यहां अंग्रेजों से बदला लेने के लिए हर साल खेली जाती है जूता मार होली
Shahjahanpur News in Hindi

यहां अंग्रेजों से बदला लेने के लिए हर साल खेली जाती है जूता मार होली
धमतरी के इस गांव में होली की एक अनोखी परंपरा मानी जाती है. (file photo)

यहां जूता मार होली खेली जाती है. लाट साहब को बैलगाड़ी में बैठाकर पूरे शहर में घुमाया जाता है.

  • Share this:
शाहजहांपुर. आमतौर से आपने लड्डू की होली, फूलों की होली और लठ्रठमार होली सुनी होगी. क्या आपने कभी जूता मार होली भी सुनी है? अगर आपने इसका नाम नहीं सुना है तो हम आपको जूता मार होली के बार में जरा विस्तार से बताते हैं. शाहजहांपुर में अंग्रेजों से बदला लेने के लिए हर साल जूता मार होली खेली जाती है. इसी के चलते होली से पहले शाहजहांपुर में भारी पुलिस बल तैनात किया है. जिसकी मॉनिटरिंग खुद डीएम और एसपी कर रहे हैं.

लाट साहब को मारे जाते हैं जूते
शाहजहांपुर में होली के दिन जूता मार होली खेली जाती है यहां लाट साहब को बैलगाड़ी में बैठाकर पूरे शहर में घुमाया जाता है. इस दौरान लोग लाट साहब पर जूता और झाड़ू मार के अपने आक्रोश निकालते हैं. पूरे जिले में इस तरीके के तीन जुलूस निकाले जाते हैं जिसके लिए प्रशासन को कड़ी मशक्कत करनी पड़ती है. भीड़ को कंट्रोल करने के लिए भारी पुलिस बल को अभी से ही तैनात किया गया है.

इसके साथ ही पूरे जिले में सेक्टर मजिस्ट्रेट की तैनाती के साथ डीएम और एसपी जगह-जगह  पीस कमेटियो के साथ सड़कों पर निकलकर जुलूस को शांतिपूर्ण तरीके से निकालने की कवायद, होली से पहले करने लगते हैं.
भीड़ को कन्ट्रोल करने के लिए पुलिस करती है मशक्कत


दरअसल शाहजहांपुर में ऐसे तीन जुलूस निकाले जाते हैं, जहां लोग इसी तरीके से जूता मार होली खेलते हैं. कहते हैं कि अंग्रेजों से बदला लेने के लिए वर्षों से यहां इस तरह से ही होली खेली जाती है. जिसके चलते प्रशासन को कड़ी मशक्कत करनी पड़ती है. इल होली मे हुडदंगियो को कंट्रोल करने के लिए पुलिस प्रशासन को नाकों चने चबाने पड़ते हैं. लेकिन इन सबके बावजूद शाहजहांपुर में हमेशा से ही शांति की होली होती रहती है.

ये भी पढ़ें: 

नोएडा: चीनी शख्स को सताया कोरोना वायरस का डर, खुद को किया घर में कैद

Coronavirus: मथुरा में विदेशी भक्तों पर रोक, विधवाओं का होली कार्यक्रम भी रद्द
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading