शाहजहांपुरः किसान खुदकुशी मामले में जितिन प्रसाद ने पीएम मोदी पर साधा निशाना

News18 Uttar Pradesh
Updated: July 30, 2018, 9:47 PM IST
News18 Uttar Pradesh
Updated: July 30, 2018, 9:47 PM IST
शाहजहांपुर जिले में किसान आत्महत्या मामले में राजनीति तेज हो गई है. सोमवार को पूर्व केंद्रीय मंत्री जितिन प्रसाद और सांसद संजय सिंह ने मृतक किसान के गांव का दौरा किया और बाद में आयोजित एक प्रेस कांफ्रेंस में उन्होंन सूबे की योगी सरकार पर जमकर निशाना साधा. जितिन प्रसाद ने कहा कि योगी सरकार छाती पीट-पीटकर किसानों का कर्जमाफी का श्नेय लेती है, लेकिन शाहजहांपुर का किसान कर्ज माफ नहीं होने के चलते आत्महत्या कर रहा है.

यह भी पढ़ें-कर्ज और सूखे से परेशान किसान ने की आत्महत्या, प्रदेश सरकार से नहीं मिली कोई मदद

जितिन प्रसाद ने आगे कहा शाहजहांपुर जिले में 21 जून को प्रधानमंत्री की किसान कल्याण रैली हुई और उसके बाद मुर्छा गांव में एक किसान ने ढाई लाख रूपय का कर्जा माफ नहीं होने के चलते आत्महत्या कर लेता है. उन्होंने बताया कि किसान ने सुसाइड नोट में आत्महत्या की वजह लिखी है, जिसमें उसने लिखा है कि कर्ज माफ करने के लिए उसने मुख्यमंत्री और प्रधानमंत्री को पत्र लिखा था औैर जब कर्ज माफ नहीं हुआ तो उसने खुदकुशी कर ली.

यह भी पढ़ें-VIDEO : मथुरा में किसान ने गोली मारकर की आत्महत्या

प्रसाद ने कहा कि प्रधानमंत्री की रैली से 8 जिलों के किसान शामिल हुए थे, उन्हें बड़ी आस थी कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी किसानों के लिए कोई बड़ी घोषणा करेंगे, लेकिन वह तो किसानों को झुनझुना थमा गए. उन्होंने कहा कि लखनऊ में प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि उत्तर प्रदेश में 60 हजार करोड़ का निवेश हो रहा है, हम कहते हैं कि वह यूपी के नौजवानों को 700 नौकरियां ही दे दें जिससे बेरोजगारी खत्म हो.

वहीं, सांसद संजय सिंह ने मूर्छा गांव में किसान की खुदकुशी के लिए योगी सरकार और मोदी सरकार के अलावा जिला प्रशासन भी दोषी ठहराया है और कर्ज माफ नहीं होने के चलते किसान की मौत को काला धब्बा बताया है. जबकि प्रशासन का कहना है कि मानकों में नहीं आने से मृतक किसान की कर्जमाफी नहीं हुई.

(रिपोर्ट-दीप श्रीवास्तव, शाहजहांपुर)
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर