Assembly Banner 2021

लॉकडाउन का उल्लंघन करने वालों के खिलाफ सहारनपुर पुलिस सख्‍त, अब तक वसूला इतना जुर्माना

सहारनपुर में लॉकडाउन को लेकर पुलिस ने सख्ती कर दी है.

सहारनपुर में लॉकडाउन को लेकर पुलिस ने सख्ती कर दी है.

लॉकडाउन के सख्‍ती से पालन के लिए उत्‍तर प्रदेश के मुख्‍यमंत्री योगी आदित्‍यनाथ (Yogi Adityanath) ने सूबे के प्रशासन और पुलिस को खास निर्देश दे रखा है. जबकि सहारनपुर में तो लॉकडाउन ( Lockdown) का उल्‍लंघन करने वालों पर पुलिस का कहर जमकर टूट रहा है.

  • Share this:
सहारनपुर. देशभर में इस वक्‍त कोरोना वायरस ( Coronavirus) का कहर जारी है, तो इसका असर उत्‍तर प्रदेश पर भी बखूबी नजर आ रहा है. इस महामारी को रोकने के लिए पूरे देश में लॉकडाउन लागू है. जबकि इस लॉकडाउन के सख्‍ती से पालन के लिए उत्‍तर प्रदेश के मुख्‍यमंत्री योगी आदित्‍यनाथ (Yogi Adityanath) ने सूबे के प्रशासन और पुलिस को खास निर्देश दे रखा है. यही वजह है कि यूपी के सभी जिलों में पुलिस लॉकडाउन का उल्‍लंघन करने वालों के खिलाफ सख्‍त एक्‍शन ले रही है. वहीं, सहारनपुर में तो लॉकडाउन का उल्‍लंघन करने वालों पर पुलिस का कहर जमकर टूट रहा है और अब तक लोग एक करोड़ 36 लाख रुपये से अधिक का जुर्माना दे चुके हैं.

पुलिस कर रही है ये काम
कोरोना वायरस के मामले बढ़ने के साथ सहारनपुर में लॉकडाउन को लेकर पुलिस ने सख्ती कर दी है. जबकि इस दौरान इमरजेंसी सेवा को छोडकर घर से बाहर निकलने वालों के चालान किए जा रहे हैं. शहर में विभिन्न स्थानों पर लॉकडाउन का उल्लंघन करने वालों के पुलिस ने चालान काटे और बिना वजह शहर में निकलने वालों को सबक सिखाने के लिए उनसे उठक-बैठक तक करवा डाली. इस तरह रोजाना सहारनपुर में लोगों के खिलाफ कार्रवाई हो रही है लेकिन लोग बिल्कुल भी सुधरने को तैयार नहीं है.

एसएसपी  कार्यालय ने दी ये जानकारी
एसएसपी कार्यालय की रिपोर्ट के अनुसार 23 मार्च से 5 मई तक सहारनपुर के लोग एक करोड़ 36 लाख रुपये से अधिक का जुर्माना दे चुके हैं. हालांकि इतनी बड़ी रकम चुकाने के बाद भी जिले के लोग लॉकडाउन का पालन ठीक से नहीं कर रहे हैं.



कोरोना संकट में हवा हुई साफ
कोविड-19 से निपटने के लिए देशभर में 17 मई तक लॉकडाउन लागू है. इसके चलते पर्यावरण और नदियां बहुत तेजी से स्वच्छ हो रहे हैं. सहारनपुर में वायु प्रदूषण बताने वाला वायु गुणवत्ता सूचकांक (AQI) 40 से भी नीचे पहुंच गया है. हवा में प्रदूषण के तौर पर उड़ने वाले कण गायब हो चुके हैं. यही वजह है कि अब बर्फ से ढकी पहाड़ियां, पर्वत श्रृंखलाएं साफ दिखाई देने लगी हैं. इन पहाड़ियां एयर डिस्टेंस के हिसाब से 200 से 225 किलोमीटर दूर बताई जा रही हैं.

ये भी पढ़ें

UP 69 हजार शिक्षक भर्ती: हाईकोर्ट से योगी सरकार को बड़ी राहत, कट ऑफ पर लगी मुहर

Good News! लखनऊ में 161 कोरोना मरीज ठीक होकर घर लौटे, अभी 80 का चल रहा इलाज

 
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज