Home /News /uttar-pradesh /

जलालाबाद का नाम परशुरामपुरी नहीं तो वोट नहीं! PM मोदी की रैली के बाद फिर सुलगा ये पुराना मुद्दा

जलालाबाद का नाम परशुरामपुरी नहीं तो वोट नहीं! PM मोदी की रैली के बाद फिर सुलगा ये पुराना मुद्दा

मान्यता है कि जलालाबाद भगवान परशुराम की जन्मस्थली है. यहां भगवान परशुराम का पुराना मंदिर भी है.

मान्यता है कि जलालाबाद भगवान परशुराम की जन्मस्थली है. यहां भगवान परशुराम का पुराना मंदिर भी है.

Jalalabad name change Parshurampuri movement: जलालाबाद में आजकल परशुरामपुरी का मुद्दा फिर गूंज रहा है. लोगों का नारा है कि परशुरामपुरी नहीं तो वोट नहीं. लोग बाजारों में पर्चे बांट रहे हैं और लोगों से संपर्क करके इस मुहिम में जुड़ने की अपील कर रहे हैं. लोगों का कहना है कि अगर चुनावों से पहले नाम नहीं बदला गया तो मतदान का बहिष्कार करेंगे. पीएम मोदी ने चुनावी सभा में भगवान परशुराम का जिक्र किया तो यहां के लोगों की उम्मीद और बढ़ गई है.

अधिक पढ़ें ...

शाहजहांपुर. जलालाबाद विधानसभा में (Jalalabad Assembly) आजकल परशुरामपुरी (Parshurampuri) का मुद्दा गूंज रहा है. लोगों का यहां नारा है कि परशुरामपुरी नहीं तो वोट नहीं. अपनी मांग को लेकर जलालाबाद के लोग बाजारों में पर्चे बांट रहे हैं और लोगों से संपर्क करके इस मुहिम में जुड़ने की अपील कर रहे हैं. स्थानीय लोगों का कहना है कि अगर चुनावों से पहले नाम नहीं बदला गया तो मतदान का बहिष्कार करेंगे. लोगों की इस घोषणा के बाद प्रशासन की भी चिंता बढ़ने लगी है.

यहां के लोगों की मान्यता है कि जलालाबाद भगवान परशुराम की जन्मस्थली है. यहां भगवान परशुराम का पुराना मंदिर भी है. नाम बदलने और पर्यटन स्थल घोषित करने को लेकर कई बार सरकार के सामने मांग की जा चुकी है. लगातार मांग किए जाने के बाद भी सरकार इस पर चुप ही रही. इस बार यहां जलालाबाद का नाम परशुरामपुरी करने को लेकर एक बार फिर मुहिम शुरू हुई है. लोग आंदोलन का हिस्सा बनकर जागरुकता फैलाने में लग गए हैं.

जलालाबाद का नाम परशुरामपुरी करने की मांग कई साल पुरानी है, लेकिन 18 दिसम्बर को शाहजहांपुर में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जनसभा में भगवान परशुराम का जिक्र किया था. इसके बाद से ही इनकी उम्मीद बढ़ने साथ मुहिम नाम परिवर्तन की मांग तेज़ हो गई.

यूपी में विधानसभा चुनाव के नजदीक आने के साथ यहां के लोगों ने सरकार पर दबाव बनाना शुरू कर दिया है. बीजेपी के स्थानीय नेता और जनप्रतिनिधयों पर भी दबाव बनाया जा रहा है. लगातार पर्चे बांटे जा रहे हैं.

Tags: Jalalabad name change movement, Jalalabad New Name Parshurampuri, Jalalabad News, Lord parshuram birth place, UP election boycott, UP news

विज्ञापन
विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर