लाइव टीवी

आरएसएस नेता इंद्रेश कुमार की दारूल उलूम एंट्री पर क्यों खामोश हैं महमूद मदनी?
Saharanpur News in Hindi

नासिर हुसैन | News18Hindi
Updated: June 25, 2019, 6:03 AM IST
आरएसएस नेता इंद्रेश कुमार की दारूल उलूम एंट्री पर क्यों खामोश हैं महमूद मदनी?
दारूल उलूम के मोहतमिम और आरएसएस नेता इंद्रेश कुमार की मुलाकात के मायने निकाले जा रहे हैं

दारूल उलूम से जुड़े जानकार बताते हैं कि साल 2004 में भी इंद्रेश कुमार एक बार दारूल उलूम आ चुके हैं. लेकिन इंद्रेश कुमार की दारूल उलूम में ताज़ा एंट्री ने मौलाना वास्तानवी मामले को हवा दे दी है.

  • Share this:
यह कोई पहला मौका नहीं है जब आरएसएस (राष्ट्रीय स्वंयसेवक संघ) नेता इंद्रेश कुमार दारूल उलूम, देवबंद पहुंचे हैं. दारूल उलूम से जुड़े जानकार बताते हैं कि साल 2004 में भी इंद्रेश कुमार एक बार यहांं आ चुके हैं. लेकिन उनकी ताज़ा एंट्री ने मौलाना वास्तानवी मामले को हवा दे दी है. मौलाना वास्तानवी दारूल उलूम के पूर्व वाइस चांसलर (मोहतमिम) रहे हैं. वास्तानवी पर पीएम नरेंद्र मोदी की तारीफ करने के आरोप लगे थे. अब नए मामले में दारूल उलूम के वर्तमान मोहतमिम मौलाना मुफ्ती अबुल कासिम नोमानी बनारसी की इंद्रेश कुमार से मुलाकात को लेकर मुस्लिम समाज में कई तरह की चर्चाएं शुरू हो गई हैं. समाज से आवाज उठ रही है कि आखिर महमूद मदनी ने पूरी तरह से इस मामले पर खामोशी क्यों अख्तियार की हुई है?

इस मुलाकात को मौलाना वास्तानवी से जोड़कर तरह-तरह की दलीलें दी जा रही हैं. खुद दारूल उलूम के दो धड़ों में भी इस मुलाकात को लेकर खामोशी छाई हुई है. वहीं इन चर्चाओं के बीच दारूल उलूम के मोहतमिम ने इस मुलाकात को लेकर अपनी ओर से एक बयान भी जारी किया है.

दारूल उलूम में मुलाकात के दौरान हंसते हुए इंद्रेश कुमार और मोहतमिम मौलाना मुफ्ती अबुल कासिम नोमानी बनारसी


मौलाना वास्तानवी बोले, मुलाकात करने वाले दें जवाब

दारूल उलूम में इंद्रेश कुमार की एंट्री और मोहतमिम संग मुलाकात पर जब न्यूज18 हिन्दी ने मौलाना वास्तानवी से बात करनी चाही तो उनका कहना था, “मैं इस बारे में क्या कह सकता हूं. इस मामले पर मुझसे सवाल करने से अच्छा है कि मुलाकात करने वालों से पूछा जाए. सवाल उनसे किया जाए जिन्होंने इंद्रेश कुमार को रिसेप्शन दिया.”

महमूद मदनी ने इस तरह साधी चुप्पी
इस पूरे मामले पर जब जमीयत उलेमा-ए-हिंद के महासचिव मौलाना महमूद मदनी से बात करनी चाही तो दो दिन तक कई बार संपर्क करने की कोशिश के बाद भी उन्होंने फोन नहीं उठाया. इसके बाद हमने व्हट्सअप पर पूरा मामला बताते हुए उनका पक्ष लेने की कोशिश की तो यहां भी उन्होंने कोई जवाब नहीं दिया.
दारूल उलूम में मोहतमिम से बातचीत करते हुए इंद्रेश कुमार.


सवाल करने वाले हो गए खामोश- पूर्व सांसद अदीब
राज्यसभा के पूर्व सांसद और एएमयू छात्रसंघ के पूर्व अध्यक्ष मोहम्मद अदीब का कहना है, "मैं खुद भी देवबंद से जुड़ा रहा हूं. मुझे बड़ा अफसोस हुआ है. अगर इंद्रेश कुमार से मिलना जरूरी ही था तो मोहतमिम को एक सवाल भी करना चाहिए था कि देश में आज मुसलमान का ये हाल क्यों है. जय श्रीराम न बोलने पर कार चढ़ा दी जाती है. कभी दाढ़ी काट दी जाती है. टोपी पहनने के लिए मना किया जाता है. उनसे सवाल-जवाब भी होने चाहिए थे. दारूल उलूम की तो वो तारीख रही है कि उलेमाओं ने अंग्रेजों से लड़ाई लड़कर देश को आज़ाद कराया है. लेकिन मोहतमिम और इंद्रेश कुमार की मुलाकात के फोटो तो कुछ और ही कहानी बयां कर रहे हैं. रहा सवाल महमूद मदनी का तो वो कुछ सोच-समझकर इस मामले में खामोश हैं."

मुलाकात पर खामोशी शक को बढ़ाती है-तस्लीम रहमानी
मुस्लिम पॉलिटिकल काउंसिल ऑफ इंडिया के राष्ट्रीय सचिव तस्लीम रहमानी का कहना है, “दारूल उलूम एक ऐसी जगह है जहां कोई भी आ-जा सकता है. ऐसे में वहां किसी के आने-जाने पर कोई ऐतराज़ नहीं होना चाहिए. लेकिन हां, जब किसी खास के संग हुई मुलाकात पर खामोशी साधी जाती है तो वो  सवाल पैदा करती है और शक बढ़ाती है. होना तो ये चाहिए था कि खुद मोहतमिम या दूसरे लोग प्रेस कांफ्रेंस करके इंद्रेश कुमार संग हुई बातों और उनके आने का मकसद बताते.”

आरएसएस नेता इंद्रेश कुमार और दारूल उलूम के मोहतमिम मौलाना मुफ्ती अबुल कासिम नोमानी बनारसी से बात करते हुए.


यह मुलाकात एक इत्तेफाक है- मौलाना अबुल कासिम नोमानी
हमने इंद्रेश कुमार से मुलाकात करने वाले मौलाना मुफ्ती अबुल कासिम नोमानी बनारसी से उनका पक्ष जानना चाहा तो उन्होंने कहा, “यह एक इत्तेफाकिया मुलाकात थी.  दारूल उलूम के दरवाजे सभी के लिए खुले हुए हैं. इंद्रेश कुमार देवबंद में ही इस्लामियां कॉलेज के एक समारोह में आए थे. कॉलेज के प्रिंसिपल का फोन मेरे पास आया था. उनका कहना था कि इंद्रेश कुमार दारूल उलूम देखना चाहते हैं. अब यह भी अच्छा नहीं लगता कि कोई हमारे गेस्ट हाउस तक आए और हम उनसे न मिलें. ये मुलाकात इसी कड़ी का एक हिस्सा है. लेकिन किसी से मिलने का यह मतलब कतई नहीं है कि हम उसके नज़रिए से इत्तेफाक रखते हैं या उसे पसंद करते हैं.”



दारूल उलूम में आए सेना के अफसर से मुलाकात करते मोहतमिम ( फाइल फोटो)

इंद्रेश कुमार के बाद सेना के बड़े अफसर पहुंचे दारूल उलूम
इंद्रेश कुमार और नोमानी बनारसी की मुलाकात के ठीक बाद भारतीय सेना के एक बड़े अफसर दारूल उलूम देवबंद पहुंचे. जानकार बताते हैं कि मेजर जनरल रैंक के इस अफसर ने मोहतमिम से भी मुलाकात की. उनसे दारूल उलूम के बारे में कई जानकारियां लींं. दारूल उलूम देखा. कई और दूसरे लोगों से भी मुलाकात की.

ये भी पढ़ें- मोदी सरकार ने की थी सस्ती, मेट्रो और बस किराए से महंगी हुई हज यात्रा

मोदी सरकार का मुस्लिम लड़कियों को एक और बड़ा तोहफा

आरएसएस नेता इंद्रेश कुमार का ये है ‘मिशन कश्मीर’

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए सहारनपुर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: June 24, 2019, 10:23 AM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर