चिन्मयानंद प्रकरण: न्याय पदयात्रा से पहले अजय कुमार लल्लू समेत कई अरेस्ट, जितिन प्रसाद नजरबंद
Shahjahanpur News in Hindi

चिन्मयानंद प्रकरण: न्याय पदयात्रा से पहले अजय कुमार लल्लू समेत कई अरेस्ट, जितिन प्रसाद नजरबंद
अपने घर में नजरबन्द किए गए जितिन प्रसाद

दरअसल, चिन्मयानंद यौन शोषण प्रकरण के बहाने कांग्रेस (Congress) उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) में कानून-व्यवस्था को बड़ा मुद्दा बनाने की तैयारी में है.

  • Share this:
शाहजहांपुर. चिन्मयानंद यौन शोषण (Chinmayanand Sexual Harassment Case) मामले को लेकर न्याय पदयात्रा निकाल रही कांग्रेस (Congress) के कई दिग्गज नेताओं को पुलिस ने अरेस्ट कर लिया है. विधानमंडल में कांग्रेस के नेता अजय कुमार लल्लू (Ajay Kumar Lalloo), विधायक आराधना मिश्रा, महिला प्रकोष्ठ की अध्यक्ष सुष्मिता देव, रोहित चौधरी समेत कई नेताओं को गिरफ्तार किया गया है. इसके अलावा पूर्व केंद्रीय मंत्री जितिन प्रसाद (Jitin Prasad) को हाउस अरेस्ट किया गया है. 

दरअसल, चिन्मयानंद यौन शोषण प्रकरण के बहाने कांग्रेस (Congress) उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) में कानून-व्यवस्था को बड़ा मुद्दा बनाने की तैयारी में है. कांग्रेस की राष्ट्रीय महासचिव प्रियंका गांधी (Priyanka Gandhi) के निर्देश पर यूपी कांग्रेस सोमवार से छात्रा के लिए इंसाफ को लेकर सड़कों पर उतरेगी. लेकिन इससे पहले ही यूपी पुलिस ने कांग्रेस के कई दिग्गज नेताओं को नजरबंद कर दिया है. उनके घरों के बाहर पुलिस तैनात है. शाहजहांपुर जिला कांग्रेस कार्यालय पर लगे टेंट को भी उखाड़ फेंका है. हालांकि कांग्रेसी अभी भी न्याय पदयात्रा को लेकर डटे हैं. किसी भी समय उनकी गिरफ़्तारी हो सकती है.

इन्हें किया गया गिरफ्तार



गिरफ्तार होने वालों में प्रमुख रूप से राष्ट्रीय प्रवक्ता राजीव त्यागी, राष्ट्रीय सचिव सचिन नाइक, रोहित चौधरी, धीरज गुर्जर नेता विधानमंडल दल अजय कुमार लल्लू, पूर्व विधान परिषद सदस्य नसीब पठान, पूर्व विधायक प्रदीप माथुर, प्रवक्ता अंशू अवस्थी, अनूप पटेल, प्रवक्ता नईम सिद्दीकी, सम्पूर्णानन्द मिश्रा, निर्मल शुक्ला, योगेश दीक्षित और यूपी युवा कांग्रेस अध्यक्ष ओमवीर यादव शामिल हैं.



several congress leaders arrested
न्याय पदयात्रा को लेकर अड़े कई कांग्रेसी गिरफ्तार


जितिन ने कहा- प्रशासन का फैसला बर्दाश्त नहीं


उधर जितिन प्रसाद ने प्रशासन की इस कार्रवाई पर कहा, 'यह दुर्भागयपूर्ण है. न्याय की लड़ाई लड़ी जा रही है. एक रेप पीड़िता को न्याय दिलाने के लिए शांतिपूर्ण पदयात्रा निकलने जा रही है. लेकिन उसे रोका जा रहा है. क्या वजह है, कौन सी शांति भंग की जा रही है. हमने पहले ही कह दिया है कि यह यात्रा शाहजहांपुर से निकलकर लखनऊ तक जाएगी. रेप पीड़िता के पक्ष में आवाज बुलंद की जाएगी जो न्याय की गुहार लगा रही है. यह बर्दाश्त के बाहर है. प्रशासन का यह फैसला कांग्रेस कार्यकर्ताओं और कांग्रेस नेतृत्व को बर्दाश्त नहीं है.'

जिला प्रशासन ने नहीं दी है अनुमति
बता दें चिन्मयानंद यौन शोषण प्रकरण में पीड़ित छात्रा को इंसाफ दिलाने के लिए सोमवार सुबह 10 बजे से कांग्रेस शाहजहांपुर से लखनऊ तक पदयात्रा निकालने की तैयारी में है. छात्रा को रंगदारी के मामले में जेल भेजने के विरोध में उतरी कांग्रेस व प्रशासन के बीच टकराव जैसे हालात बने हुए हैं. जिला प्रशासन ने धारा 144 का हवाला देते हुए पदयात्रा की अनुमति देने से इनकार कर दिया है. वहीं, कांग्रेस पदाधिकारी इस बात पर अड़े हैं कि आयोजन करेंगे क्योंकि उन्होंने पहले ही अनुमति के लिए आवेदन कर दिया था.

यह है पदयात्रा का रूट
30 सितंबर (सोमवार) को सुबह दस बजे शहीद स्मारक, जिला कांग्रेस कमेटी कार्यालय शाहजहांपुर के सामने से शुरुआत और उचैलिया में रात्रि विश्राम. 1 अक्टूबर को उचैलिया से चलकर बेबे का कॉलेज लखीमपुर में रात्रि पड़ाव. 2 अक्टूबर को लखीमपुर से चलकर महोली सीतापुर में प्रवास. 3 अक्टूबर को महोली से चलकर सीतापुर में ही रात्रि विश्राम. 4 अक्टूबर को सीतापुर में भ्रमण के बाद कमलापुर में ठहराव. 5 अक्टूबर को कमलापुर से चलकर सीतापुर के अटरिया में पड़ाव. 6 अक्टूबर को अटरिया से कूच लखनऊ के मड़ियांव में अंतिम पड़ाव. सात अक्टूबर को लखनऊ में यात्रा का समापन होगा.

ये भी पढ़ें:

यौन शोषण मामला: चिन्मयानंद और छात्रा की जमानत पर आज होगी सुनवाई
यूपी विधानसभा उपचुनाव: बीजेपी के लिए 2022 का अंक गणित 11 से होगा तय
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading