कैराना की तर्ज पर 'यह मकान बिकाऊ है' लिखकर सहारनपुर से हिंदू परिवार ने किया पलायन

अमित का कहना है कि एक संप्रदाय बाहुल्य इस गांव में दबंगों के खौफ के चलते घर से निकलना मुश्किल हो गया था. आए दिन ये लोग पैसे छीन लेते हैं.

RAJNEESH DIXIT | News18 Uttar Pradesh
Updated: June 22, 2018, 6:52 PM IST
RAJNEESH DIXIT | News18 Uttar Pradesh
Updated: June 22, 2018, 6:52 PM IST
कैराना की तर्ज पर सहारनपुर में भी मकान पर बिकाऊ का बोर्ड लगाकर पलायन करने का सनसनीखेज मामला सामने आया है. यहां दबंगों से परेशान होकर एक हिंदू परिवार ने गांव छोड़कर उत्तराखंड में शरण ली है. मामला देवबंद के बन्हेड़ा खास गांव का है. यहां दबंगों की धमकी से परेशान प्रजापति समाज का एक परिवार पलायन कर गया. आरोप है कि दबंगों द्वारा की गई मारपीट और शोषण की शिकायत पुलिस से करने के बावजूद कोई कार्रवाई न होने पर परिवार ने घर बेचकर पलायन करने का फैसला किया.

सहारनपुर की देवबंद कोतवाली क्षेत्र के गांव बन्हेड़ा निवासी अमित प्रजापति ने कहा कि सात दिन पहले गांव के ही दूसरे संप्रदाय के एक व्यक्ति से उधार की रकम का तकादा करने को लेकर विवाद हो गया था. आरोपी के खिलाफ तहरीर देने पर भी पुलिस ने कार्रवाई नहीं की. इससे आरोपी पक्ष का हौसला और बढ़ गया. अब दबंग पीड़ित परिवार के लोगों को धमका रहे थे और उनका मानसिक उत्पीड़न कर रहे थे.

ये भी पढ़ें- कैराना उपचुनाव में जीत के जश्न के दौरान RLD समर्थकों ने बीजेपी नेता के घर किया पथराव

अमित का कहना है कि एक संप्रदाय बाहुल्य इस गांव में दबंगों के खौफ के चलते घर से निकलना मुश्किल हो गया था. आए दिन ये लोग पैसे छीन लेते हैं. जीना दूभर हो गया है. इसलिए, अमित और सोहनलाल आदि के परिवार गांव से सामान भर कर उत्तराखंड के कस्बा झबरेड़ा में पलायन कर गए. इनलोगों ने कैराना की तर्ज पर अपने मकान पर लिख दिया कि 'यह मकान बिकाऊ है.



उधर पुलिस के आलाधिकारी पलायन के बात को नकारते हुए पूरे मामले पर गोलमोल जवाब देते नजर आ रहे हैं. एसपी देहात विद्या सागर मिश्रा ने कहा कि पिछले शुक्रवार को दो पक्षों में आपस में कहा सुनी हुई थी. इस सूचना पर डायल 100 भी पहुंची थी. थानाध्यक्ष और क्षेत्राधिकारी देवबंद भी पहुंचे थे. उस वक्त गांववालों द्वारा बताया गया कि दोनों पक्षों में समझौता करा दिया गया है. उन्होंने कहा कि एक पक्ष के द्वारा तहरीर देने के आधार पर मुकदमा दर्ज कर लिया गया है. वैधानिक कार्रवाई की जा रही है.

वहीं मामले में ग्रामीणों का कहना है कि पीड़ित परिवार को मनाकर गांव का सौहार्द फिर से कायम किया जाएगा.

ये भी पढ़ें- यूपी पुलिस के सिपाही ने लेडी डांसर के साथ जमकर लगाए ठुमके, VIDEO वायरल

UP के राज्यपाल को नहीं मिली 'पोस्टल बैलेट' की सुविधा, जाएंगे मुंबई
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर