Home /News /uttar-pradesh /

गुलमोहर रोड..., कचनार पथ..., ग्रेटर नोएडा में अब ऐसे होंगे सड़कों के नाम

गुलमोहर रोड..., कचनार पथ..., ग्रेटर नोएडा में अब ऐसे होंगे सड़कों के नाम

ग्रेटर नोएडा-नोएडा में 500 से अधिक ग्रीन बेल्ट, पार्क व नर्सरी हैं. Demo Pic

ग्रेटर नोएडा-नोएडा में 500 से अधिक ग्रीन बेल्ट, पार्क व नर्सरी हैं. Demo Pic

Greater Noida News: ग्रेटर नोएडा-नोएडा में 500 से अधिक ग्रीन बेल्ट, पार्क व नर्सरी हैं. सेक्टरों में बने पार्कों की पहचान तो उनके नाम और ब्लॉक से हो जाती है, लेकिन ग्रीन बेल्ट (Green Belt) की पहचान नहीं हो पाती. उस ग्रीन बेल्ट की लोकेशन पता नहीं चल पाता, जिससे ग्रीन बेल्ट के रखरखाव में परेशानी होती है. इसलिए जल्द ही डिपो मेट्रो स्टेशन (Metro Station) से म्यू की ओर जाने वाले रोड का नाम अमलतास रोड रखा जाएगा. इसकी वजह ये है कि यहां अमलतास के पेड़ बहुत लगे हुए हैं. इसी तरह अमृतपुरम रोटरी से रामपुर रोटरी वाले रोड का नाम कचनार रोड रखा जाएगा. ऐसे ही हर एक ग्रीन बेल्ट को एक नाम दिया जाएगा.

अधिक पढ़ें ...

    ग्रेटर नोएडा. चंडीगढ़ की तर्ज पर अब ग्रेटर नोएडा में भी सड़कों के नाम पेड़ों के नाम पर रखे जाएंगे. जिससे भविष्य में ग्रीन बेल्ट को भी बचाने में मदद मिलेगी. वर्ना होता यह है कि कुछ समय बाद भूमाफिया ग्रीन बेल्ट पर कब्जा कर लेते हैं और लोगों को पता नहीं चल पाता है कि यहां पर कोई ग्रीन बेल्ट भी थी.

    शहर के पार्क, ओपन जिम और जहां भी ग्रेटर नोएडा अथॉरिटी को खाली जमीन मिल रही है वो उसे ग्रीन बेल्ट बना रही है. लेकिन बीते कुछ दिन में जो कार्रवाई हुईं उसके मुताबिक भूमाफिया ग्रीन बेल्ट पर कब्जा कर रहे हैं. इसी के चलते अथॉरिटी ने ये कदम उठाया है. अब से पार्क, ओपन जिम यहां कहीं भी ग्रीन बेल्ट होगी तो उस जगह एक ही तरह के पेड़े-पौधे लगाए जाएंगे. जिससे उन पेड़-पौधों की वजह से उसे एक नाम दिया जा सके. जैसे कहीं अगर कचनार के पेड़ लगे हैं तो उस पार्क और उसके पास की सड़क का नाम कचनार रखा जाएगा.

    20 लाख रुपये-कार लेकर ATM हैकर्स को छोड़ने का आरोपी SOG इंस्पेक्टर बर्खास्त, ऐसे मिले सुबूत 

    पेड़-पौधों के नाम से यह होगा फायदा

    ग्रेटर नोएडा के सीईओ नरेद्र भूषण का कहना है कि अथॉरिटी तो ग्रीन बेल्ट बना देती है. लेकिन भूमाफिया उस पर कब्जा कर लेते हैं. ज्यादातर जनता को यह भी नहीं पता होता है कि यहां कभी ग्रीन बेल्ट भी थी. लेकिन जब पेड़-पौधों के नाम पर सड़क का नाम होगा तो उससे यह जरूर ध्यान रहेगा कि यहां एक ग्रीन बेल्ट है जहां इस नाम के तमाम पेड़-पौधे लगे हैं. या कोई ओपन जिम है जहां इस तरह के पेड़ लगे हैं.

    पुणे के ग्लैबरा-वोगेनवेलिया भी लगाए जा रहे हैं

    ईस्टर्न पेरिफेरल एक्सप्रेस-वे से सिरसा के रास्ते ग्रेटर नोएडा में प्रवेश करने पर पुणे के गुलाबी वोगेनवेलिया और अशोक के पेड़ लगे होंगे . प्राधिकरण ने इस जगह पुणे की ग्लैबरा प्रजाति के वोगेनवेलिया के 350 व अशोक के 250 पौधे लगवाए हैं.

    ग्रेटर नोएडा सड़कों के किनारे नर्सरी की संख्या में तेजी से इजाफा कर रहा है. रोड किनारे बनी नर्सरी में लगे हरे-भरे पौधे व रंग बिरंगे फूल दिखते हैं तो लोग इनको खरीद लेते हैं और फिर अपने घर के बालकनी के गमलों में सजाते हैं. इससे घर में भी हरियाली बढ़ रही है.

    Tags: Chandigarh, Greater noida news, Land mafia

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर