होम /न्यूज /उत्तर प्रदेश /UP Forceful Conversion: पीएम मोदी पर किताब लिखने वाले प्रवीण का दस्‍तावेजों में करा दिया गया धर्म परिवर्तन

UP Forceful Conversion: पीएम मोदी पर किताब लिखने वाले प्रवीण का दस्‍तावेजों में करा दिया गया धर्म परिवर्तन

सहारनपुर के प्रवीण कुमार ने कहा उसने कभी धर्म बदला ही नहीं

सहारनपुर के प्रवीण कुमार ने कहा उसने कभी धर्म बदला ही नहीं

Saharanpur News: प्रवीण ने पीएम मोदी से जुड़ी किताब भी लिखी है और आशंका जताई है कि विदेशी फंडिंग के लिए उनके नाम का इस् ...अधिक पढ़ें

सहारनपुर. यूपी एटीएस (UP ATS) द्वारा जहांगीर काजी और मोहम्मद उमर गौतम (Mohammad Umar Gautam) की गिरफ़्तारी के बाद जबरन धर्मांतरण (Forceful Conversion) मामले में एक के बाद एक नए ट्विस्ट देखने को मिल रहे हैं. सहारनपुर (Saharanpur) से ऐसा ही एक चौंकाने वाला मामला सामने आया है. यहां एक शख्स का धर्मांतरण भो हो गया और उसे इस बात की खबर तक नहीं है. मामला तब खुला जब प्रवीण कुमार की फोटो धर्मांतरण दस्तावेज पर मिली. इसके बाद प्रवीण ने न्यूज़ 18 से एक्सक्लूसिव बातचीत में कहा कि पता नहीं उसके नाम पर दस्तावेज कहां से आ गए. प्रवीण ने पीएम मोदी से जुड़ी किताब भी लिखी है और आशंका जताई है कि विदेशी फंडिंग के लिए उसके नाम का इस्तेमाल किया गया हो. प्रवीण ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर किताब लिखी है.

न्यूज़ 18 की टीम जब प्रवीण कुमार के गांव शीतला खेड़ा स्थित उनके घर पहुंची तो पता लगा प्रवीण व उनके परिवार को इस बारे में बिल्कुल भी नहीं पता कि कैसे उनकी तस्‍वीर लगा कार्ड मिला है. प्रवीण का कहना है कि उनके हिंदू-मुस्लिम दोस्त हैं, लेकिन कभी किसी ने भी धर्म परिवर्तन करने के लिए उन्हें प्रेरित नहीं किया. उन्होंने कहा कि मैं एक पढ़ा-लिखा आदमी हूं. मैंने एजुकेशन से पोस्ट ग्रेजुएशन किया है और जल्द ही पीएचडी करने जा रहा हूं. प्रवीण ने यह भी बताया कि उन्‍होंने 'नमो गाथा मोदी एक विचार' नाम से एक किताब लिखी है और दूसरी किताब 'योगी राज से योगीराज' तक लिखी है. जिसकी बिक्री ऑनलाइन काफी हुई हैं. जो फोटो प्रवीण कुमार की किताब पर है वही फोटो उस कार्ड पर भी है. लगता है कि धर्म परिवर्तन करने वाले गैंग ने विदेशी फंडिंग के लिए प्रवीण कुमार की फोटो का इस्तेमाल किया है.

" isDesktop="true" id="3632089" >

फर्जी धर्मांतरण से विदेशी फंड अर्जित करने की साजिश
प्रवीण कुमार ने बताया कि बुधवार सुबह ही एटीएस की टीम भी आई थी और प्रवीण कुमार से पूरी जानकारी लेकर गई. वहीं, एडीजी का भी फोन आया था. अब इस मसले को लेकर पूरे परिवार की जान सकते में है और वे परेशान हैं. प्रवीण के पिता राकेश कुमार ने भी बताया कि ऐसी कभी कोई बात ही नहीं हुई. उन्होंने आशंका जताई कि कहीं न कहीं यह विदेशी फंडिंग अर्जित करने के लिए की गई साजिश है.

Tags: Conversion case in UP, Religious conversion, Saharanpur news, UP news

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें