Home /News /uttar-pradesh /

UP Assembly Election: दिव्यांगों ने दिया राजनीतिक पार्टियों को अल्टीमेटम, कहा- जो देगा 5 हजार पेंशन उसे मिलेगा वोट

UP Assembly Election: दिव्यांगों ने दिया राजनीतिक पार्टियों को अल्टीमेटम, कहा- जो देगा 5 हजार पेंशन उसे मिलेगा वोट

मोर्चे में शामिल दिव्यांगजन.

मोर्चे में शामिल दिव्यांगजन.

Protest of disabled people: सदर तहसील में दिव्यांग दिवस पर दिव्यांगों (Disabled) ने एक अजीब डिमांड (Demand) सामने रखी और साथ ही एक वॉर्निंग भी दे डाली. दिव्यांग दिवस के मौके पर दिव्यांगों के संगठन सर्वहित कल्याण मोर्चा ने बड़ा ऐलान किया. उन्होंने कहा कि जो भी मुख्यमंत्री (CM) पांच हजार रुपए (five Thousand) पेंशन (Pension) देगा, दिव्यांगों का वोट (Vote) उन्हीं के खाते में जाएगा. यदि ऐसा नहीं होता तो वे लोग वोट नहीं देंगे. साथ ही चुनाव में अपना एक अलग प्रत्याशी भी खड़ा करेंगे.

अधिक पढ़ें ...

संभल. सदर तहसील में दिव्यांग दिवस पर दिव्यांगों ने एक अजीब डिमांड सामने रखी और साथ ही एक वॉर्निंग भी दे डाली. दिव्यांग दिवस के मौके पर दिव्यांगों के संगठन सर्वहित कल्याण मोर्चा ने बड़ा ऐलान किया. उन्होंने कहा कि जो भी मुख्यमंत्री पांच हजार रुपए पेंशन देगा, दिव्यांगों का वोट उन्हीं के खाते में जाएगा. यदि ऐसा नहीं होता तो वे लोग वोट नहीं देंगे. साथ ही चुनाव में अपना एक अलग प्रत्याशी भी खड़ा करेंगे.

बहुत कम है पेंशन
पेंशन कम होने के कारण ही दिव्यांगजनों ने यह फैसला किया है. मोर्चा के राष्ट्रीय अध्यक्ष मोहम्मद कासिम के अनुसार वे अपनी मांगों के लिए आगे भी आंदोलन करते रहेंगे. दिव्यांगों को 500 रुपए पेंशन बहुत कम है इसमें तो रिचार्ज भी नहीं हो सकता. दिल्ली, तेलंगाना आदि राज्यों में दिव्यांगों को मिलने वाली पेंशन बताते हुए उन्होंने कहा कि एक देश एक पेंशन का फॉर्मुला होना चाहिए. उत्तर प्रदेश में भी दिव्यांग पेंशन 5000 करने होनी चाहिए. इसके अलावा दिव्यांगों को बिजली सहित अन्य सुविधाओं को भी फ्री करना चाहिए. इसके साथ ही दिव्यांगों की समस्या को सुनने के लिए अधिकारियों को सीट से उठकर उनके पास आना चाहिए.

मोर्चा के अध्यक्ष के अनुसार जो भी दिव्यांगों को 5000 पेंशन देगा, वोट उसी के खाते में जाएगा. दिव्यांगों में एकता है, दिव्यांग जाग गए हैं. यदि सरकार उनकी मांग नहीं सुनती है तो वे क्या करेंगे? के सवाल पर संगठन अध्यक्ष ने कहा कि यदि मांग पूरी नहीं की जाती तो दिव्यांग किसी को वोट नहीं देंगे. पूरे उत्तर प्रदेश में वे पार्टी प्रत्याशियों के खिलाफ प्रत्याशी खड़े करेंगे, दिव्यांगों को निर्दलीय चुनाव लड़ाएंगे.

गौरतलब है कि यूपी में 2022 में विधानसभा का चुनाव है. राज्य कर्मचारी आंदोलन कर अपनी मांगें गिनवा रहे हैं तमाम दूसरे लोग भी सरकार पर दबाब बनाने की कोशिश में हैं.

Tags: Pension scheme, Protest, Sambhal, Sambhal News

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर