होम /न्यूज /उत्तर प्रदेश /

UP सरकार करे SIT का गठन, इलाहाबाद हाईकोर्ट की निगरानी में हो स्वामी चिन्मयानंद केस की जांच: SC

UP सरकार करे SIT का गठन, इलाहाबाद हाईकोर्ट की निगरानी में हो स्वामी चिन्मयानंद केस की जांच: SC

सुप्रीम कोर्ट ने चिन्मयानंद पर लगे आरोपों की जांच के लिए एसआईटी बनाने का आदेश दिया

सुप्रीम कोर्ट ने चिन्मयानंद पर लगे आरोपों की जांच के लिए एसआईटी बनाने का आदेश दिया

शाहजहांपुर के एसएस लॉ कॉलेज (SS Law College) की छात्रा ने स्‍वामी चिन्मयानंद (Swami Chinmayanand) पर शोषण के आरोप लगाए थे. यह कॉलेज चिन्मयानंद का है.

    शाहजहांपुर (Shahjahanpur) के एसएस लॉ कॉलेज (SS Law College) से एलएलएम कर रही छात्रा द्वारा पूर्व बीजेपी सांसद स्वामी चिन्मयानंद (Swami Chinmayanand) पर लगाए गए आरोपों को लेकर सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) में सोमवार को सुनवाई हुई. मामले में सुप्रीम कोर्ट ने उत्तर प्रदेश सरकार को निर्देश दिया कि वह मामले में छात्रा द्वारा स्वामी चिन्मयानंद पर लगाए गए आरोपों की जांच के लिए एक स्पेशल इन्वेस्टीगेशन टीम (एसआईटी) का गठन करे. साथ ही पूरी जांच इलाहाबाद हाईकोर्ट की निगरानी करने का भी निर्देश दिया है.

    सुप्रीम कोर्ट ने उत्तर प्रदेश सरकार को आदेश दिया है कि आईजी स्तर के अधिकारी से मामले की जांच करवाई जाए. इतना ही नहीं शाहजहांपुर के एसएसपी को लड़की और उसके परिवार को सुरक्षा मुहैया कराने का निर्देश भी दिया है. उच्चताम न्यायालय ने कहा कि दिल्ली पुलिस बुधवार तक छात्रा और उसके पेरेंट्स की सुरक्षा करे. मामले की अगली सुनवाई बुधवार को होगी.

    सुप्रीम कोर्ट ने मामले की सुनवाई करते हुए कहा कि छात्रा ने उस कॉलेज में न पढ़ने की इच्छा जताई है. लिहाजा यूपी सरकार आस-पास के किसी लॉ कॉलेज की जानकारी कोर्ट को दो दिन में मुहैया करवाए. उसकी पढ़ाई बाधित न हो इसके लिए उसका एडमिशन भी सुनिश्चित हो चाहे इसके लिए सीट की संख्या ही बढ़ानी क्यों न पड़े. कोर्ट ने कहा कि अब इस मामले में अगला आदेश हाईकोर्ट ही जारी करेगा. सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि छात्रा ने कॉलेज पर भी आरोप लगाए हैं, उसकी भी जांच होगी.

    स्वामी चिन्मयानंद से रंगदारी मांगने के आरोपों की भी जांच

    सुप्रीम कोर्ट ने मामले में स्वामी चिन्मयानंद से रंगदारी मांगने के आरोपों की भी जांच अलग से कराने के निर्देश दिए हैं. सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि हम इस मामले में सीमित सुनवाई करेंगे.

    आपके शहर से (शाहजहांपुर)

    शाहजहांपुर
    शाहजहांपुर

    Tags: Supreme Court, Up crime news, Up news in hindi

    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर