लाइव टीवी

चिन्मयानंद से रंगदारी मांगने के मामले में रेप पीड़िता की जमानत अर्जी खारिज

News18 Uttar Pradesh
Updated: September 25, 2019, 8:25 PM IST
चिन्मयानंद से रंगदारी मांगने के मामले में रेप पीड़िता की जमानत अर्जी खारिज
चिन्मयानंद से रंगदारी मांगने के आरोप में पीड़ित छात्रा की गिरफ्तारी के मामले एडीजे फर्स्ट कोर्ट ने पीड़िता की जमानत अर्जी खारिज कर दी है.

स्वामी चिन्मयानंद (Swami Chinmayananda) से रंगदारी (Extortion) मांगने के आरोप में पीड़ित छात्रा की गिरफ्तारी के मामले शाहजहांपुर (Shahjahanpur) एडीजे फर्स्ट कोर्ट ने बुधवार को पीड़िता की जमानत अर्जी खारिज कर दी.

  • Share this:
शाहजहांपुर. स्वामी चिन्मयानंद (Swami Chinmayananda) से रंगदारी (Extortion) मांगने के आरोप में पीड़ित छात्रा की गिरफ्तारी के मामले में शाहजहांपुर (Shahjahanpur) एडीजे फर्स्ट कोर्ट ने बुधवार को पीड़िता की जमानत अर्जी खारिज कर दी. पीड़िता की गिरफ्तारी के बाद उसके वकील ने कोर्ट में जमानत के लिए अर्जी दाखिल की थी. गुरुवार को फिर से कोर्ट में छात्रा की जमानत के लिए आवेदन किया जाएगा. 26 सितंबर को कोर्ट ने दोनों पक्षों की सुनवाई के लिए तारीख दे रखी है.

सहायक अभियोजन अधिकारी लाल साहब ने फोन पर बताया कि चिन्मयानंद से पांच करोड़ रुपए की रंगदारी मांगने वाली रेप पीड़िता छात्रा की जमानत अर्जी उनके अधिवक्ता अनूप त्रिवेदी ने एसीजीएम की अदालत में लगाई थी. जिसे अदालत ने खारिज कर दिया.

30 सितंबर को होगी चिन्मयानंद की जमानत पर सुनवाई
उधर चिन्मयानंद के अधिवक्ता ओम सिंह ने बताया कि बुधवार को उन्होंने पूर्व केंद्रीय मंत्री की जमानत की अर्जी जिला जज की अदालत में दी है, जिस पर सुनवाई के लिए 30 सितंबर की तारीख तय हुई है. पीड़िता की गिरफ्तारी के बाद विशेष जांच दल (एसआईटी) ने प्रेस वार्ता की, जिसमें आईपीएस भारती सिंह ने बताया कि चिन्मयानंद को मोबाइल पर धमकी भरा मैसेज भेजा गया था. जिसमें उनसे पांच करोड़ रुपए की मांग की गई थी. रंगदारी नहीं देने पर उनका अश्लील वीडियो टीवी चैनल पर चलवा कर उनकी इज्जत मिट्टी में मिलाने की धमकी दी गई थी.

आरोपी बोले, रंगदारी मांगने में पीड़िता की प्रमुख भूमिका
आईपीएस भारती ने बताया कि इस मामले में मुकदमा कोतवाली में दर्ज किया गया था. इसके बाद मौखिक अभिलेख और इलेक्ट्रॉनिक साक्ष्य एकत्र किए गए और विवेचना की प्रगति रिपोर्ट उच्चतम न्यायालय में 23 सितंबर को प्रस्तुत की गई, जिससे न्यायालय संतुष्ट हुआ है. उन्होंने बताया कि पूर्व में गिरफ्तार संजय, विक्रम और सचिन ने रंगदारी मांगने की बात स्वीकार की थी. इसके साथ ही आरोपियों ने साक्ष्य मिटाने के इरादे से मोबाइल फोन राजस्थान के दौसा में रास्ते में फेंक दिया था. तीनों आरोपियों ने स्वीकार किया कि इस रंगदारी की मांग में 'मिस ए' यानी पीड़िता की प्रमुख भूमिका है.

वीडियो में पीड़िता ने चिन्मयानंद से रंगदारी मांगने की बात स्वीकार की हैमोबाइल फोन बरामद करने के लिए ही सचिन तथा विक्रम को अदालत से पुलिस हिरासत में लिया गया है. उनकी पुलिस हिरासत की अवधि 95 घंटे की है. भारती ने बताया कि उपलब्ध साक्ष्यों के आधार पर ‘मिस ए’ पीड़िता से 24 सितंबर को उनके आवास पर पूछताछ की गई और उन्हें फॉरेन्सिक लैब द्वारा जांच के उपरांत वीडियो क्लिपिंग दिखाई गई जिसमें पीड़िता द्वारा फर्जी सिम का प्रयोग कर व्हाट्सएप के माध्यम से चिन्मयानंद से रंगदारी मांगने की बात स्वीकार की गई है.

14 दिन की न्यायिक हिरासत में भेजी गई पीड़िता
पुलिस अधिकारी सिंह ने बताया है कि वीडियो क्लिप में संजय, विक्रम, सचिन तथा ‘मिस ए’ साथ में थे. ऐसे में टोल टैक्स होटल में उनकी एक साथ उपस्थिति और सीडीआर के पुख्ता साक्ष्य इकट्ठे किए गए. उन्होंने बताया कि साक्ष्यों के साथ एसआईटी दोबारा पीड़िता के घर गई और उन्हें वीडियो क्लिप दिखाई गई तो पीड़िता ने अपनी और अपने साथियों की आवाज होने की पुष्टि की. एसआईटी ने पीड़िता को गिरफ्तार करके बुधवार सुबह जेल भेज दिया. अधिवक्ता ओम सिंह ने बताया कि पीड़िता को विशेष जांच दल ने एसीजेएम (अपर मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट) विनीत कुमार की अदालत में पेश किया, जहां से उसे 14 दिन की न्यायिक हिरासत में जेल भेज दिया गया.

 

(रिपोर्ट - ऋषभ मणि)

ये भी पढ़ें-

स्वामी चिन्मयानंद भारतीय जनता पार्टी के सदस्य नहीं: पार्टी प्रवक्ता

सख्ती के बाद नोएडा में बढ़े ड्राइविंग लाइसेंस बनवाने वाले, इतनी हो गई संख्या!

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए लखनऊ से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: September 25, 2019, 5:38 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर