Home /News /uttar-pradesh /

अनोखी पहल: बंदर की मौत से दुखी ग्रामीणों ने निकाली शव यात्रा, अयोध्या में किया अंतिम संस्कार

अनोखी पहल: बंदर की मौत से दुखी ग्रामीणों ने निकाली शव यात्रा, अयोध्या में किया अंतिम संस्कार

संतकबीर नगर में बंदर की मौत से दुखी ग्रामीणों ने शवयात्रा निकाली और अयोध्या में अंतिम संस्कार किया.

संतकबीर नगर में बंदर की मौत से दुखी ग्रामीणों ने शवयात्रा निकाली और अयोध्या में अंतिम संस्कार किया.

Santkabirnagar News: यूपी के संतकबीरनगर में ग्रामीणों ने एक अनोखी पहल करते हुए बंदर की मौत पर गाजे-बाजे के साथ शवयात्रा निकाली. दाह संस्कार के लिए चंदा करके बस से शव अयोध्या ले गए और वहां पर हिन्दू रीति रिवाज से अंतिम संस्कार किया.

अधिक पढ़ें ...

संतकबीरनगर. अभी तक आपने इंसान का शव यात्रा निकालते हुए देखा होगा, लेकिन संतकबीरनगर में ग्रामीणों ने एक अनोखी पहल करते हुए बंदर की शव यात्रा निकाली. सबके चहेते बंदर की मौत पर ग्रामीणों की आंखें नम हो गईं और उन्होंने बंदर की शव यात्रा गाजे-बाजे के साथ निकालने का निर्णय लिया. उन्होंने न केवल शव यात्रा निकाली, बल्कि बंदर को दाह-संस्कार के लिए बस से अयोध्या ले गये. ऐसा वाकया संतकबीरनगर के रायपुर छपिया उर्फ ठोका में हुआ, जब एक बंदर की मौत पर स्थानीय लोगों ने उसकी शव यात्रा निकाली और हिन्दू रीति रिवाज से रामनगरी अयोध्या में बंदर के शव का अंतिम संस्कार किया.

Sant Kabir Nagar News: यूपी के संतकबीरनगर में ग्रामीणों ने एक अनोखी पहल करते हुए बंदर की मौत पर गाजे-बाजे के साथ शवयात्रा निकाली. दाह संस्कार के लिए चंदा करके बस से शव अयोध्या ले गए और वहां पर हिन्दू रीति रिवाज से अंतिम संस्कार किया.

संतकबीर नगर में बंदर की मौत से दुखी ग्रामीणों ने शवयात्रा निकाली और अयोध्या में अंतिम संस्कार किया.

ग्रामीणों ने धूप अगरबत्ती दिखाकर दी अंतिम विदाई
संतकबीरनगर में बंदर की मौत के बाद का शव यात्रा का नज़ारा देखने लायक था. हर कोई बंदर को धूप अगरबत्ती दिखा अंतिम विदाई दी. बंदर को हनुमानजी का प्रतिरूप माना जाता है. लोग बताते हैं कि महीनों पहले से यह बंदर गांव में रहता था, लेकिन कभी किसी को नुकसान नही पहुंचाता था, यहां तक बच्चों को भी देखकर वह अपना रास्ता खुद छोड़ देता था. खलीलाबाद रायपुर छपिया उर्फ ठोका के ग्रामीणों ने उसे रोटी खिलाया करते थे, स्थानीय लोगों ने बताया कि बंदर का ब्रम्ह भोज का भी आयोजन किया जाएगा.

चंदा इकठ्ठा करके बस से दाह संस्कार करने गए अयोध्या
अचानक शुक्रवार की देर शाम बंदर की मौत हो जाने के बाद ग्रामीणों ने फैसला लिया की बंदर का दाह संस्कार प्रभु श्रीराम की नगरी अयोध्या में की जाएगी. जिसके तहत ग्रामीणों ने चंदा इकट्ठा करते हुए बस की व्यवस्था की. पूरे धूमधाम और बैंड बाजे के साथ बंदर की शव यात्रा निकाली गई और फिर बस से अयोध्या धाम में बंदर का अंतिम संस्कार वैदिक परम्पराओं के अनुसार कराया गया. गांव के अंचल गुप्ता, एडीओ रमेश प्रजापति, युवा कार्यकर्ता दिनेश चौबे, राकेश शर्मा, राजकुमार गुप्ता, अर्जुन विश्वकर्मा ने बताया कि हिन्दू धर्म के अनुसार ब्रम्हभोज कर लोगों को खिलाया जाएगा.

Tags: Monkeys problem, Santkabirnagar News, UP news

विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर