आंदोलन में शामिल होने पर संभल के 6 किसानों को 50-50 हजार रुपये का बॉन्ड भरने का नोटिस

केंद्र सरकार द्वारा पास किए गए तीन कृषि कानूनों के विरोध में किसानों के प्रदर्शन (Farmers Protest) का कई दिनों से प्रदर्शन जारी है. (फाइल फोटो)

केंद्र सरकार द्वारा पास किए गए तीन कृषि कानूनों के विरोध में किसानों के प्रदर्शन (Farmers Protest) का कई दिनों से प्रदर्शन जारी है. (फाइल फोटो)

संभल के उपजिला मजिस्ट्रेट (SDM) दीपेंद्र यादव ने स्वीकार किया कि छह किसानों को 50 हजार तक का मुचलका भरने के लिए नोटिस भेजे गए हैं. उन्होंने स्पष्ट किया कि पहले इन किसानों को 50 लाख के नोटिस भेजे गए थे, लेकिन अब उसे संशोधित कर दिया गया है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: December 19, 2020, 4:59 PM IST
  • Share this:
संभल. उत्तर प्रदेश के संभल में 6 किसानों को 50 हजार रुपये तक का मुचलका भरने के लिए नोटिस भेजे गए हैं. यह जुर्माना किसान आंदोलन में भाग लेने वालों पर लगाया गया है. इन किसानों को मिले नोटिस में कहा गया है कि किसान गांव-गांव जाकर किसानों को भड़का रहे हैं. इससे कानून-व्यवस्था खराब हो सकती है. नोटिस में किसानों से जवाब मांगा गया है कि साल भर शांति बनाए रखने के लिए 50 लाख रुपये का मुचलका क्यों न लगाया जाए? ये नोटिस धारा 111 के तहत 12 और 13 दिसंबर को भेजे गए हैं. नोटिस में यह भी लिखा है कि किसान आंदोलन में वे बढ़-चढ़कर हिस्सा ले रहे हैं, जिससे कानून व्यवस्था भंग होने की आशंका है.

एसडीएम ने कहा - संशोधित नोटिस दिया गया

इस बारे में संभल के उपजिला मजिस्ट्रेट (SDM) दीपेंद्र यादव ने स्वीकार किया कि छह किसानों को 50 हजार तक का मुचलका भरने के लिए नोटिस भेजे गए हैं. उन्होंने स्पष्ट किया कि पहले इन किसानों को 50 लाख के नोटिस भेजे गए थे, लेकिन अब उसे संशोधित कर दिया गया है. SDM ने 50 लाख वाले नोटिस पर कहा कि वह 'क्लैरिकल एरर' थी. किसानों को बाद में संशोधित नोटिस भेजा गया है. एसडीएम दीपेंद्र यादव ने कहा, 'हमें हयात नगर पुलिस थाने से रिपोर्ट मिली थी कि कुछ व्यक्ति किसानों को उकसा रहे हैं और इससे शांति भंग होने की आशंका है.' उन्होंने बताया कि थाना अध्यक्ष की रिपोर्ट में कहा गया था कि इन लोगों को 50-50 हजार रुपये के मुचलके से पाबंद किया गया है.

किसानों ने बॉन्ड भरने से किया इनकार
जिन छह किसानों को नोटिस दिया गया, उनमें भारतीय किसान यूनियन संभल के जिला अध्यक्ष राजपाल सिंह यादव के अलावा जयवीर सिंह, ब्रह्मचारी यादव, सतेंद्र यादव, रौदास और वीर सिंह शमिल हैं. इन छहो किसानों ने मुचलका भरने से इनकार कर दिया है. यादव ने कहा कि हम यह मुचलका किसी भी हालत में नहीं भरेंगे, चाहे हमें जेल हो जाए, चाहे फांसी. हमने कोई गुनाह नहीं किया है, हम अपने हक की लड़ाई लड़ रहे हैं.'

BKU के डिवीजन अध्यक्ष संजीव गांधी ने कहा कि इन किसानों या उनके परिवार में से किसी सदस्य ने इस बॉन्ड पर दस्तखत नहीं किए हैं. उन्होंने कहा कि 'हम शांतिपूर्ण प्रदर्शन कर रहे हैं, कोई अपराध नहीं.'
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज