Saharanpur news

सहारनपुर

अपना जिला चुनें

'देशद्रोही' शरजील इमाम को सरेआम गोली मार देनी चाहिए- संगीत सोम

देश विरोधी भाषण देने के आरोपी शरजील इमाम को दिल्ली पुलिस ने बिहार के जहानाबाद से गिरफ्तार किया था (File Photo)

देश विरोधी भाषण देने के आरोपी शरजील इमाम को दिल्ली पुलिस ने बिहार के जहानाबाद से गिरफ्तार किया था (File Photo)

बीजेपी के एमएलए संगीत सोम (Sangeet Som) ने एक बार फिर विवादित बयान दिया है. उन्होंने नागरिकता कानून (Citizenship Law) के खिलाफ विरोध और प्रदर्शन कर रही महिलाओं को कहा है कि उनके पास कोई काम नहीं है.

SHARE THIS:
सहारनपुर. बीजेपी (BJP) के विधायक संगीत सोम (Sangeet Som) ने एक बार फिर विवादित बयान दिया है. उन्होंने नागरिकता कानून (CAA) के खिलाफ विरोध-प्रदर्शन कर रही महिलाओं पर कहा है कि उनके पास कोई काम नहीं है. साथ ही उन्होंने इस बात की भी जांच कराने की मांग की कि इन प्रदर्शनों के लिए कैसे फंडिंग हो रही है. न्यूज़ एजेंसी एएनआई के अनुसार मेरठ (Meerut) के सरधना से विधायक संगीत सोम ने कहा कि भारत को तोड़ने की बात करने वाले शरजील इमाम (Sharjeel Imam) जैसे लोगों को सरेआम गोली मार देनी चाहिये. उन्होंने कहा कि संसद में यह बिल पास होने के बाद मुस्लिम समुदाय इस कानून के खिलाफ लगातार प्रदर्शन कर रहा है.



CAA-NRC के खिलाफ देश भर में विरोध-प्रदर्शन
बता दें कि संशोधित नागरिकता कानून (CAA) का विरोध में दिल्ली के शाहीन बाग में पिछले 46 दिन से जारी धरना जारी है. प्रदर्शनकारियों का कहना है कि सीएए और एनआरसी उनकी नागरिकता को छीनने वाला कानून है. इसके अलावा देश के कई हिस्सों में भी इस तरह के प्रदर्शन हो रहे हैं. वहीं धरना-प्रदर्शनों को लेकर राजनीति भी चरम पर है. दिल्ली के चुनावी मौसम में बीजेपी के कई नेताओं ने शाहीन बाग धरने को लेकर हाल-फिलहाल विवादास्पद बयान दिये हैं.

संगीत सोम, बीजेपी विधायक, फंडिंग, संशोधित नागरिकता कानून, उत्तर प्रदेश, Sangeet Som, BJP MLA, Funding, CAA, Uttar Pradesh
मेरठ के सरधना से बीजेपी विधायक संगीत सोम से एक बार फिर विवादित बयान दिया है (फोटो: ANI)


दिल्ली विधानसभा चुनाव के दौरान दिया गया विवादित बयान
विवादित बयान देने के कारण बीजेपी के दो नेताओं को चुनाव आयोग के कड़े एक्शन का सामना करना पड़ा है. बीजेपी नेता और केंद्रीय मंत्री अनुराग ठाकुर और परवेश वर्मा को विवादित बयान देने के बाद पहले स्टार प्रचारक की लिस्ट से बाहर किया गया. इसके बाद चुनाव प्रचार में जाने के लिए कुछ दिनों की रोक भी लगा दी गई है.

ये भी पढ़ें: 

ITO के पास से पुलिस ने जामिया के प्रदर्शनकारियों को हटाया, जानिए ताजा अपडेट

जामिया फायरिंग की जांच करेगा क्राइम ब्रांच, घायल छात्र से मिलने पहुंचे आजाद

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

सहारनपुर: पानी की बाल्टी में गिरने से डेढ़ साल के मासूम की मौत, परिवार में मचा कोहराम 

UP News: सहारनपुर में एक डेढ़ साल के मासूम की पानी की बाल्टी में डूबने से मौत हो गई.

Saharanpur News: घटना सहारनपुर के थाना नकुड़ क्षेत्र के अंबेहटा कस्बे में सफिया कालोनी की है. यहां दिलशाद का मासूम बेटा कासिम लकड़ी के टुकड़े से लेकर खेल रहा था. खेलते-खेलते लकड़ी का टुकड़ा पानी से भरी बाल्टी में गिर गया.

SHARE THIS:

सहारनपुर. उत्तर प्रदेश के सहारनपुर (Saharanpur) के थाना नकुड़ क्षेत्र के अंबेहटा कस्बा में पानी की बाल्टी में डूबने से एक डेढ़ साल के मासूम बच्चे की मौत (Death) हो गई. उसकी मां घर के काम में मशगूल थी, इसी दौरान बच्चा खेलते-खेलते पानी से भरी बाल्टी में गिर गया. मासूम की मौत से घर में कोहराम मच गया. मां का रो-रोकर बुरा हाल है.

घटना सहारनपुर के थाना नकुड़ क्षेत्र के अंबेहटा कस्बे में सफिया कालोनी की है. यहां बीती शाम दिलशाद का मासूम बेटा कासिम लकड़ी के टुकड़े से लेकर खेल रहा था. इसी दौरान खेलते-खेलते लकड़ी का टुकड़ा पानी से भरी बाल्टी में गिर गया. लकड़ी के टुकड़े को निकालने के लिए मासूम बच्चा बाल्टी के सहारे ही खड़ा होकर उसे निकालने लगा. इसी प्रयास में बच्चा मुंह के बल पानी से भरी बाल्टी में जा गिरा. कुछ ही मिनटों में मासूम की मौत हो गयी.

डेढ़ साल का कासिम आंगन में लकड़ी के टुकड़े से खेल रहा था और मां घर के कामों में व्यस्त थी. बच्चा बाल्टी में मुंह के बल गिरा तो उसकी आवाज तक नहीं निकल सकी. काफी देर बाद जब बच्चे की मां आंगन में आई तो उसने देखा की बच्चा पानी में डूबा पड़ा है और उसकी सांस भी नहीं चल रही. यह देखकर मां की चीख निकल गई.

चीख सुनकर परिवार और मोहल्ले के आसपास के लोग इकट्‌ठा हो गए. बच्चे को पास के सरकारी अस्पताल में ले जाया गया. जहां पर चिकित्सक ने बच्चे को मृत घोषित कर दिया. बच्चे की मौत से घर में मातम का माहौल है.

मृतक बच्चे का पिता दिलशाद पुताई का काम करता है. कुछ दिन पहले ही वह काम करने के लिए बाहर गया था. दिलशाद के पांच बच्चों में कासिम सबसे छोटा था. आसपास के लोगों ने पिता को बच्चे की सूचना दी.

सिंथेटिक दूध बनाया या बेचा तो आरोपी पर लगाया जाएगा NSA

 मंडलायुक्त लोकेश एम.के निर्देश, सिंथेटिक दूध बनाने वालों पर लगाएं एनएसए.

मंडलायुक्त लोकेश एम. ने राशन प्राप्त करने वाले व्यक्तियों की पात्रता और अपात्रता मानकों को लेकर विस्तृत रिपोर्ट तलब की है. उन्होंने इसके साथ ही दूध में मिलावट करने वाले तथा सिंथेटिक दूध बनाने वालों के विरूद्ध एनएसए के तहत कार्रवाई करने के निर्देश दिए.

SHARE THIS:

सहारनपुर. मंडलायुक्त लोकेश एम. (Commissioner Lokesh M) ने मण्डल में राशन प्राप्त करने वाले व्यक्तियों की पात्रता और अपात्रता मानकों को लेकर विस्तृत रिपोर्ट तलब की है. उन्होंने निर्देश दिए कि मण्डल के कुल राशन कार्ड धारकों के सापेक्ष कितना राशन प्राप्त होता है इसकी स्थिति स्पष्ट की जाए. कोटे की दुकानों के आवंटन से संबंधित शासनादेश भी प्रस्तुत किया जाए. उन्होंने कहा कि वन टांगिया तथा वन गुर्जरों का राशन कार्ड बना है और उन्हें राशन मिल रहा है अथवा नहीं. दूध में मिलावट करने वाले तथा सिंथेटिक दूध बनाने वालों के विरूद्ध एन.एस.ए. के तहत कार्रवाई की जाए.

मंडलायुक्त ने सर्किट हाउस सभागार में मण्डलीय विकास कार्यों की समीक्षा के दौरान निर्देश दिए कि राष्ट्रीय बागवानी मिशन के तहत जनपद सहारनपुर में अमरूद की अच्छी गुणवत्ता की प्रजाति तथा मुजफ्फरनगर में केले की इलायची एवं अन्य नई प्रजाति को बढावा दिया जाए. जनपद के आम को राष्ट्रीय स्तर पर पहचान दिलाने के लिए बागवानी तथा उद्योग विभाग आपसी समन्वय स्थापित कर कार्रवाई करने के निर्देश दिए गए.

मंडलायुक्त ने कहा कि चीनी मिलों को चलाने के लिए अधिकारी अपने स्तर से सभी तैयारियां पूरी कर लें. साथ ही सभी चीनी मिलों के पंहुच मार्ग को दुरूस्त कराना सुनिश्चित करें जिससे किसानों को गन्ना पंहुचाने में कोई परेशानी न हो.

बीएसए से मांगी प्रवेश की रिपोर्ट
मण्डलायुक्त ने सहायक निदेशक बेसिक शिक्षा को निर्देश दिए कि जिन बच्चों का विद्यालय में प्रवेश 02 साल पूर्व होना था उनको अब किस कक्षा में प्रवेश दिया है, कक्षा में उतनी क्षमता है अथवा नहीं इसकी जांच कर रिपोर्ट प्रस्तुत करें. उन्होंने कहा कि यह भी सुनिश्चित किया जाए कि सभी अध्यापक स्वयं समय से विद्यालय में उपस्थित हों.

उन्होंने निर्देश दिए कि स्वरोजगार से संबंधित विभिन्न योजनाओं की पत्रावलियों का तेजी से निस्तारण कराकर संबंधित को ऋण आवंटित कराया जाए. मुख्य विकास अधिकारी को कहा कि वह जांच करें कि ऋण प्राप्त कर संबंधित मानकों के अनुरूप कार्य कर रहे हैं अथवा नहीं.

Saharanpur News: बीजेपी विधायक पर बुजुर्ग ने लगाया जमीन कब्जाने का आरोप, CM योगी से लगाई गुहार

बीजेपी विधायक देवेंद्र निम पर लगा जमीन कब्जाने का आरोप

Saharanpur News: बुजुर्ग सतीश कुमार का कहना है उन्होंने जब जिले के आला अधिकारियों से इसकी शिकायत की तो विधायक के दबाव में आकर किसी ने उनकी मदद नहीं की, जिससे निराश होकर उन्होंने अब सूबे के सीएम योगी आदित्यनाथ व बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह को पत्र लिखकर इंसाफ की गुहार लगाई है.

SHARE THIS:

सहारनपुर. सहारनपुर की रामपुर मनिहारान विधानसभा से बीजेपी विधायक देवेन्द्र निम (BJP MLA Devendra Nim) पर हकीकत नगर निवासी सतीश कुमार नाम के एक बुजुर्ग ने उनकी जमीन पर कब्ज़ा करने का आरोप लगाते हुए सीएम योगी आदित्यनाथ (CM Yogi Adityanath) व बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह (Swatantra Dev Singh) को पत्र भेजकर विधायक के खिलाफ कार्रवाई करने की मांग की है. सतीश कुमार का कहना है कि सत्ता के दम पर बीजेपी विधायक देवेंद्र निम ने उनके दिल्ली रोड स्थित एक प्लाट पर जबरन कब्ज़ा कर लिया है.

बुजुर्ग सतीश कुमार का कहना है उन्होंने जब जिले के आला अधिकारियों से इसकी शिकायत की तो विधायक के दबाव में आकर किसी ने उनकी मदद नहीं की, जिससे निराश होकर उन्होंने अब सूबे के सीएम योगी आदित्यनाथ व बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह को पत्र लिखकर इंसाफ की गुहार लगाई है. बुजुर्ग का कहना है कि विधायक लगातार उनका उत्पीड़न कर रहे है.

बीजेपी विधायक ने आरोपों को बताया बेबुनियाद
वहीं अपने ऊपर लगे सभी आरोपों को बीजेपी विधायक देवेन्द्र निम ने बेबुनियाद बताया है. विधायक का कहना है कि सतीश कुमार जिस प्लाट की बात कर रहे है वो उनके पिता जी की है और ये मामला 35 सालों से कोर्ट में विचाराधीन है. लोअर कोर्ट से लेकर हाइकोर्ट तक उन्हें इस मामले में स्टे मिला हुआ है. कुछ लोग मेरी बढ़ती लोकप्रियता के चलते सस्ती लोकप्रियता हासिल करने के लिए इस तरह का षड्यंत्र रचकर उनकी छवि खराब कर रहे है. विधायक का कहना है कि उनके साढ़े चार सालों के कार्यकाल के दौरान उनके ऊपर एक भी आरोप नहीं लगा. अब चुनाव नजदीक है तो उनके राजीनितिक विरोधी इस तरह के षड्यंत्र रच रहे है. बीजेपी विधायक देवेंद्र निम ने कहा कि उनके पास प्लाट के सभी कागज मौजूद है और वो हर तरह की जांच के लिए तैयार है.

Corona की चपेट में UP के आयुष मंत्री धर्म सिंह सैनी का पूरा परिवार, स्‍वास्‍थ्‍य विभाग में मचा हड़कंप

सहारनपुर के मुख्य चिकित्सा अधिकारी ने बताया कि मंत्री धर्म सिंह सैनी  (Dharm Singh Saini) के परिजनों को कोविड अस्पताल (Covid Hospital) में भर्ती कराया गया है. मंत्री के घर के आसपास के पूरे इलाके को सेनिटाइज किया जा रहा है.

सहारनपुर के मुख्य चिकित्सा अधिकारी ने बताया कि मंत्री धर्म सिंह सैनी (Dharm Singh Saini) के परिजनों को कोविड अस्पताल (Covid Hospital) में भर्ती कराया गया है. मंत्री के घर के आसपास के पूरे इलाके को सेनिटाइज किया जा रहा है.

SHARE THIS:

सहारनपुर. उत्तर प्रदेश के सहारनपुर जिला निवासी एवं राज्य के आयुष मंत्री डॉ. धर्म सिंह सैनी (Dharm Singh Saini) के कोरोना वायरस (Coronavirus) से संक्रमित पाए जाने के बाद उनके परिवार के कुछ सदस्यों की जांच रिपोर्ट भी पॉजिटिव आई है. जिले के मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ. बी एस सोढी ने बताया कि शनिवार को आयुष मंत्री संक्रमित पाए गए थे जिसके बाद उनके परिजनों को घर में क्वारंटाइन (Quarantine) में रखकर जांच के लिए नमूने लिए गए थे.

सोढी ने बताया कि रविवार को जिन दस लोगों की रिपोर्ट पॉजिटिव आई, उनमें आयुष मंत्री की पत्नी और बेटा भी शामिल हैं. वहीं, सोमवार को जिन 15 लोगों की कोरोना वायरस संबंधी रिपोर्ट पॉजिटिव आई, उनमें मंत्री का पौत्र और उनके घर में काम करने वाला एक सहायक भी शामिल है.

मुख्य चिकित्सा अधिकारी ने बताया कि मंत्री के परिजनों को कोविड अस्पताल में भर्ती कराया गया है. नगर निगम मंत्री के घर के आसपास के पूरे इलाके को संक्रमणमुक्त बनाने का कार्य कर रहा है. उन्होंने बताया कि जो लोग आयुष मंत्री के संपर्क में आए, उनका पता लगाकर उन्हें घर में क्वारंटाइन में रखा जा रहा है.

खांसी की शिकायत के बाद मंत्री ने कराया था कोरोना टेस्ट

जानकारी के मुताबिक, आयुष मंत्री धर्मसिंह सैनी ने गले में खराश और खांसी की शिकायत को लेकर कोरोना टेस्ट करवाया था. शनिवार को उनकी रिपोर्ट कोरोन पॉजिटिव आयी. एक दिन पहले ही मंत्री सैनी ने ढोला खेड़ी पुल का भूमि पूजन किया था. उसी के बाद उनके गले में परेशानी सामने आई. रविवार को पत्नी और बेटे की रिपोर्ट कोरोना पॉजिटिव आई.

उत्‍तर प्रदेश में 8718 एक्टिव केस
उत्‍तर प्रदेश के अपर मुख्य सचिव गृह अवनीश अवस्थी ने बताया कि इस समय प्रदेश में कोरोना के कुल मामले 28636 हैं. जबकि एक्टिव केसों की संख्या 8718 है. वहीं, कोरोना वायरस की महामारी को अब तक 19109 लोग मात देकर घर लौट चुके हैं. इसके साथ कोरोना संक्रमण से मरने वाले लोगों की कुल संख्या 809 हो गई है. इसके अलावा पिछले 24 घंटों में 25918 सैंपल टेस्ट किए गए हैं और अब तक उत्‍तर प्रदेश में कुल 8,87,997 सैंपल टेस्ट किए जा चुके हैं.

Saharanpur News: पोस्टमैन ने ग्राहकों को लगाया 5 करोड़ का चूना, मुख्य सचिव ने दिए कार्रवाई के आदेश

पोस्टमैन ने डाकघर के ग्राहकों के पांच करोड़ रुपए हड़पे.

Saharanpur Post Office Scam: आरोप है कि पोस्टमैन काफी संख्या में ग्राहकों की पासबुक अपने साथ ले गया और कई दिनों से गायब है. जब ग्राहक अपने पैसे निकलवाने के लिए मुजफ्फराबाद स्थित दूसरी शाखा में पहुंचे तो पूरे मामले का खुलासा हुआ.

SHARE THIS:

सहारनपुर. उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) के सहारनपुर (Saharanpur) जनपद के बेहट तहसील इलाके में स्थित डाकघर(Post Office) के एक कर्मचारी पर  5 करोड़ रुपए के घोटाले का आरोप लगा है. डाकघर के अधिकारियों के चक्कर काटने के बाद अब ग्राहक पुलिस (Police) की शरण मे पहुंचे और घोटाले की जांच किए जाने की मांग करते हुए तहरीर दी. आरोप ये भी है कि जब ग्राहक शिकायत लेकर कोतवाली बेहट पहुंचे तो पुलिस ने उल्टा ग्राहकों को ही बेवकूफ बता डाला.

दरअसल, पूरा मामला जनपद सहारनपुर की कोतवाली व तहसील बेहट इलाके के गांव खुरर्मपुर स्थित डाकघर का है. शुक्रवार को कोतवाली बेहट पहुंचे डाकघर के ग्राहकों ने कोतवाली बेहट पुलिस को तहरीर देते हुए बताया कि गांव खुरर्मपुर में स्थित डाकघर में करीब दो हज़ार खाताधारक है. जिनमे क्षेत्र के किसान और मजदूर शामिल है. बताया गया कि डाकघर में राजेश धीमान नाम का पोस्टमैन है. आरोप है कि पोस्टमैन काफी संख्या में ग्राहकों की पासबुक अपने साथ ले गया और कई दिनों से गायब है. जब ग्राहक अपने पैसे निकलवाने के लिए मुजफ्फराबाद स्थित दूसरी शाखा में पहुंचे तो पूरे मामले का खुलासा हुआ.  पता चला कि जिन खातों से लोग पैसे निकलवाने आ रहे है उन खातों में पैसे जमा ही नहीं हुए. जिसके बाद ग्राहकों में यह खबर आग की तरह फैल गई.

पुलिस पर भी लगा ये आरोप
कोतवाली पहुंचे ग्राहकों का कहना है कि वे डाक विभाग के अफसरों से गुहार लगा लगा कर थक चुके है. पुलिस को तहरीर देकर ग्राहकों ने बताया कि डाकखाने में करीब 5 करोड़ रुपये का घोटाला हुआ है. मामले की जांच कर कार्यवाई की जाए और ग्राहकों को उनकी रकम वापस दिलाई जाए. दूसरी ओर शिकायत लेकर कोतवाली आये ग्राहकों ने पुलिस पर भी गम्भीर आरोप लगाए. ग्राहकों का कहना था कि पुलिस मामले की जांच करने के बजाय उल्टा उन्हें ही बेवकूफ बता रही है.

मुख्य सचिव ने दिए कार्रवाई के आदेश
वहीं शनिवार को सहारनपुर पहुंचे जनपद के नोडल अधिकारी व अपर मुख्य सचिव डॉ रजनीश दुबे ने सर्किट हाउस में समीक्षा बैठक के दौरान इस ठगी को लेकर जनपद के अधिकारियों से बात की. साथ ही आरोपी के खिलाफ कार्रवाई का आदेश दिया. जिसके बाद सहारनपुर के डीएम अखिलेश सिंह ने मीडिया को बताया कि इस मामले में आरोपी के खिलाफ कार्रवाई की जा रही है. साथ ही यूपी के जनरल पोस्टमास्टर को भी इसकी रिपोर्ट भेजी जा रही है.

सहारनपुर में पेड़ से टकराई तेज रफ्तार कार, हादसे में 2 युवकों की मौत, 1 गंभीर घायल

बताया जा रहा है कि चालक ने कार पर से अपना नियंत्रण खो दिया जिससे वो सड़क किनारे पेड़ से जाकर टकरा गई (प्रतीकात्मक तस्वीर)

Uttar Pradesh News: नकुड थाना क्षेत्र के अंतर्गत ग्राम खेड़ा अफगान निवासी हैदर खान, अमजद खान और सलीम सोमवार देर रात अपनी क्रेटा कार से जा रहे थे. रात के लगभग साढ़े दस बजे जब उनकी कार नकुड फंदपुरी मार्ग पर स्थित ग्राम सढौली कदीम के पास पहुंची, तभी कार चालक का संतुलन बिगड़ गया ओर अनियंत्रित होकर कार एक पेड़ से टकरा गई

SHARE THIS:

सहारनपुर. उत्तर प्रदेश के सहारनपुर (Saharanpur) में तेज रफ्तार कार सड़क किनारे पेड़ से टकरा गई. टक्कर इतनी जबरदस्त थी कि गाड़ी के परखच्चे उड़ गए. इस दुर्घटना (Accident) में कार सवार दो युवकों की मौत हो गई जबकि एक अन्य युवक गंभीर रूप से घायल हो गया है. घटना नकुड थाना क्षेत्र के अंतर्गत एक इलाके की है. पुलिस अधीक्षक (देहात) अतुल शर्मा ने बताया कि नकुड थाना क्षेत्र के अंतर्गत ग्राम खेड़ा अफगान निवासी हैदर खान, अमजद खान और सलीम सोमवार देर रात अपनी क्रेटा कार (Creta) से जा रहे थे. रात के लगभग साढ़े दस बजे जब उनकी कार नकुड फंदपुरी मार्ग पर स्थित ग्राम सढौली कदीम के पास पहुंची, तभी कार चालक का संतुलन बिगड़ गया ओर अनियंत्रित होकर कार एक पेड़ से टकरा गई.

उन्होंने बताया कि दुर्घटना में कार में सवार तीनों लोग गंभीर रूप से घायल हो गये. इसकी सूचना मिलने पर मौके पर पहुंची पुलिस ने तीनों घायलों को राहगीरों की मदद से बाहर निकाला और एंबुलेंस से जिला अस्पताल पहुंचाया. जहां डॉक्टरों ने हैदर और अमजद को मृत घोषित कर दिया. जबकि गंभीर रूप से घायल सलीम को इलाज के लिये दूसरे अस्पताल में रेफर कर दिया गया.

एसपी अतुल शर्मा ने बताया कि हैदर और अमजद के परिजनों ने बिना किसी कानूनी कार्रवाई के उनके शवों को अपनी सुपुदर्गी मे ले लिया है. (भाषा से इनपुट)

UP Election 2022: दलितों और पिछड़ों को 'चुनावी हिन्दू' बनने से रोकेंगे चंद्रशेखर, ये रही प्लानिंग

UP Election 2022: दलितों और पिछड़ों को चुनावी हिन्दू बनने से रोकेंगे चंद्रशेखर

UP News: चंद्रशेखर लखनऊ (Lucknow) के ईको गार्डन पार्क में 69 हजार शिक्षक भर्ती के उन अभ्यर्थियों के बीच पहुंचे थे जो पिछले 70 दिनों से आंदोलन कर रहे हैं.

SHARE THIS:

लखनऊ. आजाद समाज पार्टी (भीम आर्मी) के अध्यक्ष चंद्रशेखर आजाद (Chandrashekhar Azad) ने एक बड़ा ऐलान किया है. उन्होंने कहा है कि दलित और पिछड़े चुनावी हिन्दू बनना बंद करें. चुनाव के समय तो उन्हें मुसलमानों का डर दिखाया जाता है और हिन्दू एकता की बात करके वोट लिया जाता है. लेकिन, चुनाव के बाद फिर से उन्हें दलित और पिछड़ा ही छोड़ दिया जाता है. इसके अलावा उन्होंने 2022 के विधानसभा चुनाव में संभावित गठबंधन के बारे में भी बात की है. चंद्रशेखर लखनऊ के ईको गार्डन पार्क में 69 हजार शिक्षक भर्ती के उन अभ्यर्थियों के बीच पहुंचे थे जो पिछले 70 दिनों से आंदोलन कर रहे हैं. इनका आरोप है कि सरकार ने 69 हजार शिक्षक भर्ती में आरक्षण नियमों का पालन नहीं किया है.

सवाल – छात्र तो आंदोलन कर ही रहे हैं लेकिन, आप जैसे जनप्रतिनिधि एक कदम आगे बढ़कर सरकार के नुमांइदों से बात क्यों नहीं करते?  जवाब – ये सरकार अपने मंत्रियों की तो सुनती नहीं है. सच की आवाज हमारी कहां सुनेगी. ये उनको तो समय देते नहीं है. क्या इस सरकार में दलित और पिछड़े मंत्री नहीं हैं. ये तो बड़े प्रचार कर रहे थे कि हमने इतने ओबीसी मंत्री बनाये. अरे ओबीसी और दलितों के बच्चे पीट रहे हैं. इनकी आवाज क्यों नहीं उठा सकते.

हमारे अधिकारों का किया गया यूज
मुख्यमंत्री से ये सवाल होना चाहिए था कि भाई ये बच्चे क्यों बैठे हुए हैं. ये घोटाला क्यों कर रहे हो. हमारे लोगों को क्यों सता रहे हो. उनको न्याय क्यों नहीं दे रहे हो. ये करने के बजाय इनके चुनाव प्रचार में शामिल हो रहे हैं. ये समझना चाहिए कि इससे क्या होगा, नुकसान हो रहा है. हमारे आदमी को मोहरा बनाकर हमारे ही अधिकारों के खिलाफ हथियार की तरह यूज़ किया जा रहा है.

यूनिट बनाकर चुनावी हिन्दू को रोकने का प्रयास
सवाल – 2022 के विधानसभा चुनाव में दलितों और पिछड़ों को चुनावी हिन्दू बनने से कैसे रोकेंगे?  जवाब – मैंने उसकी पूरी तैयारी कर ली है. अब हमारे कार्यकर्ता 20-20 दिन यूनिट बनाकर लोगों के बात करेंगे. हमनें हर जिले में 300 लोगों की यूनिट बनायी है. हर यूनिट में 12 वक्ता हैं. ये सभी 20 दिन फील्ड में रहेंगे. एक एक गांव में रूकेंगे. बीस गांवों में वो रहेंगे. रात और दिन घर घर जाकर बताएंगे कि बीजेपी ने साढ़े चार साल में दलितों और पिछड़ों को दिया क्या है. बीजेपी के पाखंडवाद को बताएंगे. अपने इतिहास के बारे में बताया जाएगा.

बीजेपी को रोकने के लिए होगा गठबंधन
सवाल – क्या आप भी प्रकाश राजभर के बनाये भागीदारी संकल्प मोर्चा को ज्वाइन कर रहें हैं?  जवाब – जब ज्वाइन करेंगे तो पूरी ताकत से बतायेंगे सबको. अभी एक प्रोग्राम के दौरान उनसे वार्त्ता हुई है. मैंने उनसे पूछा कि बताइये क्या हालात हैं. आपलोग बीजेपी को रोकने का क्या रास्ता बना रहे हैं. मैं समझता हूं कि चीजें बदलेंगे. अभी उनसे बात होगी और हमलोग प्रयास करेंगे कि बीजेपी को उत्तर प्रदेश में रोकें. जो समान विचारधारा के लोग होंगे उनको इकट्ठा करने का प्रयास होगा.

माइनॉरिटी लोगों के हक के लिए लड़ेंगे लड़ाई
सवाल – असदुद्दीन ओवैसी से आपकी क्या बात हुई?  जवाब – मैंने उनसे भी पूछा कि बताइये माइनॉरिटी के हकों के लिए हमलोग क्या कर सकते हैं. माइनॉरिटी की हालत पर मेरा और उनका रिकार्ड मैच करता है. सबसे ज्यादा दलित मुस्लिम और पिछड़े वर्ग के लोग जेलों में बंद हैं.

Saharanpur News: उत्तर प्रदेश से पंजाब जा रही बस पलटी, 2 यात्रियों की मौत, कई घायल

सड़क हादसे में दो लोगों की मौत हो गई है.

Saharanpur Road Accident: उत्तर प्रदेश के सहारनपुर में दर्दनाक सड़क हादसा हुआ. यात्री बस के पलटने से दो लोगों की मौत हो गई. मृतकों में 12 साल की बच्ची और एक महिला शामिल है.

SHARE THIS:

सहारनपुर. उत्तर प्रदेश  के सहारनपुर (Saharanpur) में एक दर्दनाक सड़क (Road Accident) हादसा हो गया. उत्तर प्रदेश से पंजाब (Punjab) जा रही यात्री बस दुर्घटनाग्रस्त हो गई. इस हादसे में दो यात्रियों की मौत हो गई. मृतकों में एक  बच्ची भी शामिल है. हादसे  सहारनपुर के कोतवाली देवबंद क्षेत्र में हुआ है. यहां मुजफ्फरनगर-सहारनपुर स्टेट हाईवे-59 पर साखन खुर्द नहर के नजदीक चालक ने बस से नियंत्रण खो दिया. इसके बाद अचानक बस पास की खाई में पलट गई. बस पलटते ही सवारियों में चीख पुकार और अफरातफरी मच गई. मौके पर आसपास के लोग आवाज सुनकर दौड़े. इसके बाद लोगों ने पुलिस को भी हादेस की सूचना दी. पुलिस से मिली जानकारी के मुताबिक, हादसे में 12 साल की बच्ची और एक महिला की मौत हो गई है, जबकि एक दर्जन से अधिक लोग घायल बताए जा रहे हैं.

बताया जा रहा है कि हादसा देवबंद के तल्हेड़ी बुजुर्ग थाना क्षेत्र में बुधवार देर रात करीब तीन बजे हुआ. बस चालक बदायूं से सवारियों को लेकर चंडीगढ़ जा रहा था. हादसे के बाद बस चालक मौके से फरार हो गया. रात ही में मौके पर पहुंची पुलिस ने शवों को पोस्टमार्टम के लिए भिजवा दिया.

घायल अस्पताल में भर्ती

पुलिस ने सड़क हादसे में घायल लोगों को देवबन्द के सीएचसी में भर्ती कराया गया है. पुलिस ने दोनों शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया. हादसे के बाद यात्री बस पूरी तरह क्षतिग्रस्‍त हो गई है. हादसे के बाद सड़क पर जाम लग गया था. मौके पर पहुंची पुलिस ने बस को कब्‍जे में लेकर क्रेन की मदद से रोड को सही कराया. फिर बस को साइड में करवाया गया. बाद में पुलिस  बस को थाने लेकर आ गई.

ये भी पढ़ें: गोरखपुर में बनेगी यूपी की पहली AYUSH यूनिवर्सिटी, राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद करेंगे शिलान्यास 

इस हादसे में पूजा (25 वर्ष) पत्नी सुरजीत निवासी भूराबास थाना बिलारी मुरादाबाद और सोनम (12 वर्ष) पुत्री चन्द्रपाल निवासी ढक्का रोड थाना मंझौल मुरादाबाद की मौत हुई है. इसके अलावा रोहणी पुत्री चन्द्रपाल और भुवनेश आदि सहित 15 लोग घायल हो गए. पुलिस ने बताया कि बस की रफ्तार तेज होने और अनियंत्रित होने के कारण ये सड़क हादसा हुआ है. पुलिस आगे की कार्रवाई कर रही है.

हिंदी के मशहूर कवि अशोक चक्रधर और उनकी पत्नी सड़क हादसे में घायल

Saharanpur: सड़क हादसे में  हुए प्रख्यात कवी अशोक चक्रधर

Saharanpur Road Accident: रविवार दोपहर एक बजे जैसे ही डॉ अशोक चक्रधर की कार देवबंद के फ्लाईओवर पर पहुंची, दूसरी तरफ से आ रही कार से उनकी कार की भिड़ंत हो गई. दुर्घटना में दोनों पति-पत्नी घायल हो गए.

SHARE THIS:

सहारनपुर. प्रख्यात कवि डॉ अशोक चक्रधर (Poet Ashok Chakradhar) और उनकी पत्नी एक सड़क हादसे (Road Accident) में घायल हो गए. हादसा देवबंद फ्लाईओवर पर हुआ. जिस समय हादसा हुआ डॉ अशोक चक्रधर अपनी पत्नी बागेश्री के साथ इनोवा कार द्वारा दिल्ली से मसूरी (उत्तराखंड) जा रहे थे. उनके घायल होने की सूचना पर शायर डॉ नवाज देवबंदी समेत प्रशासनिक अमला मौके पर पहुंचा और दोनों को एक निजी अस्पताल में भर्ती कराया गया. प्राथमिक उपचार के बाद उन्हें डिस्चार्ज कर दिया गया.

रविवार दोपहर करीब एक बजे जैसे ही डॉ अशोक चक्रधर की कार देवबंद फ्लाईओवर पर पहुंची, इसी दौरान दूसरी तरफ से आ रही कार से उनकी कार की भिड़ंत हो गई. दुर्घटना में दोनों पति-पत्नी घायल हो गए. डॉ अशोक ने घटना की जानकारी शायर डॉ नवाज देवबंदी को दी. डॉ नवाज द्वारा हादसे की जानकारी स्थानीय प्रशासन को दी गई. जिसके बाद एसडीएम देवबंद राकेश कुमार व कोतवाल योगेश शर्मा मौके पर पहुंचे और डॉ अशोक व उनकी पत्नी को उपचार के लिए रेलवे रोड स्थित कैलाशचंद जैन मैमोरियल अस्पताल के आईसीयू में भर्ती कराया.

प्राथमिक उपचार के बाद दिल्ली रवाना
डॉ अशोक के सड़क हादसे में घायल होने की सूचना पर उनके चाहने वालों की अस्पताल में भीड़ लग गई. डॉ डीके जैन ने बताया कि डॉ अशोक चक्रधर की कॉलर बोन और उनकी पत्नी की स्पाइन बोन में चोट है. दोनों को प्राथमिक उपचार दे दिया गया है. प्राथमिक उपचार के बाद दोनों एंबुलेंस द्वारा दिल्ली के लिए रवाना हो गए. चोटिल होने के बाद भी प्रसिद्ध व्यंग्यकार डॉ अशोक चक्रधर का अंदाज व्यंग्य भरा दिखा. हालचाल जानने को एसएसपी डॉ एस चनप्पा का फोन डॉ अशोक चक्रधर के पास आया. उन्होंने कहा कि आपकी धरा शानदार है. यहां पर मुझे फौरन उपचार और भरपूर प्रेम मिला है. लेकिन एसएसपी साहब हाइवे पर रॉन्ग साइड से आने वाले वाहनों का आपको इलाज करना चाहिए.

सहारनपुर : आवारा कुत्तों ने नोंच-नोचकर कर दिया युवक को लहूलुहान, अस्पताल में चल रहा इलाज

कुछ दिन पहले सहारनपुर के मिर्जापुर क्षेत्र में घर के बाहर खेल रहे 12 वर्षीय बच्चे को कुत्तों ने नोंच-नोंचकर मार डाला था. (सांकेतिक फोटो)

देवबंद के मानकी गांव में आवारा कुत्तों ने एक युवक को नोंच-नोंचकर लहूलुहान कर दिया. हालत यह हो गई कि उसे अस्पताल में भर्ती कराना पड़ा है और उसकी हालत गंभीर है. वह इन कुत्तों से एक महिला को बचा रहा था.

SHARE THIS:

सहारनपुर. सहारनपुर में आवारा कुत्तों के आतंक की डरावनी तस्वीरें आई हैं. देवबंद में आवारा कुत्तों के हमले से एक युवक इतनी बुरी तरह से जख्मी है कि उसकी वह तस्वीर हम उसी रूप में आपको दिखाना नहीं चाहेंगे. यह मामला देवबंद की मानकी गांव का है.

महिला को बचाने में युवक हुआ बुरी तरह जख्मी

देवबंद के मानकी गांव में एक युवक ने देखा कि आवारा कुत्ते एक महिला लगातार भौंके जा रहे हैं. महिला बुरी तरह डरी हुई थी और कुत्ते उसे जगह-जगह काट खा रहे थे. तब इस महिला को बचाने के लिए युवक ने कुत्तों को भगाना चाहा. पर आवारा कुत्तों ने डरने की बजाए युवक पर भी हमला कर दिया. इस क्रम में किसी तरह महिला तो किनारे निकल गई, लेकिन कुत्तों के झुंड के बीच युवक घिर गया. कुत्तों ने उस युवक को नोंच-नोंचकर अधमरा कर दिया. कुत्तों के इस हमले में महिला भी घायल है. कुत्तों ने काट-काटकर युवक को लहूलुहान कर दिया. उसकी हालत गंभीर बताई जा रही है. फिलहाल उसका इलाज अस्पताल में चल रहा है.

गांव के प्रधान ने एसडीएम को लिखा पत्र

जानकारी के अनुसार, थाना देवबंद क्षेत्र के मानकी गांव में ग्रामीणों में आवारा कुत्तों का खौफ है. खुंखार हो चुके ये कुत्ते कभी बच्चों पर हमला करते हैं तो कभी बड़ों पर. प्रशासन ने अब तक इन कुत्तों को पकड़ने के लिए कोई कदम नहीं उठाया है. बता दें कि मानकी गांव में हुई घटना में कुत्तों को भगाने के लिए आसपास लोगों को लाठी-डंडों से हमला करना पड़ा, तब युवक की जान बची. लेकिन तब तक युवक इस बुरी तरह घायल हो चुका था कि उसके परिजनों ने उसे अस्पताल में भर्ती कराया है. प्राथमिक उपचार के बाद उसे हायर सेंटर भेजा गया है. महिला का भी इलाज चल रहा है. मानकी गांव के प्रधान ने एसडीएम देवबंद को प्रार्थनापत्र देकर कुत्तों को जल्द पकड़वाने की मांग की है.

कुछ दिन पहले कुत्तों ने ले ली थी बच्चे की जान

आपको बता दें कि अभी कुछ दिन पहले भी सहारनपुर के मिर्जापुर क्षेत्र में घर के बाहर खेल रहे 12 वर्षीय बच्चे को कुत्तों ने नोंच-नोंचकर मार डाला था. लगातार हो रही इन घटनाओं के बाद भी नगर निगम की तरफ से कोई ठोस कदम नहीं उठाया जा रहा है.

UP: देवबंद का नाम बदलकर देववृन्द किए जाने की मांग फिर हुई तेज

UP: देवबंद का नाम देववृंद करने की मांग फिर तेज हो गई है.

Deoband News: स्थानीय भाजपा विधायक कुंवर बृजेश सिंह ने दावा किया कि महाभारतकालीन इस कस्बे का नाम सबसे पहले द्वैतवन था, इसके बाद देववन हुआ. फिर अपभ्रंश होकर देववृंद और सबसे बाद में देवबंद हुआ. वह इस संबंध में सीएम योगी से मुलाकात करेंगे.

SHARE THIS:

देवबंद. उत्तर प्रदेश में अलीगढ़ सहित कई जिलों के नाम बदलने की मांग के बीच अब देवबंद का भी नाम बदलने की मांग तेज हो रही हैं. बता दें यहां से बीजेपी विधायक कुंवर बृजेश सिंह पहले ही इस संबंध में प्रस्ताव ला चुके हैं. अब बजरंग दल (Bajrang Dal) के पश्चिमी यूपी के प्रांत संयोजक विकास त्यागी ने उत्तर प्रदेश के नगर विकास मंत्री आशुतोष टन्डन को  पत्र भेजकर देवबंद (Deoband) का नाम जल्दी ही देववृन्द (Devvrind) करने की  मांग की है. विकास त्यागी ने कहा कि देवबंद की पहचान दारुल उलूम से नहीं है बल्कि माता बाला सुंदरी देवी मंदिर व महाभारत काल से है. महाभारत काल मे पांडवों ने देवबंद इलाके में अज्ञातवास काटा था.

उन्होंने कहा कि दारुल उलूम का इतिहास सिर्फ 100 या 150 वर्ष पुराना है, जो इतिहास में भी दर्ज है. यूपी सरकार जैसे अन्य मुगल काल के स्थानों का नाम बदलकर महापुरुषों के नाम पर कर रही है, वैसे ही देवबंद का नाम जल्दी ही देववृन्द किया जाए. विकास त्यागी  का कहना है कि शासन को कई बार पत्र लिखा गया, जिसके बाद शासन ने इस मामले की रिपोर्ट भी मांग ली है. उम्मीद है कि जल्दी ही सूबे की सरकार देवबन्द का नाम बदलकर देववृन्द कर देगी.

इस मुहिम का नेतृत्व कर रहे यहां के स्थानीय भाजपा विधायक कुंवर बृजेश सिंह ने दावा किया कि महाभारतकालीन इस कस्बे का नाम सबसे पहले द्वैतवन था, इसके बाद देववन हुआ. फिर अपभ्रंश होकर देववृंद और सबसे बाद में देवबंद हुआ. चुनाव जीतने के बाद देवबंद के नाम परिवर्तन का प्रस्ताव लाने वाले विधायक कुंवर बृजेश अब जल्द ही इस संबंध में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से  मुलाकात भी करेंगे.

Saharanpur News: पूर्व मंत्री मौलाना मसूद मदनी बोले- बदल गया है तालिबान, भारत सरकार दे मान्यता

पूर्व मंत्री मौलाना मसूद मदनी ने कहा भारत सरकार तालिबान को मान्यता दे

Afghanistan Taliban News: पूर्व मंत्री ने कहा कि पूरे अफगानिस्तान में कहीं पर भी भगदड़ नहीं है, सिर्फ एयरपोर्ट के अलावा. उन्‍होंने कहा कि एयरपोर्ट की जिम्मेदारी अमेरिका के पास है.

SHARE THIS:

सहारनपुर. समाजवादी पार्टी के सांसद और अन्य नेताओं के बाद पूर्व मंत्री मौलाना मसूद मदनी (Maulana Masood Madni) ने भी तालिबान (Taliban) का समर्थन किया है. पूर्व मंत्री मौलाना मसूद मदनी ने कहा है कि इस बार तालिबान बदलकर आए हैं. भारत सरकार (Indian Government) को भी उनसे बात करनी चाहिए और उनको मान्यता देनी चाहिए. उन्होंने यह भी दलील दी कि आज अफगानिस्तान में कहीं भी भगदड़ नहीं है. कबूल एयरपोर्ट पर जो कुछ भी हुआ उसकी जिम्मेदारी अमेरिका की है, क्योंकि एयरपोर्ट अभी भी उनके कब्जे में है.

देवबंद में न्यूज़18 संवाददाता से बातचीत में मौलाना मसूद मदनी ने कहा कि तालिबान कब्जे के बाद काबुल से जहाज और एयरपोर्ट की जो तस्वीरें सामने आई हैं, वह सिक्योरिटी का मामला है. हमें यह समझना होगा, क्योंकि कुछ लोग जो उनके विरोधी हैं वह इसका हौव्वा बना रहे हैं है. जबकि ऐसी बात नहीं है. अमेरिकी कमिटमेंट के तहत काबुल एयरपोर्ट की सिक्योरिटी तालिबान नहीं करेंगे. यह जिम्मेदारी अमेरिका के पास ही रहेगी जब तक कि वह अपने सभी लोगों को नहीं निकाल लेता.

तालिबान ने किया आम माफ़ी का ऐलान
पूर्व मंत्री ने कहा कि पूरे अफगानिस्तान में कहीं पर भी भगदड़ नहीं है, सिर्फ एयरपोर्ट के अलावा. एयरपोर्ट की जिम्मेदारी अमेरिका के पास है, इसलिए एयरपोर्ट पर जो भी भगदड़ हो रही है और जिस जहाज में लोग लटक कर मरे हैं वह अमेरिका का जहाज था. एयरपोर्ट पर जो गोली चली वह भी अमेरिका ने चलाई. उनकी ही गोली से लोग मरे. उन्होंने कहा कि पिछली बार जब मुल्ला उमर की तालिबान सरकार बनी थी तो उन्होंने शरीयत कानून लागू किया था. उस समय सख्ती ज्यादा की थी. इस बार तालिबान ने खुद में काफी बदलाव किया है. उन्होंने आम माफी का ऐलान कर दिया है. जिन अफ़गानों ने अमेरिका के साथ मिलकर हजारों लोगों को मारा, उन सब को माफ कर दिया है. साथ ही यह भी कहा कि औरतें जहां भी काम कर रही हैं, वे हिजाब पर्दे के साथ काम करती रहें, कोई दिक्कत नहीं है. मीडिया सेल में जो औरतें हैं मीडिया में काम करती रहैं और जो वहां से चली गई थीं, उनको भी वापस बुलाया.

अमेरिका की रोटियों पर पलने वाले डरे
मदनी ने कहा कि आज मीडिया में भी खुशी है और जो लोग वहां से भागने को तैयार थे वह अमेरिका के लोग थे. जो अमेरिका की रोटियों पर पलते थे, डॉलर्स पर पलते थे. वो डरे हुए हैं, लेकिन उनको भी माफ कर दिया गया है. अब ऐसे में घबराहट हमें भी नहीं होनी चाहिए. भारत सरकार उनसे बात करें और भारत सरकार को तालिबान सरकार को मान्यता देनी चाहिए.

UP: आतंकी गतिविधियों को रोकने के लिए योगी सरकार का बड़ा कदम, देवबंद में खुलेगा ATS का कमांडो सेंटर

UP: आतंकी गतिविधियों को रोकने के लिए योगी सरकार का बड़ा कदम (File photo)

बता दें कि देवबंद से 30 किलोमीटर दूर ही सहारनपुर है. सहारनपुर में करीब 8 से ज्यादा बार आतंकी और आईएसआई (ISI) एजेंटों की गिरफ्तारी हो चुकी है.

SHARE THIS:

लखनऊ. योगी सरकार (Yogi Government) ने  सहारनपुर (Saharanpur) के देवबंद में एटीएस कमांडो (ATS Commando Center) सेंटर खोलने जा रही है. इसके लिए जिला प्रशासन ने दो हजार वर्गमीटर जमीन पहले ही एटीएस को एलॉट कर दी है. बताया जा रहा है कि यहां पर एटीएस के करीब 15 तेज तर्रार अधिकारी-कमांडो तैनात किए जाएंगे. मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के सूचना सलाहकार शलभमणि त्रिपाठी ने मंगलवार सुबह ट्वीट करके यह जानकारी दी.

उन्होंने लिखा- ‘तालीबान की बर्बरता के बची यूपी की खबर भी सुनिए. योगीजी ने तत्काल प्रभाव से देवबंद में एटीएस कमांडो सेंटर खोलने का निर्णय लिया है. युद्धस्तर पर काम शुरू भी हो गया है. प्रदेशभर से चुने हुए करीब डेढ़ दर्जन तेज तर्रार एटीएस अफसरों की यहां तैनाती होगी’. देवबंद से पहले लखनऊ और नोएडा में एटीएस का कमांडो ट्रेनिंग सेंटर खोलने की तैयारी चल रही है.

बता दें कि देवबंद से 30 किलोमीटर दूर ही सहारनपुर है. सहारनपुर में करीब 8 से ज्यादा बार आतंकी और आईएसआई एजेंटों की गिरफ्तारी हो चुकी है. देवबंद में 300 से ज्यादा मदरसे हैं. दारूल उलूम होने की वजह से देश-दुनिया के स्टूडेंट्स शिक्षा लेने यहां आते हैं. इल्म की नगरी कहा जाने वाला देवबंद दूर-दूर तक जाना जाता है, लेकिन पिछले कुछ समय से यहां आतंकी गतिविधियां होने से इसका नाम काफी चर्चाओं में रहा है. इस वजह से उप्र सरकार ने देवबंद में एटीएस कमांडो सेंटर बनाने का फैसला लिया है.

Saharanpur News: पुलिस मुठभेड़ में तीन बदमाश घायल, अवैध असलहे और जेवरात बरामद

Saharanpur News: पुलिस मुठभेड़ में तीन बदमाश घायल

एसपी सिटी (SP City) राजेश कुमार ने बताया कि थाना गागलहेड़ी क्षेत्र में गागलहेडी तिराहे पर ज्वेलर्स की दुकान है, जहां 13 अगस्त की रात्रि शटर काटकर आभूषण चोरी कर ले गए थे.

SHARE THIS:

सहारनपुर. यूपी के सहारनपुर (Saharanpur) जिले में शनिवार देर रात पुलिस की पुड्डेन रोड पर बदमाशों के साथ मुठभेड़ (Encounter) हो गई. जहां पुलिस की गोली से 3 बदमाश घायल हो गए. पुलिस के मुताबिक इस गिरोह ने गागलहेड़ी तिराहा पर स्थित श्री अम्बे ज्वेलर्स के यहां दिनांक 13 अगस्त की रात में चोरी की थी. बदमाशों को ज्वेलर्स की दुकान से चोरी किये माल सहित गिरफ्तार किया. बदमाशों से भारी मात्रा में अवैध असलहे व कारतूस भी बरामद हुए हैं. बदमाशों से पूछताछ जारी है.

जानकारी के अनुसार, थाना गागलहेड़ी पुलिस व एसओजी टीम की बदमाशों से मुठभेड़ हो गई. जब पुड्डेन रोड पर नागल बॉर्डर के पास कुछ लोगों को पुलिस ने रोकने का प्रयास किया. तो बदमाशों ने पुलिस पर फायर झोंक दिया जिसके बाद पुलिस ने भी आत्मरक्षा में फायरिंग की. इस मुठभेड़ में तीन बदमाशों को गोली लगी और तीनों को गिरफ्तार कर लिया गया. इसके अलावा तीन बदमाश जो फरार होने की कोशिश कर रहे थे उन्हें भी घेराबंदी कर गिरफ्तार कर लिया है. घायलों को जिला अस्पताल में भर्ती करा दिया गया है.

Independence Day 2021: राज्‍यपाल आनंदीबेन पटेल से मिले सीएम, बच्‍च‍ियों ने योगी को बंधी राखी

एसपी सिटी राजेश कुमार ने बताया कि थाना गागलहेड़ी क्षेत्र में गागलहेडी तिराहे पर ज्वेलर्स की दुकान है, जहां 13 अगस्त की रात्रि शटर काटकर आभूषण चोरी कर ले गए थे. उसके बाद से ही पुलिस एसओजी टीम के साथ चोरी का खुलासा करने और बदमाशों की पकड़ में लगी हुई थी.

चोरी के आभूषण बरामद
पकड़े गए बदमाशों ने एक दिन पूर्व की गई चोरी की घटना को स्वीकार किया है. इनके पास से उस दुकान से चोरी किए गए आभूषण और भारी मात्रा में कारतूस और असला भी बरामद हुआ है और उनसे पूछताछ की जा रही है. उन्होंने बताया है कि उत्तराखंड राज्य के जनपद हरिद्वार मैं चंडी घाट पर झुग्गी झोपड़ी में रहते हैं.

मोबाइल के विवाद में छोटे ने बड़े भाई की हत्या कर शव घर में ही दफनाया

 15 साल की बेटी ने मां की हत्या कर दी(सांकेतिक तस्वीर)

UP Crime News: पुलिस का दावा है कि मोबाइल फोन को लेकर झगड़े के बाद छोटे भाई ने बड़े भाई की हत्या (Murder) दी. घर से बदबू आने पर ग्रामीणों ने पुलिस की दी जानकारी, तब हुआ खुलासा.

SHARE THIS:

सहारनपुर. उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) के सहारनपुर में पुलिस का दावा है कि छोटे भाई ने बड़े भाई की हत्या महज इसलिए कर दी, क्योंकि दोनों में मोबाइल फोन को लेकर झगड़ा हुआ था. विवाद के बाद छोटे भाई ने बड़े भाई को सिर में फावड़ा मार दिया, जिससे उसकी मौत हो गई. मौत के 22 दिन बाद पुलिस ने शव को उसी के घर से बरामद किया. सहारनपुर के थाना गंगोह क्षेत्र के ढोला गांव में दो भाइयों में मोबाइल को लेकर कहासुनी हो गई. इसके बाद छोटे भाई ने बड़े भाई के सिर में फावड़ा मार दिया, जिससे उसकी मौत हो गई.

पुलिस के मुताबिक बड़े भाई की मौत के बाद आरोपी घबरा गया और उसने शव के कई टुकड़े किए और शव को घर के ही कमरे में दफना दिया. कई दिनों से घर से बदबू आ रही थी तो ग्रामीणों ने युवक से पूछताछ की, लेकिन वह इधर-उधर की बातें कर रहा था. ग्रामीणों ने बीते सोमवार की रात पुलिस को सूचना दी मौके पर पहुंची पुलिस ने युवक से पूछताछ की तो उसने सब उगल दिया. आरोपी की निशानदेही पर घर में खुदाई कराई गई. मृतक का शव कई टुकड़ों में सड़ा हुआ मिला. पुलिस ने शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया और आरोपी को गिरफ्तार कर लिया. घटना ईद से तीन दिन पहले की बताई जा रही है.

इसलिए बिगड़ी बात
पुलिस के मुताबिक ग्राम ढोला निवासी फरमान 30 ईंद से तीन दिन पहले यानि 18 जुलाई को नया मोबाइल लेकर आया था. उसी रात उसका छोटे भाई रहमान 16 ने अपने भाई से मोबाइल मांगा, लेकिन उसने नहीं दिया. ऐसे में दोनों भाइयों में लड़ाई हो गई. रहमान ने फरमान के सिर में फावड़ा मार दिया. फावड़े का वार काफी तेज था। ऐसे में फरमान की मौके पर ही मौत हो गई, जिससे आरोपी रहमान घबरा गया. पुलिस के डर से उसने शव के कई टुकड़े कर दिए और घर के एक कमरे में दफना दिया. लगभग 22 दिनों से आरोपी घूमता रहा. ग्रामीणों को भी उस पर शक नहीं हुआ. ग्रामीणों ने बताया कि जब उससे पूछते थे कि फरमान कहां गया है। तो उसका जवाब होता था कि वह काम के लिए बाहर गया हुआ है. वह मजदूरी का काम करता था. ऐसे में ग्रामीणों को उस पर कोई शक नहीं हुआ.

बदबू आने पर खुलासा
बीते 9 अगस्त की रात 12 बजे जब गांव में दुर्गंध से ग्रामीणों से रहा नहीं गया तो उन्होंने पुलिस को खबर दी, जिसके बाद थाना कोतवाली गंगोह पुलिस देर रात को गांव ढोला में पहुंच गई और दुर्गंध आने का कारण जानने के लिए इधर उधर खोजबीन शुरू की तो फरमान के मकान से ज्यादा बदबू आ रही थी. ऐसे में आरोपी रहमान के घर का दरवाजा खुलवाया गया. जैसे ही दरवाजा खुला तो दुर्गंध के मारे लोग उल्टियां करने लगे. पुलिस को सभी मामला समझ आ चुका था. पुलिस ने आरोपी रहमान से पूछताछ की तो उसने अपने भाई की हत्या की कबूल कर ली और आरोपी की निशानदेही पर पुलिस ने खुदाई कराई.

माता-पिता की पहले ही हो चुकी मौत
परिवार में तीन बहनें और दो भाई है. माता-पिता की पहले ही मौत हो चुकी है. जबकि तीनों बहनों की शादीशुदा हैं. मृतक फरमान और आरोपी रहमान ही घर में रहते थे. फरमान ही अपने छोटे भाई का भरण पोषण करने के लिए मजदूरी करता था. एसपी देहात अतुल शर्मा ने बताया कि दोनों भाईयों में मोबाइल को लेकर झगड़ा हुआ था. छोटे भाई ने बड़े भाई के मोबाइल को गलत पिन डालकर उसको लॉक कर दिया था, जिसके बाद बड़े भाई ने छोटे भाई को पीटा था. बात इतनी बढ़ी कि छोटे भाई ने बड़े भाई के सिर में फावड़ा मारकर हत्या कर दी.

सहारनपुर में आदमखोर कुत्तों का आतंक, 12 साल के बच्चे को नोच-नोचकर मार डाला

Saharanpur News: कुत्तों के झुंड पर सवार हुई हैवानियत  (सांकेतिक फोटो)

Saharanpur News: घर के नजदीक खेल रहे बच्चे के ऊपर कुत्तों के झुंड ने अचानक कर दिया हमला. गंभीर रूप से जख्मी बच्चे को जब तक अस्पताल ले जाया जाता, उसके पहले ही मौत हो गई. परिवार में मचा कोहराम, आसपास के इलाकों में दहशत.

SHARE THIS:

सहारनपुर. उत्‍तर प्रदेश में आदमखोर कुत्‍तों का आतंक थमने का नाम नहीं ले रहा है. सहारनपुर (Saharanpur) जिले में शुक्रवार को बेहद ही दर्दनाक घटना सामने आई है. जहां 12 वर्षीय बालक पर कुत्तों (Dogs) के झुंड ने हमला कर दिया. बच्चे की चीख सुनकर आसपास के लोग मदद को पहुंचे और किसी तरह कुत्तों को भगाकर घायल किशोर को निजी अस्पताल ले जाया गया मगर तब तक उसकी मौत हो चुकी थी. मौत के बाद मृतक के घर में कोहराम मचा हुआ है.

मामला थाना मिर्ज़ापुर के गांव पाडली गांव का है. जानकारी के अनुसार पाडली गांव निवासी आमिर पुत्र शादाब (12) वर्ष आज सुबह घर के नजदीक एक आम के बाग में खेल रहा था. इसी बीच कुत्तों के झुंड ने हमला कर दिया. कुत्तों ने उसके शरीर पर कई जगह दांत गड़ा दिए. बच्चे की चीख सुनकर आसपास के लोग मदद को पहुंचे और किसी तरह कुत्तों को भगाकर घायल किशोर को निजी अस्पताल ले जाया गया मगर तब तक उसकी मौत हो चुकी थी.

UP News: पराली और गोबर से अब बदलेगी किसानों की किस्मत, जानिए कैसे होंगे मालामाल

ग्राम प्रधान मोहम्मद कामिल समेत गांव के ग्रामीणों ने आवारा कुत्तों को पकड़वाने की मांग की है. बताया जा रहा है कि आवारा कुत्तों के बढ़ते आतंक से ग्रामीण दहशत में है! क्योंकि पूर्व में भी इस प्रकार की कई घटनाएं हो चुकी हैं जिसमें छोटे बच्चे कुत्तों के झुंड का शिकार हो चुके हैं. लेकिन प्रशासन कार्रवाई की बात तो करता है लेकिन कुछ दिन बाद घटना की फाइल बंद हो जाती है.

बता दें कि पिछले वर्ष भी अप्रैल के महीने में गांव डूभर किशनपुर गांव में आवारा कुत्तों के झुंड ने छह वर्षीय बच्ची पर हमला बोल दिया और नोच-नोच कर मौत के घाट उतार दिया था. बच्चे की मौत की सूचना मिलने पर उनके पैरों तले जमीन खिसक गई. उधर मौके पर पहुंची पुलिस ने बच्चे के शव को पोस्टमॉर्टम के लिए भेज दिया है. क्षेत्र में हुई इस घटना को लेकर लोगों में भी दहशत है.

UP में 9 डीआईजी सहित 10 IPS अफसरों के तबादले, 4 PPS का भी ट्रांसफर, देखें लिस्ट

यूपी में 10 आईपीएस और 4 पीपीएस अफसरों के तबादले हुए हैं. (सांकेतिक तस्वीर)

UP News: मुकुल गोयल के डीजीपी बनने के बाद IPS अफसरों की यह पहली बड़ी तबादला सूची जारी की गई है. चर्चा है कि जल्द ही एडीजी, आईजी और जिला पुलिस कप्तानों की तबादला सूची भी जारी होगी.

SHARE THIS:

लखनऊ. उत्तर प्रदेश में मंगलवार देर रात 10 आईपीएस अफसरों का तबादला (10 IPS Transfer) किया गया. इनमें से 9 अफसर डीआईजी (DIG) रैंक के हैं, वहीं एक एसपी सिटी स्तर के हैं. इनके अलावा देर रात 4 एडिशनल एसपी स्तर के पीपीएस अधिकारियों का भी तबादला (4 PPS Transfer) हुआ है. एडिशनल एसपी को तत्काल प्रभाव से चार्ज लेने के आदेश भी दिए गए हैं. मुकुल गोयल के डीजीपी (DGP Mukul Goel) बनने के बाद आईपीएस अफसरों के तबादले की यह पहली बड़ी सूची जारी की गई है. चर्चा है कि जल्द ही एडीजी, आईजी और जिला पुलिस कप्तानों की तबादला सूची भी जारी होगी. पुलिस मुख्यालय के सूत्रों के मुताबिक तबादला सूची पर मंथन चल रहा है.

डीजीपी मुकुल गोयल ने चार्ज लेने के बाद एसटीएफ, एटीएस, एसडीआरएफ, पीएसी जैसे पुलिस के अलग-अलग यूनिट की समीक्षा की. इसके बाद काफी मंथन के बाद ट्रांसफर लिस्ट जारी की गई है. अगस्त से ही यूपी पुलिस त्योहारों को सकुशल निपटाने की तैयारी में लग जाती है, जिसको देखते हुए ये तबादले काफ़ी अहम माने जा रहे हैं.

तबादला सूची के मुताबिक असम कैडर से यूपी कैडर में प्रतिनियुक्ति पर आए आनंद प्रकाश तिवारी को अपर पुलिस आयुक्त (कानपुर पुलिस कमिश्नरेट) के तौर पर तैनाती दी गई है. वहीं, चंद्रप्रकाश-द्वितीय को डीआईजी (यूपी स्पेशल सिक्योरिटी फोर्स, लखनऊ) बनाया गया है.

इनके अलावा उपेंद्र अग्रवाल डीआईजी पुलिस मुख्यालय लखनऊ, धर्मेंद्र सिंह डीआईजी रेलवे लखनऊ, जे रविंदर गौड़ डीआईजी गोरखपुर रेंज बनाए गए हैं. डॉ प्रीतिंदर सिंह को डीआईजी सहारनपुर रेंज, आरके भारद्वाज को डीआईजी मिर्ज़ापुर रेंज और अखिलेश कुमार को डीआईजी आजमगढ़ रेंज में भेजा गया है. वहीं, सुभाषचंद्र दुबे को अपर पुलिस आयुक्त, वाराणसी पुलिस कमिश्नरेट, विकास कुमार को एसपी सिटी आगरा तैनाती दी गई है.

4 पीपीएस अफसरों के ट्रांसफर
इनके अलावा देर रात 4 एडिशनल एसपी स्तर के पीपीएस अधिकारियों का भी तबादला हुआ है. इनमें राम अरज एडिशनल एसपी बिजनौर, अनित कुमार एडिशनल एसपी क्राइम मेरठ, मोहिनी पाठक एडिशनल एसपी यूपी 112 लखनऊ और रामसुरेश उप सेनानायक 27वीं वाहिनी पीएसी सीतापुर भेजे गए हैं.

उत्तराखंड के नितिन पंत को राजस्थान में जबरन बनाया गया अली हसन! यूपी में हुआ खुलासा

नितिन पंत उर्फ अली हसन ने सुनाई आपबीती

नैनीताल के रहने वाले एक शख्स ने अवैध धर्म परिवर्तन के नारकीय जीवन की दास्तान बयान की है. कैसे उसे राजस्थान में बरसों कैद रखा गया? कैसे उस पर धार्मिक षडयंत्र रचने के दबाव बनाए गए? ये भी जानिए कि कैसे हिंदू धर्म में वापसी का रास्ता खुला?

SHARE THIS:

सहारनपुर. उत्तराखंड के एक व्यक्ति नितिन पंत का जबरन धर्म परिवर्तन राजस्थान में कराए जाने के मामले का खुलासा हुआ है. सहारनपुर के हिन्दू संगठनों की शरण मे पहुंचे नितिन उर्फ अली हसन ने आपबीती सुनाई और चौंकाने वाले खुलासे किए. पंत के मुताबिक उसे बंदूक के ज़ोर पर परिवार को जान से मारने की धमकी देकर इस्लाम कबूल करवाया गया. यही नहीं, दस साल पहले हुए इस अवैध धर्म परिवर्तन के बाद उसे 6 साल तक राजस्थान में एक तरह से कैद रखा गया. बाद में किसी तरह पंत उत्तर प्रदेश के मुजफ्फरनगर ज़िले में हिंदू संगठनों की शरण में पहुंचा और हिंदू धर्म में वापसी कर सका.

उत्तराखंड के नैनीताल के रहने वाले एक शख्स का कहना है कि उसको राजस्थान के मेवात में पैसे, नौकरी, शादी व घर का लालच दिया गया. इस लालच के बाद उससे जबरन इस्लाम कबूल करवाया गया और उसके साथ मारपीट करते हुए उसके परिवार को जान की धमकी दी गई. इस तरह धर्म परिवर्तन के शिकार हुए नितिन पंत ने सहारनपुर के कुछ हिन्दू संगठनों की शरण में जाकर हिंदू धर्म में वापसी के लिए मदद मांगी.

ये भी पढ़ें : हरिद्वार से 3000 से ज़्यादा कां​वड़िये लौटाए गए, उत्तराखंड आ रहे पर्यटकों को भी चेतावनी

पंत के हसन बनने की आपबीती
पूरा मामला सहारनपुर से सामने आया है, जहां के बालाजी घाट में डर के मारे छुपकर रह रहे एक शख्स ने खुद को नैनीताल निवासी नितिन पंत बताते हुए कहा कि वह 2010 में काम की तलाश में राजस्थान के अलवर के भिवाड़ी गया था. वहां उसे कुछ लोग ऐसे मिले, जो उसे राजस्थान के मेवात के पंचगावा ले गए और फिर उन्होंने पंत का जबरन धर्म परिवर्तन करवाने के लिए पहले लालच दिए. वह नहीं माना तो उसे डरा धमकाकर और मारपीट के बाद जबरन मुस्लिम बना दिया.

uttar pradesh news, uttarakhand news, rajasthan news, illegal conversion case, love jihad case, उत्तर प्रदेश न्यूज़, उत्तराखंड न्यूज़, राजस्थान न्यूज़, धर्म परिवर्तन केस

हिंदू संगठनों ने नितिन पंत उर्फ अली हसन की हिंदू धर्म में वापसी का भरोसा दिलाया.

हिंदुओं को फंसाने का काम सौंपा गया!
पंत उर्फ अली हसन का कहना है कि वहां नामकरण के बाद उसके अंगभंग की कोशिश की गई, लेकिन यह संभव नहीं हो सका. इस व्यक्ति ने आपबीती सुनाते हुए बताया कि मौलवी व उसके साथियों ने अन्य हिन्दू लड़के व लड़कियों को फंसाकर इस्लाम मे दाखिल करवाने का दबाव बनाया, लेकिन उसे यह गवारा नहीं हुआ. उसने बताया कि उसको कमरे में बन्द रखकर कई दिनों भूखा रखा जाता था. इसके बाद उसको ज़बरदस्ती इस्लामिक शिक्षा व तौर तरीके सिखाने के लिए मुजफ्फरनगर के मदरसे में भेजा गया. यहां से अन्य मदरसों में उसे भेजा जाने लगा, तभी कुछ दिन पहले मौका पाकर वह फरार हो गया.

ये भी पढ़ें : उत्तराखंड CM धामी के घर जहरीले सांप के घुसने से दहशत! दो दिन खोजती रही फॉरेस्ट टीम

हिंदू संगठनों ने दी पीड़ित को शरण
पंत उर्फ हसन का कहना है कि सहारनपुर में हिन्दू संगठन से जुड़े निपुण भारद्वाज को उसने आपबीती सुनाई तो उसकी धर्म वापसी का रास्ता बना. बजरंग दल से ताल्लुक रखने वाले निपुण भारद्वाज का कहना है कि नितिन के साथ अवैध और अमानवीय बर्ताव करने वाले लोगों के खिलाफ सरकार को सख्त कार्रवाई करनी चाहिए. निपुण भारद्वाज व बालाजी घाट के संचालक अतुल तुली ने जल्द शुद्धिकरण करवाकर नितिन पंत की वापसी धर्म में करवाने का भरोसा दिलाया.

इधर, पूरे मामले में सिटी एसपी राजेश कुमार ने बताया कि युवक की आपबीती सुनने के बाद युवक से इस संबंध में प्रार्थना पत्र लिया गया है, जिसके आधार पर जांच के बाद आवश्यक कार्रवाई की जाएगी. हालांकि कुमार ने उन मदरसों की जांच के बारे में कुछ कहने से संकोच किया, जिन पर पीड़ित ने आरोप लगाया है.

सहारनपुर में माहौल खराब करने का प्रयास, कुछ लोगों ने जबरदस्ती कटवाई युवक की दाढ़ी-मूंछ

पुलिस मामले की जांच कर रही है. (सांकेतिक चित्र)

UP News: उत्तर प्रदेश के सहारनपुर (Saharanpur) में एक बार फिर से माहौल खराब करने की कोशिश की गई है. पुलिस ने मामले में एफआईआर दर्ज कर जांच शुरू कर दी है.

SHARE THIS:
सहारनपुर. उत्तर प्रदेश के सहारनपुर (Saharanpur) में एक बार फिर से माहौल खराब करने की कोशिश की गई है. थाना बडगांव के गांव शिमलाना मे एक युवक का दाढ़ी मूंछ रखना कुछ खुरापाती युवकों को नागवार लगा. उन्होंने युवक को जबरदस्ती पकड़कर उसकी मूंछ दाढ़ी कटवा दी. इतना ही नहीं इस घटनाक्रम का वीडियो बनाकर सोशल मिडिया पर वायरल भी कर दिया गया. सोशल मीडिया पर विडियो वायरल होते ही भीम आर्मी के कार्यकर्ताओं ने पीडि़त युवक के साथ खुरापाती युवकों के खिलाफ एससी एसटी एक्ट मे मामला दर्ज करने की मांग करते हुऐ थाने पर तहरीर दी है.

पुलिस ने तहरीर मिलते ही खुरापाती युवकों के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया है. आरोपियों की गिरफ्तारी के लिए उनके घरों में दबिश दी जा रही है. सहारनपुर देहात के एसपी अतुल शर्मा का कहना है कि खुरापात कर माहौल बिगाड़ने वाले के खिलाफ सख्त से सख्त कार्रवाई की जा रही है. युवक की तहरीर पर मुकदमा पंजीकृत कर लिया गया है. जल्द ही आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया जाएगा. इसके लिए टीम बनाकर जांच की जा रही है. उनके घरों में भी उनकी तलाश की गई है. जान पहचान वालों और रिश्तेदारों के यहां भी पूछताछ का सिलसिला जारी है.

गाजियाबाद में भी हुआ केस
बता दें कि बीते 15 जून को उत्तर प्रदेश के गाजियाबाद में एक बुजुर्ग व्यक्ति के साथ मारपीट का वीडियो सामने आया था, जिसके बाद कई मीडिया और ट्विटर हैंडल ने इसे ''धार्मिक रंग' का नाम दे दिया था. बता दें कि वायरल वीडियो में आवाज नहीं थी, उसमें सिर्फ एक बुजुर्ग व्यक्ति अब्दुल समद सैफी के साथ मारपीट की जा रही थी और उनकी दाढ़ी को अज्ञात व्यक्तियों के द्वारा जबरन कटवाई जा रही थी. ट्विटर ने इस बात का दावा किया गया था कि बुजुर्ग पर बदमाशों ने इसलिए हमला किया, क्योंकि उन्होंने कथित तौर पर जय श्री राम और वंदे मातरम के नारे लगाने से मना कर दिया था. पुलिस मामले की जांच की और दावा किया कि इस मामले में धार्मिक एंगल नहीं है.

सहारनपुर: MBBS छात्रा से छेड़छाड़ और मारपीट के बाद बवाल, सड़क जाम

सहारनपुर: एमबीबीएस छात्रा से छेड़छाड़ और मारपीट के बाद बवाल, सड़क जाम, पुलिस के खिलाफ आक्रोश.

राजकीय मेडिकल कॉलेज की एमबीबीएस की छात्रा के साथ छेड़छाड़ व मारपीट की गई. इसमें छात्रा के साथ दो एमबीबीएस छात्र घायल हो गए. तीनों को घायल अवस्था में इमरजेंसी वार्ड में भर्ती कराया गया है. इस घटना के बाद एमबीबीएस छात्रों में आक्रोश व्याप्त हो गया. उन्होंने सड़क जाम कर दी.

SHARE THIS:
सहारनपुर. सहारनपुर (Saharanpur) से एक बड़ी खबर आ रही है. यहां पिलखनी राजकीय मेडिकल कॉलेज की एमबीबीएस की छात्रा के साथ छेड़छाड़ व मारपीट की गई. इसमें छात्रा के साथ दो एमबीबीएस छात्र घायल हो गए. तीनों को घायल अवस्था में इमरजेंसी वार्ड में भर्ती कराया गया है. इस घटना के बाद एमबीबीएस छात्रों में आक्रोश व्याप्त हो गया. गुस्साए छात्रों ने इस घटना के विरोध में जाम लगा दिया और पुलिस के खिलाफ जोरदार नारेबाजी की. बताया गया है कि
कैंपस में बाहर से आये युवकों ने छात्रा के साथ छेड़छाड़ की. इसके साथ ही मारपीट की गई. इसी के खिलाफ गुस्साए एमबीबीएस के छात्रों ने सड़क जाम कर मौके पर जिलाधिकारी को बुलाने की मांग की.

यह मामला सहारनपुर के सरसावा में पिलखनी स्थित शेखुल हिंद मौलाना महमूद हसन राजकीय मेडिकल कॉलेज का है. बताया जा रहा है कि मंगलवार शाम को मेडिकल कॉलेज के बाहर रेस्टोरेंट पर छात्रा से बाहरी लड़कों ने अभद्रता की थी. अन्य छात्रों द्वारा विरोध करने पर विवाद हुआ था. इस पर आरोपी धमकी देकर चले गए थे. इस घटना की सूचना मंगलवार को ही मेडिकल कॉलेज की चौकी पुलिस को दे दी गई थी, लेकिन पुलिस ने कार्रवाई नहीं की. इसके बाद बुधवार शाम दर्जनभर युवक आए और छात्रों पर हमले की कोशिश की गई.

मौके पर पहुंचे पुलिस अधिकारी

छात्रों द्वारा हाईवे जाम करके प्रदर्शन करने की सूचना पर पुलिस के अधिकारी मौके पर पहुंच गए हैं. छात्रों से बात कर आरोपियों के बारे में जानकारी लेकर पुलिस ने कार्रवाई का भरोसा दिया. छात्रों को आश्वासन दिया कि मेडिकल कॉलेज के गेट पर सुरक्षा की दृष्टि से पुलिस पिकेट लगा दी जाएगी. इस मामले को लेकर एमबीबीएस छात्रों में काफी आक्रोश देखा गया. पुलिस के खिलाफ जोरदार नारेबाजी की गई. पुलिस छात्रों को समझाकर शांत करने की कोशिश करती रही.
Load More News

More from Other District

विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज