Home /News /uttar-pradesh /

कृषि कानूनों को वापस लेने का मुस्लिम नेता अरशद मदनी ने किया स्वागत, बोले- CAA भी हो निरस्त

कृषि कानूनों को वापस लेने का मुस्लिम नेता अरशद मदनी ने किया स्वागत, बोले- CAA भी हो निरस्त

Saharanpur: मदनी ने कहा- जनता ने एक बार फिर किसानों के रूप में अपनी ताकत का परिचय दिया है. (फाइल फोटो)

Saharanpur: मदनी ने कहा- जनता ने एक बार फिर किसानों के रूप में अपनी ताकत का परिचय दिया है. (फाइल फोटो)

Saharanpur News: मौलाना मदनी ने कहा कि एक बार फिर सच्चाई सामने आ गई है कि अगर किसी जायज मकसद के लिए ईमानदारी और धैर्य के साथ आंदोलन चलाया जाए तो एक दिन भी बिना सफलता के नहीं जाता है. साथ ही उन्होंने कहा, इस सच्चाई से भी इंकार नहीं किया सकता है की किसानों के लिए इतना मजबूत आंदोलन चलाने का रास्ता सीएए के खिलाफ आंदोलन में मिला. महिलाएं और यहां तक ​​कि बुजुर्ग महिलाएं भी दिन-रात सड़कों पर बैठी रहीं, आंदोलन में शामिल होने वालों पर जुल्म के पहाड़ टूट पड़े.

अधिक पढ़ें ...

सहारनपुर. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Modi) ने तीन नए कृषि कानून (New Farm Laws) वापस लेने का ऐलान किया है. इसी कड़ी में जमीयत उलमा-ए-हिंद के अध्यक्ष मौलाना सय्यद अरशद मदनी (Maulana Arshad Madani) ने सरकार द्वारा तीन कृषि कानूनों को वापस लेने की घोषणा का स्वागत करते हुए सीएए कानून को वापस लेने की मांग की है. देवबंद में जारी बयान में मौलाना अरशद मदनी ने कहा कि कृषि कानून वापसी के फैसले ने यह साबित कर दिया है कि लोकतंत्र और लोगों की शक्ति सर्वोपरि है. जो लोग सोचते हैं कि सरकार और संसद अधिक शक्तिशाली हैं, वह बिल्कुल गलत हैं. जनता ने एक बार फिर किसानों के रूप में अपनी ताकत का परिचय दिया है. उन्होंने यह भी कहा कि इस आंदोलन की सफलता यह भी सीख देती है कि किसी भी जन आंदोलन को जबरदस्ती कुचला नहीं जा सकता है.

उलमा-ए-हिंद के अध्यक्ष मौलाना सय्यद अरशद मदनी ने कहा कि हमारे किसान भाई इसके लिए बधाई के पात्र हैं, क्योंकि उन्होंने इसके लिए महान बलिदान दिया है. सफलता पर मौलाना मदनी ने कहा कि एक बार फिर सच्चाई सामने आ गई है कि अगर किसी जायज मकसद के लिए ईमानदारी और धैर्य के साथ आंदोलन चलाया जाए तो एक दिन भी बिना सफलता के नहीं जाता है. साथ ही उन्होंने कहा, इस सच्चाई से भी इंकार नहीं किया सकता है की किसानों के लिए इतना मजबूत आंदोलन चलाने का रास्ता सीएए के खिलाफ आंदोलन में मिला. महिलाएं और यहां तक ​​कि बुजुर्ग महिलाएं भी दिन-रात सड़कों पर बैठी रहीं, आंदोलन में शामिल होने वालों पर जुल्म के पहाड़ टूट पड़े.

Narendra Giri Death Case: CBI के हाथ लगा ऑडियो क्लिप, जेल पहुंचकर आनंद गिरि का लिया वॉइस सैंपल

आंदोलन में शामिल लोगो पर गंभीर मुकदमे लगाये गये, लेकिन आंदोलन को कुचला नहीं जा सका. मौलाना मदनी ने कहा कि हमारे प्रधानमंत्री कहते हैं कि हमारे देश का संविधान लोकतांत्रिक है, इसलिए यह अपनी जगह पर सही है, इसलिए अब प्रधानमंत्री को मुसलमानों के संबंध में लाए गए कानूनों पर भी ध्यान देना चाहिए, और कृषि कानूनों की तरह. सीएए कानून को भी वापस लिया जाना चाहिए, उन्होंने कहा, हालांकि आंदोलन में शामिल लोग कोरोना के कारण अपने घरों को लौट आए थे, फिर भी वे विरोध कर रहे थे.

Tags: CAA protest, Modi government, New Farm Laws, PM Modi, UP Election 2022, UP news, Yogi government, सहारनपुर

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर