लाइव टीवी

चिन्मयानंद रंगदारी मामला: हाईकोर्ट से जमानत मिलने के बाद जेल से रिहा हुई पीड़िता

News18Hindi
Updated: December 12, 2019, 8:43 AM IST
चिन्मयानंद रंगदारी मामला: हाईकोर्ट से जमानत मिलने के बाद जेल से रिहा हुई पीड़िता
रेप पीड़ता लड़की को कोर्ट लेकर जाती पुलिस (फाइल फोटो)

पीड़िता की जमानत हाईकोर्ट से मंजूर होने के बाद उसकी रिहाई का आदेश जेल पहुंचा. इसके बाद बुधवार को पीड़ित लॉ स्टूडेंट को रिहा कर उसे उसके पिता के हवाले (सुपुर्द) कर दिया गया.

  • News18Hindi
  • Last Updated: December 12, 2019, 8:43 AM IST
  • Share this:
शाहजहांपुर. चिन्मयानंद (Chinmayananda) रंगदारी केस में आरोपी पीड़िता को इलाहाबाद हाईकोर्ट (Allahabad High Court) से जमानत मंजूर होने के बाद जेल से रिहा कर दिया गया. जेलर राजेश कुमार राय ने बताया कि चिन्मयानंद से पांच करोड़ रुपए की रंगदारी मांगने की आरोपी पीड़िता की जमानत हाईकोर्ट से मंजूर होने के बाद पीड़िता की रिहाई का आदेश जेल पहुंचा. इसके बाद बुधवार को पीड़िता को रिहा कर उसे उसके पिता के हवाले (सुपुर्द) कर दिया गया.

SIT ने छात्रा को किया था गिरफ्तार
रंगदारी मांगने की आरोपी लॉ छात्रा के वकील सरदार कलविंदर सिंह ने बताया कि एसआईटी ने पीड़िता को 25 सितंबर को उसके रंग महिला स्थित आवास से गिरफ्तार किया था. इसके बाद उसे जेल भेज दिया गया. इलाहाबाद हाईकोर्ट ने पीड़िता की जमानत याचिका को चार दिसंबर को मंजूर कर ली थी. उन्होंने बताया कि इसके बाद जमानत संबंधी आदेश यहां मुख्य न्यायिक दंडाधिकारी ओमबीर की अदालत में दाखिल किया गया. इसके बाद एक-एक लाख के दो जमानती प्रपत्र दाखिल किए गए जिनका सत्यापन आज होकर न्यायालय पहुंचा तो अदालत ने पीड़िता को रिहा करने का आदेश जेल भेजा.

पीड़िता के तीन साथी भी जेल में हैं बंद

रेप और यौन शोषण के आरोपी पूर्व केंद्रीय गृह राज्य मंत्री चिन्मयानंद से रंगदारी मांगने के आरोप में जेल में पीड़िता के अलावा उसके साथी संजय, विक्रम और सचिन भी बंद हैं. इनमें से विक्रम की जमानत भी हाईकोर्ट से मंजूर हो गई है परंतु उसे अभी रिहा नहीं किया गया है. चिन्मयानंद पर यौन शोषण का आरोप लगाने वाली पीड़िता को विशेष जांच दल (एसआईटी) ने आरोपी बनाते हुए बीते 25 सितंबर को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया था. जबकि चिन्मयानंद को 20 सितंबर को ही गिरफ्तार कर जेल भेज दिया गया था.

लॉ स्टूडेंट के यौन शोषण और रेप के आरोप में एसआईटी ने बीते 25 सितंबर को चिन्मयानंद को उनके आश्रम से गिरफ्तार किया था


छात्रा ने चिन्मयानंद पर लगाए थे रेप के आरोपचिन्मयानंद की जमानत याचिका पर इलाहाबाद हाईकोर्ट में सुनवाई होने के बाद अदालत ने फैसला सुरक्षित रख लिया था. ऐसे में आरोपी चिन्मयानंद को अभी जेल में ही रहना होगा. मुमुक्षु आश्रम द्वारा संचालित स्वामी शुकदेवानंद विधि महाविद्यालय में एलएलएम की एक छात्रा ने 24 अगस्त को एक वीडियो बनाकर चिन्मयानंद पर यौन शोषण का गंभीर आरोप लगाया था. यह वीडियो वायरल हो गया था.

चिन्मयानंद से पांच करोड़ की रंगदारी मांगने का आरोप
इसके बाद सुप्रीम कोर्ट के हस्तक्षेप के बाद एसआईटी ने मामले की जांच की और चिन्मयानंद को यौन शोषण के आरोप में और पीड़िता समेत उसके तीन अन्य साथियों को स्वामी चिन्मयानंद से पांच करोड़ रुपए की रंगदारी मांगने के आरोप में गिरफ्तार कर जेल भेज दिया था. एसआईटी ने सीजेएम की अदालत में आरोपपत्र भी दाखिल कर दिया है. इस मामले में पीड़िता की जमानत मंजूर होने के बाद बुधवार को उसे जेल से रिहा कर दिया गया.

ये भी पढ़ें- एक साल से कर रही न्याय का इंतज़ार, तेजाब पीड़िता ने खून से लिखा SP को खत

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए शाहजहांपुर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: December 12, 2019, 6:03 AM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर