Assembly Banner 2021

Kisan Andolan: खाप चौधरियों से मिलने पहुंचे भाजपा नेता गांव में नहीं घुस पाए, इस तरह हुआ विरोध का सामना

कृषि कानून के फायदे गिनाने गांव पहुंचे संजीव बालियान 'मुर्दाबाद' सुनते ही उल्टे पांव लौटे

कृषि कानून के फायदे गिनाने गांव पहुंचे संजीव बालियान 'मुर्दाबाद' सुनते ही उल्टे पांव लौटे

भाजपा के कई नेता और कैबिनेट मंत्री संजीव बालियान खाप चौधरियों से मिलने उनके गांव पहुंच रहे हैं, लेकिन उनका कई जगह विरोध शुरू हो गया है. किसान आंदोलन समर्थक ग्रामीणों ने भाजपा नेताओं को गांव में घुसने से रोक दिया. मुर्दाबाद के नारे लगाए.

  • News18Hindi
  • Last Updated: February 21, 2021, 9:28 PM IST
  • Share this:
शामली. कृषि कानून (Agricultural Law) को लेकर केन्द्र सरकार की मुश्किलें कम नहीं हो रहीं हैं. भाजपा (BJP) के कई नेता और कैबिनेट मंत्री संजीव बालियान (Sanjeev Balyan) खाप चौधरियों से मिलने उनके गांव पहुंच रहे हैं, लेकिन उनका कई जगह विरोध शुरू हो गया है. किसान आंदोलन समर्थक ग्रामीणों ने भाजपा नेताओं को गांव में घुसने से रोक दिया. मुर्दाबाद के नारे लगाए. इस पर मंत्री संजीव बालियान ने कहा कि दस किसानों के मुर्दाबाद बोलने से मैं मुर्दाबाद नहीं हो जाऊंगा. इस पर गांव के लोग भड़क गए. जमकर नारेबाजी के बीच भाजपा नेताओं को अपना काफिला वापस शामली की ओर मोड़ना पड़ा. जमीनी स्तर पर हो रहे इस विरोध ने भाजपा की चिंता बढ़ा दी है.

गौरतलब है कि केन्द्रीय गृहमंत्री अमित शाह के निर्देश पर शामली जनपद में बीजेपी के कई बड़े नेता सुबह से भ्रमण कर रहे हैं. शामली के कई गांवो में जाकर खाप चौधरियों से मुलाकात कर रहे हैं. कैबिनेट राज्यमंत्री संजीव बालियान व पंचायत राज मंत्री भूपेंद्र चौधरी सहित शामली सदर विधायक व कई बड़े नेता इसमें शामिल हैं. कई जगह नेताओं को ग्रामीणों का विरोध भी झेलना पड़ रहा है. भैंसवाल के किसानों ने नेताओं ने कड़ा विरोध करते हुए जमकर नारेबाजी की है. बताया गया है कि बीजेपी नेताओं की टीम आदर्शमंडी थाना क्षेत्र के गांव भैंसवाल में पहुंची थी, जहां पर पहले ग्रामीणों ने मैन रोड पर ट्रैक्टर ट्राली खड़ा कर नेताओं को गांव में नहीं घुसने दिया. जैसे-तैसे कर नेता गांव में चले गए तो वहां पर मौजूद किसानों ने मुर्दाबाद के नारे लगाने शुरू कर दिए. बीजेपी नेताओं के खिलाफ जमकर हंगामा खड़ा कर दिया. विरोध बढ़ने पर मंत्री संजीव बालियान वहां से काफिले के साथ वापस लौटने लगे.

किसानों का यह विरोध प्रदर्शन गाजीपुर बॉर्डर पर चल रहे किसान आंदोलन के समर्थन में है. किसानों का कहना है कि जब तक तीनों कृषि कानून बिल वापस नहीं होंगे. तब तक बीजेपी के किसी भी नेता का गांव में घुसने पर प्रतिबंध है. कड़े विरोध के बीच मंत्रियों काफिला वापस शामली लौटाना पड़ा. गांव में भाजपा नेताओं के खिलाफ जमकर नारेबाजी की गई.



खाप चौधरियों ने सुबह में ही बीजेपी नेताओं से मिलने के लिए इंकार कर दिया था. उसके बावजूद भी बीजेपी नेता गांव-गांव पहुंचकर खाप चौधरी से मुलाकात कर रहे हैं और कृषि कानून तीनों बिलों के समर्थन की अपील कर रहे हैं. खाप चौधरियों ने स्पष्ट कर दिया था कि वह किसी भी नेता से मिलना नहीं चाहते हैं. बावजूद उसके 32 खाप का गांव भैंसवाल में मंत्री अपने काफिले के साथ पहुंचे थे, जहां पर उनको यह विरोध झेलना पड़ा है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज