होम /न्यूज /उत्तर प्रदेश /Saharanpur: बंदरिया और कुत्ते की अनोखी दोस्ती, दोनों के बीच मां-बेटे जैसा प्यार

Saharanpur: बंदरिया और कुत्ते की अनोखी दोस्ती, दोनों के बीच मां-बेटे जैसा प्यार

आश्रम में रहते हुए अंजनी और चिचू की अनोखी दोस्ती की शुरुआत हुई. तभी से अंजनी इस पिल्ले को अपने पास ही रखती है. इसका खान ...अधिक पढ़ें

    निखिल त्यागी

    सहारनपुर. उत्तर प्रदेश के सहारनपुर में एक कुत्ते और बंदरिया की अनोखी दोस्ती चर्चा का विषय बनी हुई है. इन दोनों की दोस्ती की अलग ही दास्तां है. इंसानों की दोस्ती के किस्से अक्सर सुनने को मिलते हैं, लेकिन दोस्ती का यह किस्सा अपने आप में मनमोहक है. ऐसा नजारा कम देखने को मिलता है जब कोई जानवर किसी दूसरे जानवर की मदद करता है. न्यूज़ 18 लोकल आज बंदरिया और कुत्ते की अनोखी दोस्ती के बारे में बता रहा है.

    इस बंदरिया का नाम अंजनी है जो लगभग एक साल पहले रेस्क्यू कर के बालाजी घाट स्थित आश्रम में लायी गयी थी. घाट के पास की एक बस्ती में इसको करंट लग गया था जिससे वो घायल हो गयी थी. बंदरिया को करंट लगने के बारे में आश्रम के लोगों को पता लगा तो वो उसे लेकर आश्रम में आए. यहां उसका इलाज करवाया गया जिसके बाद अंजनी स्वस्थ हो गयी. तब से वो इस आश्रम में खुशी-खुशी रह रही है.

    गलती से आ गया था वाहन के नीचे

    दूसरी ओर, कुत्ते के छोटे से बच्चे चिचू की कहानी भी अंजनी की तरह ही है. यह गलती से किसी वाहन के नीचे आ गया था और बुरी तरह जख्मी हो गया था. मोहल्ले के रहने वाले सनी से इसकी हालत देखी नहीं गई. वो चिचू को उठाकर बालाजी आश्रम में ले आया और इसका उपचार कर के इसको भी स्वस्थ किया.

    आश्रम में दोनों की अनोखी दोस्ती

    आश्रम में रहते हुए अंजनी और चिचू की अनोखी दोस्ती की शुरुआत हुई. तभी से अंजनी इस पिल्ले को अपने पास ही रखती है. इसका खाना-पीना भी अंजनी के पास किया जाता है. कुत्ते का यह छोटा बच्चा अंजनी को अपनी मां समझता है और दिन-रात उसके ही साथ रहता है. अगर अंजनी को लगता है कि चिचू को कोई खतरा है तो वह गुस्सा भी हो जाती है.

    कुत्ते और बंदरिया की दोस्ती की बात सुनकर लोग दूर-दूर से इन्हें देखने के लिए आश्रम में आते हैं और इनकी दोस्ती का पूरा आनंद लेते हैं.

    Tags: Friendship Day, Saharanpur news, Up news in hindi

    टॉप स्टोरीज
    अधिक पढ़ें