आजमगढ़ में आभार जनसभा करेंगे अखिलेश यादव, कार्यकर्ताओं को दे सकते हैं बड़ा संदेश

उत्‍तर प्रदेश के पूर्व मुख्‍यमंत्री और आजमगढ़ के सांसद अखिलेश यादव आज आईटीआई मैदान पर आभार जनसभा को संबोधित करेंगे.

News18 Uttar Pradesh
Updated: June 3, 2019, 1:52 PM IST
आजमगढ़ में आभार जनसभा करेंगे अखिलेश यादव, कार्यकर्ताओं को दे सकते हैं बड़ा संदेश
आजमगढ़ में जनसभा करेंगे समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव. (फाइल फोटो)
News18 Uttar Pradesh
Updated: June 3, 2019, 1:52 PM IST
समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव आज आजमगढ़ पहुंचेंगे. वह इस बार आजमगढ़ से ही सांसद चुने गए हैं और अपने संसदीय क्षेत्र में पहली बार सार्वजनिक रूप से सामने आयेंगे. जबकि आभार जनसभा में अखिलेश अपने कार्यकर्ताओं से क्या कहेंगे, इस पर सभी की निगाहें टिकी हुई हैं. उनकी यह जनसभा इस कारण भी अहम है कि यूपी में सपा-बसपा और आरएलडी गठबंधन होने के बावजूद उनकी पार्टी को कोई खास फायदा नहीं हुआ है.

आईटीआई मैदान पर होगी जनसभा
उत्‍तर प्रदेश के पूर्व मुख्‍यमंत्री और आजमगढ़ के सांसद अखिलेश यादव आज आईटीआई मैदान पर आभार जनसभा को संबोधित करेंगे. जबकि उनका हेलीकॉप्टर बलरामपुर स्थित पीएसी ग्राउंड में बने हेलीपैड पर उतरेगा और उसके बाद वह सभा स्थल तक अपने काफिले के साथ पहुंचेंगे. हाल ही में हुए लोकसभा चुनाव में उन्‍हें आजमगढ़ से बड़ी जीत हासिल हुई और उनका यहां (आजमगढ़) आना क्षेत्र और प्रदेश के कार्यकर्ताओं में नई जान फूंक सकता है.

सर्किट हाउस में बनेगी रणनीति

अखिलेश यादव जनसभा करने के बाद आजमगढ़ में ही सर्किट हाउस में रात्रि विश्राम करेंगे. यहां वे पार्टी पदाधिकारियों और कार्यकर्ताओं के साथ बैठक कर उन्हें दिशा-निर्देश भी देंगे. इसके अलावा सर्किट हाउस में ही व्यापारियों, अधिवक्ताओं और प्रबुद्धजनों से विकास पर चर्चा करेंगे, जो कि खास रहने वाला है. इसके अगले दिन वह सुबह 11:30 बजे गाजीपुर के गोसन्देपुर करंडा जायेंगे. यकीनन सपा का गढ़ कहे जाने वाला आजमगढ़ में में अखिलेश यादव की आभार जनसभा पर प्रदेश के सियासतदानों की निगाहें टिकी हुई हैं.

ऐसा रहा गठबंधन का हाल
हाल ही में हुए लोकसभा चुनावों में उत्‍तर प्रदेश की 80 सीटों पर समाजवादी पार्टी, बहुजन समाज पार्टी और राष्‍ट्रीय लोकदल ने मिलकर चुनाव लड़ा था. इस दौरान सपा ने 37, बसपा ने 38 और आरएलडी ने तीन सीटों पर चुनाव लड़ा था.
Loading...

बहरहाल, 2014 के लोकसभा चुनावों में अपना खाता खोलने में नाकाम रही बसपा ने इस बार दस सीटें जीती हैं तो सपा को पांच सीटें मिली हैं. समाजवादी पार्टी को पिछले लोकसभा चुनाव में भी पांच सीटों पर जीत मिली और इस लिहाज से उसे गठबंधन का कोई फायदा नहीं हुआ. वहीं, उसे अपने बदायूं, कन्‍नौज और फिरोजाबाद में हार मिली है, जिसे समाजवादी गढ़ माना जाता है. अगर आरएलडी की बात करें तो पिछली बार भी उसका खाता नहीं खुला था और इस बार भी हालात ज्‍यों के त्‍यों हैं.

एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएंगी आपके पास, ब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी  WhatsApp अपडेट्स
First published: June 3, 2019, 1:37 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...