होम /न्यूज /उत्तर प्रदेश /योगी सरकार की हनक! एक गुहार पर भेज दिए 60 पुलिसवाले और धूमधाम से हुई दलित बेटी की शादी, जानें मामला

योगी सरकार की हनक! एक गुहार पर भेज दिए 60 पुलिसवाले और धूमधाम से हुई दलित बेटी की शादी, जानें मामला

पुलिसकर्मियों की मौजूदगी में करवाई गई दलित युवती की शादी.

पुलिसकर्मियों की मौजूदगी में करवाई गई दलित युवती की शादी.

UP News: दलित बेटी की शादी का पूरा मामला जनपद संभल के थाना जुनावई के गांव लोहामई से सामने आया है. यहां दलित समाज के एक ...अधिक पढ़ें

हाइलाइट्स

संभल में एक दलित युवती की शादी पुलिसवालों की मौजूदगी में संपन्न करवाई गई.
युवती के परिवारवालों ने बारात चढ़त के लिए एसपी से सुरक्षा की लगाई थी गुहार.
संभल के एसपी चक्रेश मिश्रा ने पुलिसकर्मियों को भेज दलित बेटी की शादी करवाई.

संभल. उत्तर प्रदेश में योगी आदित्यनाथ की सरकार है; जिसमें सबको सुरक्षा सबको न्याय के दावे किए जाते हैं. कई बार सवाल उठते हैं कि क्या ये केवल दावे हैं या फिर इसमें कुछ सच्चाई भी है? संभल से एक मामला सामने आया है जिसमें योगी सरकार के दावे की पुष्टि होती दिखी है. मामला संभल का है जहां उत्तर प्रदेश की पुलिस ने एक दलित की बेटी की बारात को सुरक्षा दी और शांतिपूर्वक शादी संपन्न करवाई गई. संगीनों के साये में हुई दलित की बेटी की इस शादी को 60 पुलिसकर्मियों ने सकुशल संपन्न करवाया. इस दौरान थाना प्रभारी ने शादी में 11 हजार रुपए का दान भी दिया.

दलित बेटी की शादी का पूरा मामला जनपद संभल के थाना जुनावई के गांव लोहामई से सामने आया है. यहां दलित समाज के एक शख्स को अपनी बेटी की शादी के लिए पुलिस से गुहार लगानी पड़ी. दरअसल, वाल्मीकि समाज के राजू चौहान ने बीते दिनों एसपी संभल से बेटी की शादी में बारात चढ़त के दौरान पुलिस सुरक्षा की मांग की थी.

पुलिस की मौजूदगी में हुई दलित बेटी की शादी
आरोप के अनुसार, गांव में दलित समाज के लोगों को सम्मानपूर्वक बैंड बाजे के साथ बारात निकालने नहीं दिया जाता है. इसी के चलते राजू ने एसपी को शिकायती पत्र देकर पुलिस सुरक्षा की मांग की थी, जिस पर संभल पुलिस अधीक्षक चक्रेश मिश्रा ने शख्स को भरोसा दिलाया कि उसकी बेटी की शादी न सिर्फ धूमधाम से होगी; बल्कि बारात चढ़त के दौरान पूरे समय पुलिस फोर्स तैनात रहेगी.

दलितों की शादी में नहीं निकली जाती थी बारात
दलित की बेटी की शादी में किसी प्रकार का व्यवधान उत्पन्न न हो इसके लिए 60 पुलिस कर्मियों की ड्यूटी लगाई गई. वहीं, दुल्हन बनी रवीना की मां उर्मिला वाल्मीकि ने बताया कि उनके गांव में दलित समाज के लोगों की शादी में बैंड बाजा नहीं बजने दिया जाता था. एसपी से गुहार लगाई जिसके बाद पुलिस की मौजूदगी में बेटी की शादी की बारात चढ़ाई गई.

पुलिस की मौजूदगी में वैवाहिक कार्यक्रम संपन्न
वाल्मीकि समाज के नेता मोहित कुमार ने बताया कि लोहामई गांव में दलित समाज के लोगों की बारात नहीं चढ़ने दी जाती थी, जिसके लिए संभल पुलिस से गुहार लगाई. इसलिए भारी पुलिस बल की मौजूदगी में वैवाहिक कार्यक्रम कराया गया. थाना जुनावई प्रभारी पुष्कर मेहरा ने बताया कि बारात चढ़त का कार्यक्रम सकुशल संपन्न करा दिया गया है. गांव में सुरक्षा के लिहाज से पुलिस बल को लगाया गया है.

Tags: Sambhal News, UP news, Yogi government

टॉप स्टोरीज
अधिक पढ़ें