी अभिनेता (धर्मेंद्र, जितेंद्र, सुनील दत्त और अमिताभ बच्चन) की घंटियां बजने लगी कि हमारी रजिया किन गुंडों में फंस गई. क्योंकि जया प्रदा इन सभी नायकों की तारिका थीं. इसके बाद मैं रजिया के पास पहुंचा. वहां बस्तियों पर बुलडोजर चलता था, ताकि धर्म-परिवर्तन कर लिया जाए. लड़की के साथ रेप और उन पर तेजाब फेंक दिया जाता था.
पूर्व सपा नेता ने कहा कि उस समय रामपुर के डॉक्टर ने कांग्रेस की टिकट पर चुनाव लड़ा था. इसके बाद उसे कहा गया कि तुम्हारी हिम्मत कैसे हुई हमारे खिलाफ चुनाव लड़ने की. इसके बाद उसे झूठे केस में फंसा कर जेल भेज दिया गया. यहां तक कि जया प्रदा को भी नहीं छोड़ा, उन पर भी बत्ती उतारने का केस लगाया गया.

अमर सिंह ने कहा कि जब मैंने मुलायम सिंह से कहा कि ये क्या हो रहा है? इस पर मुलायम सिंह ने कहा था कि वह केंद्र शासित प्रदेश है, मैं पूरे राज्य का सीएम हूं, लेकिन वह आजम का इलाका है. इस पर मैं लड़ गया. इसके बाद आजम ने मुझे गालियां दीं.

ये भी पढ़ें -

BSP की जगह BJP को डाल दिया वोट, पछतावा होने पर काट दी उंगली

हेमा मालिनी ने प्रियंका गांधी को दी चुनौती, बोलीं- मोदी के सामने आईं तो जनता देगी जवाब

एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएगी आपके पाससब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी WhatsAppअपडेट्स
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज