Assembly Banner 2021

COVID-19: जायज है रोजे के दौरान कोरोना वायरस संक्रमण की जांच- दारूल उलूम

उन्होंने कहा कि रोजे की हालत में कोरोना वायरस जांच के लिये नाक और हलक का गीला अंश देना जायज है.  (सांकेतिक फोटो)

उन्होंने कहा कि रोजे की हालत में कोरोना वायरस जांच के लिये नाक और हलक का गीला अंश देना जायज है. (सांकेतिक फोटो)

दारूल उलूम के मीडिया प्रभारी मुशर्रफ उस्मानी (Musharraf Usmani) ने बताया कि बिजनौर के एक व्यक्ति ने दारूल उलूम के इफता विभाग से सवाल किया था कि क्या रोजे की स्थिति में कोरोना वायरस की जांच कराई जा सकती हैं.

  • Share this:
सहारनपुर. उत्तर प्रदेश के सहारनपुर (Saharanpur) जिले के देवबंद में इस्लामिक शिक्षण संस्थान दारूल उलूम (Darul Uloom) ने रमजान के महीने में रोजे के दौरान कोरोना वायरस (Corona virus) संक्रमण की जांच कराने को जायज बताया है. इस रमजान में हालात पुरी तरह बदले हुए हैं और लोग अपने घरों में ही नमाज अदा कर रहे हैं. मुस्लिम समाज में रोजे के दौरान कोरोना वायरस संक्रमण की जांच को लेकर शंकाएं हैं और इन शंकाओं को दूर करते हुए दारूल उलूम ने सोमवार को एक फतवा जारी कर जांच को जायज बताया और स्पष्ट किया कि इस जांच से रोजा नहीं टूटेगा .

दारूल उलूम के मीडिया प्रभारी मुशर्रफ उस्मानी ने बताया कि बिजनौर के एक व्यक्ति ने दारूल उलूम के इफता विभाग से सवाल किया था कि क्या रोजे की स्थिति में कोरोना वायरस की जांच कराई जा सकती हैं.  उन्होंने बताया कि इस सम्बध में चार सदस्यीय समिति ने फतवा संख्या एन 549 के माध्यम से सोमवार को अपने जबाव में बताया कि कोरोना वायरस संक्रमण की जांच के लिये नाक और मुहं में रूई लगी स्टिक डाली जाती है जिस पर कोई दवा या कैमिकल नहीं लगा होता, इसलिये इस जांच से रोजे पर कोई असर नहीं पड़ता. रोजे की हालत में कोरोना वायरस जांच के लिये नाक और हलक का गीला अंश देना जायज है.

सारी दुनिया कोरोना वायरस से लड़ रही है
उस्मानी ने बताया कि दारूल उलूम रमजान से पहले ही लोगों से घरों में रहकर रमजान की सारी इबादत करने की अपील कर चुका है. दारूल उलूम के मोहतमिम मौलाना अबुल कासिम नोमानी ने कहा ,‘‘ सारी दुनिया कोरोना वायरस से लड़ रही है. ऐसे समय में मुसलमानों को ज्यादा सब्र के साथ काम करने की आवश्यकता है.’’
दूसरी बार की जांच में कोरोना पॉजिटिव पाया गया था


बता दें कि बीते दिनों सहारनपुर जिले में विदेशी जमातियों के लिए बनाई गई अस्थायी जेल में बंद जमाती दूसरी बार की जांच में कोरोना पॉजिटिव पाया गया था. इससे जिला प्रशासन में हड़कंप मच गया था. शुक्रवार को जिन 7 लोगों की कोरोना जांच रिपोर्ट आई है उसमें महाराष्ट्र का एक जमाती दूसरी रिपोर्ट में कोरोना पॉजिटिव पाया गया है. ऐस में अब फिर से अस्थाई जेल के सभी जमातियों सहित जेल स्टाफ और कर्मचारियों की टेस्टिंग की जाएगी, साथ ही जेल को फिर से सेनेटाइज किया जाएगा. इसके अलावा प्रशासन की ओर से यहां कैद सभी जमातियों को अब दूसरी जगह शिफ्ट किया जा रहा है. इस मामले की जानकारी सहारनपुर एसपी सिटी विनीत भटनागर ने दी थी.

ये भी पढ़ें- 

COVID-19: 3 मई के बाद भी स्कूल, मॉल रह सकते हैं बंद, फैसला अगले हफ्ते

कोरोना वायरस: MHA ने कहा- प्रवासी मजदूरों के लौटने से ग्रामीण क्षेत्र को खतरा
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज