COVID-19: सहारनपुर में चूहों का खौफ, टेंट व्यवसायियों ने दुकान खोलने की मांगी अनुमति

टेंट व्यवसाइयों ने डीएम को सौंपी चिट्ठी
टेंट व्यवसाइयों ने डीएम को सौंपी चिट्ठी

व्यापारियों का कहना है कि हम कोरोना से भले ही बच जाएं लेकिन चूहे हमें मार डालेंगे, व्यापारियों बताया कि चूहों ने प्रतिष्ठानों के अंदर और गोदामों में उधम मचा रखा है अगर खोलने की अनुमति नहीं मिली तो ये सारा सामान कुतर डालेंगे...

  • Share this:
सहारनपुर. जनपद कलेक्ट्रेट में आज उस समय अजीबो-गरीब स्थिति हो गई जब चूहों (Rats) से परेशान टेंट व्यवसाई डीएम से अपनी दुकानों को खोलने की अनुमति मांगने पहुंचे. दरअसल वैश्विक महामारी कोरोना वायरस (Pandemic Coronavirus) के संक्रमण से बचाव के मद्देनजर देशव्यापी लॉकडाउन (Lockdown) अपने चौथे चरण में है. काम -धंधे सब ठप हैं. लोगों की परेशानियों को देखते हुए और अर्थव्यवस्था को पटरी पर लाने के लिए लॉकडाउन 4.0 में बहुत सी दुकानों व व्यापारिक प्रतिष्ठानों को खोलने के अनुमति दी गई है लेकिन जनपद सहारनपुर में ये अजब वाकया सामने आया है. यहां कोरोना नहीं बल्कि चूहों से परेशान टेंट व्यापारियों ने कलेक्ट्रेट में जाकर डीएम को अपनी दुकाने खोलने की अनुमति के लिए चिट्ठी सौंपी.

सरकार से मांगी आर्थिक मदद
दरसअल देश में कोरोना महामारी के चलते सरकार द्वारा पूरे देश में तालाबंदी कर दी गई. मगर लॉकडाउन-4 में उत्तर प्रदेश समेत कई राज्यों ने जरूरत की सामानों की दुकान नियमानुसार खोलने की इजाजत दे दी है. लेकिन सहारनपुर में चूहों से परेशान कुछ टेंट व्यापारी जिलाधिकारी से दुकानें खोलने की अनुमति मांगने गए और साथ में सरकार से आर्थिक मदद की मांग भी की है. जिलाधिकारी से मिलकर इन्होने बताया कि उनके गोदामों में कपड़े का सामान अधिक होता है. इस दौरान बरसात होने से सामान भी भीग गया है और काफी सामान खराब होने की भी आशंका है. जिससे वो बर्बाद हो जाएंगे. इसलिए उन्हें गोदाम और प्रतिष्ठान खोलने की अनुमति दी जाए.

टेंट हाउस खोले जाने की अनुमति के प्रश्न पर जिलाधिकारी अखिलेश सिंह ने व्यापारियों से कहा कि अभी लॉकडाउन में किसी प्रकार के आयोजन भी नहीं हो रहे हैं फिर प्रतिष्ठान खोलकर आप लोग क्या करेंगे ? इस पर व्यापारियों ने जवाब दिया कि साहब हमें कुछ बेचना नहीं है. सिर्फ गोदाम खोलने और झाड़ू लगाने की अनुमति दे दी जाए. अगर ऐसा नहीं हुआ तो हम बर्बाद हो जाएंगे. कोरोना से भले ही बच जाएं लेकिन चूहे हमें मार डालेंगे. व्यापारियों बताया कि चूहों ने प्रतिष्ठानों के अंदर और गोदामों में उधम मचा रखा है. अगर समय से प्रतिष्ठान नहीं खुले तो चूहे सारा सामान बर्बाद कर देंगे. कपड़ों ( टैंट ) को काट देंगे. इसी खौफ के चलते शायद ये व्यापारी सोशल डिस्टेंसिंग का पाठ भी भूल गए और बड़ी संख्या में जिलाधिकारी कार्यालय के बाहर एकत्रित दिखाए दिए. व्यापारियों की व्यथा सुनने के बाद जिलाधिकारी अखिलेश सिंह ने फिलहाल प्रतिष्ठान स्वामियों को जल्द ही इस पर कुछ निर्णय लेने का आश्वासन दिया है.
ये भी पढ़ें- राहुल व प्रियंका गांधी ने जेल में बंद कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष के माता-पिता से की बात, बोले- घबराएं मत



 
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज