धर्म परिवर्तन: इलाहाबाद HC के फैसले का अयोध्या के संतों ने किया स्वागत, कही ये बड़ी बात

इलाबहाबाद हाईकोर्ट के फैसले का संतों ने समर्थन किया है.
इलाबहाबाद हाईकोर्ट के फैसले का संतों ने समर्थन किया है.

धर्म परिवर्तन (Caste Change) को लेकर इलाहाबाद हाई कोर्ट (Allahabad High Court) के फैसले का अयोध्या के संतों ने स्वागत किया. संतों का मानना ऐसे फैसले से देश में शांति व्यवस्था कायम रहेगी.

  • Share this:
अयोध्या. इलाहाबाद हाई कोर्ट (Allahabad High Court) द्वारा शादी के लिए धर्म परिवर्तन (Caste Change) को वैधता ना दिए जाने को लेकर लिए फैसले का अयोध्या के संतों ने स्वागत किया है. साथ ही खुशी भी जाहिर की है. तपस्वी छावनी के महंत परमहंस दास ने न्यायपालिका के द्वारा उठाए गए इस कदम पर सराहना व्यक्त करते हुए कहा कि इस तरह के मामलों में 'लव जिहाद' पर रोक लगेगी. शांति व्यवस्था देश में कायम रहेगी. तो वहीं हनुमानगढ़ी के महंत राजू दास ने फैसला सुनाने वाले न्यायाधीश को धन्यवाद दिया है.

महंत राजू दास का कहना है कि पूरे देश में 'लव जिहाद' प्रकरण का कुचक्र चल रहा है. राजू दास ने ने कहा कि बड़े-बड़े स्कूल कॉलेज में इस तरीके के कामों को करने के लिए युवाओं को भड़काया जा रहा है.

महंत राजू दास ने कही ये बात



हनुमानगढ़ी के महंत राजू दास ने कहा कि हाई कोर्ट के निर्णय का स्वागत है. फैसला सुनाने वाले जज को धन्यवाद देते हुए कहा कि धर्म परिवर्तन का लगातार कुचक्र चल रहा है. आरोप लगाते हुए उन्होंने कहा कि कहा कि बड़े-बड़े स्कूल और कॉलेजों में युवाओं को इस तरीके का प्रोत्साहन देने की कोशिश की जा  रही है. फिर शादी के बहाने धर्म परिवर्तन करवाते हैं. शादी के बाद और भी भयानक स्थिति सामने आती है. उन्होंने कहा कि कोर्ट को धन्यवाद देता हूं कोर्ट ने एकदम सही निर्णय लिया है.
ये भी पढ़ें: मरवाही उपचुनाव 2020: क्या खतरे में है अजीत जोगी की पार्टी का अस्तित्व?
तपस्वी छावनी के महंत संत परमहंस दास ने कहा कि हाई कोर्ट द्वारा दिया गया यह फैसला पूरे देश में शांति बनाए रखने के लिए कारगर होगा. इस तरह के फैसलों से 'लव जिहाद' पर रोकथाम लगेगी. इससे पूरे देश में शांति बनी रहेगी. साथ ही परमहंस दास ने सभी संत और धर्माचार्य की तरफ से कोर्ट के द्वारा दिए गए निर्णय पर सराहना व्यक्ति की है. उन्होंने कहा कि हाई कोर्ट के द्वारा दिया गया फैसला पूरे देश के लिए सराहनीय कदम है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज