होम /न्यूज /उत्तर प्रदेश /

UP में 'लेटरबम' का खुलासा: ISIS का 'धमकीबाज' निकला UPSC स्टूडेंट, जानें क्या था मकसद

UP में 'लेटरबम' का खुलासा: ISIS का 'धमकीबाज' निकला UPSC स्टूडेंट, जानें क्या था मकसद

यूपी की रामपुर पुलिस ने आतंकवादी संगठन आईएसआईएस के नाम से धमकी भरे पत्र मिलने की घटना का खुलासा कर दिया है.

यूपी की रामपुर पुलिस ने आतंकवादी संगठन आईएसआईएस के नाम से धमकी भरे पत्र मिलने की घटना का खुलासा कर दिया है.

यूपी के रामपुर में बीते दिनों आईएसआईएस के धमकी भरे खत मिलने के मामले में पुलिस ने आरोपी को गिरफ्तार कर लिया है. पुलिस ने बताया कि उसी गांव का रहने वाला आरोपी खुद को हीरो बनाकर पेश करना चाहता था, ताकि वह इस कारनामे से नौकरी पा सके. वह यूपीएससी की तैयारी करता था.

अधिक पढ़ें ...

रामपुर: उत्तर प्रदेश की रामपुर पुलिस ने आतंकवादी संगठन आईएसआईएस के नाम से धमकी भरे पत्र मिलने की घटना का खुलासा कर दिया है. रामपुर के शाहबाद थाना क्षेत्र के अनवा गांव में आईएसआईएस के नाम से धमकी भरे पत्र डालने वाले आरोपी को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है. पुलिस का कहना है कि धमकी भरे पत्र भेजने का आरोपी यूपीएससी का स्टूडेंट है और वह लेटरल एंट्री सिस्टम से यूपीएससी की नौकरी पाना चाहता था. वह आईएस-आईपीएस बनना चाहता था. बता दें कि लेटर मिलने के बाद पुलिस महकमे से लेकर सुरक्षा एजेंसियां हरकत में आ गई थी और इस गुत्थी को सुलझाने में जुटी हुई थी.

दरअसल मामला कोतवाली शाहबाद के गांव अनवा का है, जहां गांव के ही कुलदीप सिंह के घर के दरवाजे पर एक लाल कपड़े में गिफ्ट पैकेट का बंडल मिला था. जब पैकेट को खोलकर देखा गया तो इसमें चार लेटर थे. इन लेटर पर कुलदीप सहित गांव के चार लोगों के नाम लिखे थे, जिनमे इन चारों को जान से मारने की धमकी दी गयी थी. लेटर उर्दू, अरबी और अंग्रेजी में लिखा गया था. लेटर भेजने वाले ने सेरिन गैस, पेन ड्राइव और नक्शे का भी जिक्र किया था. साथ ही पत्र में संगठन के एजेंटों का गांव के आस पास ही होने का जिक्र किया था. इस सूचना पर पुलिस ने जांच शुरू कर दी थी.

आखिर क्या था लेटर में
घटना 21 जुलाई की है. कुलदीप सिंह के घर पर सुबह-सुबह लाल रंग के कपड़े में लिपटा हुआ धमकी भरा पत्र रखा गया था, जिसमें आईएसआईएस पूरा नाम अरबी में लिखा हुआ था और धमकी दी गई थी कि तुम्हारे पूरे परिवार का पीछा हो रहा है. इतना ही नहीं, परिवार जान से उड़ा देने की धमकी भी दी गई थी. पत्र में कहा गया था कि हमारे पेन ड्राइव और भारत का मैप, हमारे आदमियों तक पहुंचा दो वरना तुम्हारे परिवार को उड़ा देंगे. यह घटना इस कदर बड़ा-चढ़ा कर ऐसे परोसी गई थी कि सब हलकान हो गए. इस लेटर पर आईएसआईएस का झंडा और निशान बनाया गया था.

कैसे हुआ खुलासा
इस मामले का खुलसा करते हुए एसपी ने बताया कि जांच में यह बात सामने आई है कि इस आरोपी ने कहीं पढ़ लिया था या किसी ने बताया था कि यूपीएससी में लेटरल एंट्री होती है. उसे किसी ने बताया था कि अगर वह कोई ऐसा कारनामा कर दे, जिससे उसका पूरे देश में नाम हो जाये तो उसे यूपीएससी में सीधे लेटरल एंट्री मिल सकती है. इसी वजह से उसने आतंकी साजिश रची. वह खुद साजिश रच और बाद में हीरो की तरह सामने आना चाहता था. आरोपी युवक एग्जामपुर कोचिंग में पढ़ता था. पुलिस की मानें तो आरोपी को किसी ने बताया था कि ऐसा कारनामा करने से आतंकवादियों में हलचल मचेगी. उनका मूवमेंट होगा हो और वे पकड़े जाएंगे और जब आतंकी पकड़े जाएंगे तो वह प्लानिंग के तहत सबके सामने आ जाएगा और बताएगा कि उसने ही यह प्लानिंग रची थी, जिसके बाद आतंकी गिरफ्तार हुए. उसे लगा था कि इससे उसकी वीरगाथा से प्रसन्न होकर सरकार उसे यूपीएससी से सीधे जॉब दे देगी. इसलिए उसने पूरी प्लानिंग से इस कारनामे को अंजाम दिया.

पुलिस ने आरोपी को किया गिरफ्तार
पुलिस ने कहा कि इस बात में सच्चाई इसलिए भी है, क्योंकि लेटर से उसकी हैंडराइटिंग पूरी तरह मैच करती है. लाल रंग के कपड़े के साथ वाले लेटर में जो फोटो और कपड़ा यूज किया गया है, वह बरेली से खरीदा गया था. इतना ही नहीं, आरोपी की जो गूगल सर्च हिस्ट्री है, वह बताती है कि बीते दिनों इसने आईएसआईएस को खूब सर्च किया. फिलहाल, उसके खिलाफ मुकदमा दर्ज कर कार्रवाई की जा रही है. पुलिस ने कहा कि इसने अकेले ही पूरा कारनामा किया है. यह पूरी तरह से इसका दिमागी खुराफात है. फिलहाल, उससे लगातार पूछताछ की जा रही है.

इस मामले के वादी का भतीजा ही निकला मास्टरमाइंड
हैरानी की बात है कि इस पूरी साजिश का मास्टरमाइंड वही है, जिसने पुलिस में पत्र मिलने के बाद शिकायद दर्ज कराई थी. दरअसल, 21 जुलाई को लेटर कुलदीप के घर के बाहर ही मिले थे. कुलदीप ने ही पुलिस में जाकर मुकदमा दर्ज कराया था और पुलिस की जांच के बाद हुए खुलासे में इस पूरी घटना का मास्टरमाइंड कुलदीप के भाई भानुप्रताप का बेटा अवशेष प्रताप सिंह उर्फ अभिषेक प्रताप ही निकला.

Tags: Balrampur news, Uttar pradesh news

विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर