लाइव टीवी

रेप के आरोपी चिन्मयानंद की मुमुक्षु आश्रम के अधिष्ठाता पद से भी हो सकती है छुट्टी

News18 Uttar Pradesh
Updated: September 23, 2019, 10:29 AM IST
रेप के आरोपी चिन्मयानंद की मुमुक्षु आश्रम के अधिष्ठाता पद से भी हो सकती है छुट्टी
स्वामी चिन्मयानंद से छीन सकती है मुमुक्षु आश्रम की गद्दी

दरअसल संत-समाज से बाहर होने के बाद अटकलें तेज हैं कि स्वामी चिन्मयानंद (Swami Chinmyanand) की मुमुक्षु आश्रम से भी जल्द ही छुट्टी हो सकती है.

  • Share this:
शाहजहांपुर. एसएस लॉ कॉलेज (SS Law College) की छात्रा के साथ दुष्कर्म और यौन शोषण (Sexual Harassment) के आरोप में जेल भेजे गए पूर्व केंद्रीय गृह राज्यमंत्री स्वामी चिन्मयानंद (Swami Chinmyanand) की मुमुक्षु आश्रम (Mumukshu Ashram) के अधिष्ठाता पद से हटना तय माना जा रहा है. दरअसल संत-समाज से बाहर होने के बाद अटकलें तेज हैं कि स्वामी की मुमुक्षु आश्रम से भी जल्द ही छुट्टी हो सकती है. चिन्मयानंद ने एसआईटी (SIT) पूछताछ के दौरान छात्रा से मालिश की बात स्वीकारी थी और कहा था कि वे इसके लिए शर्मिंदा हैं. चिन्मयानंद की स्वीकारोक्ति के बाद से ही संत समाज उनके खिलाफ है.

इससे पहले प्रयागराज में अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष महंत नरेंद्र गिरि ने उनके इस कृत्य को संत समाज को अपमानित करने वाला और अक्षम्य बताया. साथ ही उनके संत समाज से बहिष्कृत करने की घोषणा की. हालांकि इस पर आखिरी मुहर 10 अक्टूबर को हरिद्वार में होने वाली बैठक में लगेगी. महंत नरेंद्र गिरि ने कहा कि चिन्मयानंद ने अपनी गलती स्वीकार कर ली है, ऐसे में उनके इस कृत्य से संत समाज शर्मिंदा है. उन्होंने कहा जब तक पूरा मामला खत्म नहीं हो जाता, तब तक संत समाज बहिष्कृत रहेंगे. बता दें कि चिन्मयानंद महानिर्वाणी अखाड़े के महामंडलेश्वर हैं.

एसआईटी पेश करेगी स्टेटस रिपोर्ट

उधर लॉ छात्रा से रेप और यौन शोषण के मामले में स्पेशल इन्वेस्टीगेशन टीम सोमवार को इलाहाबाद हाईकोर्ट में अब तक हुई जांच और कार्रवाई की स्टेटस रिपोर्ट दाखिल करेगी. सुप्रीम कोर्ट ने एसआईटी को 23 सितंबर तक स्टेटस रिपोर्ट दाखिल करने का निर्देश दिया था. उधर, चिन्मयानंद से रंगदारी मांगने के मामले में गिरफ्तारी से बचने के लिए पीड़ित छात्रा अपने पिता और भाई के साथ प्रयागराज पहुंची है. माना जा रहा है कि छात्रा अग्रिम जमानत के लिए याचिका दाखिल करेगी. अग्रिम जमानत न मिलने की स्थिति में छात्रा की गिरफ़्तारी तय मानी जा रही है.

गौरतलब है कि शुक्रवार को एसआईटी ने चिन्मयानंद को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया था. वहीं, रंगदारी मामले में छात्रा के दोस्त संजय, विक्रम और सचिन को भी गिरफ्तार कर जेल भेजा जा चुका है. मामले में एसआईटी ने छात्रा को भी दोषी पाया है. लिहाजा गिरफ़्तारी से बचने के लिए छात्रा शनिवार को ही प्रयागराज रवाना हो गई थी. जस्टिस मनोज मिश्र और जस्टिस मंजूरानी चौहान की डिवीजन बेंच मामले की सुनवाई करेगी. कोर्ट में पीड़िता और उसके परिवार वाले भी अपना पक्ष रख सकते हैं. अपनी सुरक्षा और अग्रिम जमानत को लेकर अदालत से अपील कर सकते हैं. एलएलएम की एक छात्रा ने पूर्व केंद्रीय गृह मंत्री स्वामी चिन्मयानंद पर रेप और यौन शोषण का आरोप लगाया है. पीड़ित छात्रा ने जान का खतरा भी बताया है. साथ ही गिरफ्तारी पर रोक की मांग को लेकर याचिका भी दाखिल की है.

ये भी पढ़ें:

संगम नगरी प्रयागराज में बाढ़ का कहर, कॉलोनी में चल रही हैं नावें
Loading...

नोएडा के अग्निशमन अधिकारी कुलदीप कुमार गिरफ्तार, ये रही वजह

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए शाहजहांपुर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: September 23, 2019, 10:29 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...