यूपी के एक अस्पताल में दिखा गज़ब नज़ारा, चूहे पी रहे थे ग्लूकोज़ और खा गए दवाएं

गुरुवार को ज़िला कलेक्टर जब कानपुर के रावतपुर स्थित नगरीय स्वास्थ्य केंद्र औचक निरीक्षण के लिए पहुंचे वहां गंदगी और अव्यवस्थाओं से रुबरू हुए. दवाघर मे दवाएं अस्त व्यस्त बिखरी पड़ी थीं. चूहे ग्लूकोज पी रहे थे, दवा, ग्लूकोज की बोतल, इंजेक्शन दवाओं के रैपर कुतरे हुए.

Amit Ganju
Updated: July 5, 2019, 7:30 PM IST
यूपी के एक अस्पताल में दिखा गज़ब नज़ारा, चूहे पी रहे थे ग्लूकोज़ और खा गए दवाएं
यूपी के एक अस्पताल में चूहे पीते मिले ग्लूकोज़...
Amit Ganju
Updated: July 5, 2019, 7:30 PM IST
यूपी के एक अस्पताल में उस वक़्त हंगामा खड़ा हो गया जब डीएम के औचक निरीक्षण में चूहे ग्लूकोज़ पीते और दवाएं खाते नज़र आए. दवाघर मे दवाएं अस्त व्यस्त बिखरी पड़ी थीं. चूहे ग्लूकोज पी रहे थे,  दवा, ग्लूकोज की बोतल, इंजेक्शन दवाओं के रैपर चूहों ने कुतरे हुए थे.

यूपी के रावतपुर के नगरीय स्वास्थ्य केंद्र (अर्बन पीएचसी) में गुरुवार को कानपुर के जिलाधिकारी विजय विश्वास पंत औचक निरीक्षण के लिए पहुंचे तो वहां गंदगी और अव्यवस्था का अंबार लगा हुआ था. इतना ही नहीं पीएचसी प्रभारी और तीन एएनएम भी केंद्र से नदारद मिले. डीएम ने नाराजगी जताते हुए सीधे सीएमओ को फोन लगाकर स्पष्टीकरण मांगा. सेंटर की वीडियो रिकार्डिंग भी कराई गई. उन्होंने विभाग के तमाम अफसरों को तलब किया और कार्रवाई के निर्देश दिए.

अनदेखी ने स्वास्थ्य सेवाओं की सेहत बिगाड़ी
स्वास्थ्य सेवाओं के मामले में उत्तर प्रदेश ऐसे ही निचले पायदान पर नही है. अव्यवस्था व अनदेखी ने स्वास्थ्य सेवाओं की सेहत बिगाड़ दी है. चिकित्सा सुविधाएं बेहतर करने के लिये मुख्यमंत्री की ओर से पेंच कसे जाने पर अब जब अधिकारियों ने स्वास्थ्य केंद्रों का रुख शुरु किया है तो हकीकत सामने आ रही है.

चूहे ग्लूकोज पी रहे थे, दवा के रैपर कुतरे हुए मिले.
गुरुवार को जिलाधिकारी विजय विश्वास पंत रावतपुर के नगरीय स्वास्थ्य केंद्र (अर्बन पीएचसी) के औचक निरीक्षण को पहुंचे तो वहां गंदगी और अव्यवस्थाओं से रुबरू हुए. हद ये कि दवाएं अव्यवस्थित पड़ी थीं.चूहे ग्लूकोज पी रहे थे. दवा के रैपर कुतरे हुए मिले. पीएचसी प्रभारी और तीन एएनएम नदारद मिले. डीएम ने नाराजगी जताते हुए सीधे सीएमओ को फोन लगाकर स्पष्टीकरण मांगा. सेंटर की वीडियो रिकार्डिंग भी कराई गई.

स्वास्थ्य केंद्र प्रभारी और 3 एएनएम भी लापता
Loading...

जिला अधिकारी ने जब निरीक्षण किया तो  पीएचसी प्रभारी डॉ अनीता का अतापता नही था. उपस्थिति का रजिस्टर चेक किया तो तीन एएनएम भी गायब मिली. ओपीडी के रजिस्टर में रिकार्ड नही था. दवाघर मे दवाएं अस्त व्यस्त बिखरी पड़ी थीं. ग्लूकोज की बोतल, इंजेक्शन दवाओं के रैपर कुतरे हुए थे. स्टाफ से पूछताछ की तो वे बगले झांकने लगे. जिलाधिकारी ने नाराजगी जाहिर की. सेंटर मे रखे फ्रिज को चेक किया तो उसमें भी गंदगी थी.साफ सफाई की व्यवस्था ध्वस्त थीं. पता चला कि सफाई कर्मी नियमित नही आते हैं. जिस पलंग पर मरीज की जांच होती है, टूटा हुआ था, गंदी चादर बिछी हुई थी.

दिए कार्रवाई के निर्देश
इसी बीच एक घंटे देर से प्रभारी चिकित्सक वहां पहुंची. जिलाधिकारी ने उन्हें फटकारा कि आप डाक्टर हैं, मरीजों का दर्द भी समझें.  सीएमओ ने बताया कि अर्बन पीएचसी की जिम्मेदारी एसीएमओ को दी गयी है. डीएम ने सेंटर के नोडल अधिकारी सह एसीएमओ को प्रतिकूल प्रविष्ट देने का निर्देश दिया.

ये भी पढ़ें -

नई दिल्ली रेलवे स्टेशन पर एंट्री की नई दरें जल्द होंगी लागू, आधे घंटे से ज्यादा रूके तो लगेगी इतने की चपत

इस खासियत के साथ 1,2,5,10 और 20 रुपये के नए सिक्के होंगे जारी

 

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए कानपुर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: July 5, 2019, 6:59 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...