Shamli News: शादी में डीजे की धुन पर दूल्हे के थिरकने से भड़के मौलाना, निकाह पढ़ाने से किया इनकार

मौलवी से लड़की पक्ष ने माफी मांगी लेकिन बात नहीं बनी.

मौलवी से लड़की पक्ष ने माफी मांगी लेकिन बात नहीं बनी.

शामली (Shamli) में शादी में डीजे बजाने और दूल्‍हे के डांस करने के कारण मौलवी ने निकाह (Nikah) पढ़ाने इंकार कर दिया. यह मामला आजकल चर्चा में बना हुआ है.

  • Share this:
शामली. यूपी के शामली (Shamli) में एक मौलवी ने शादी में निकाह (Nikah) पढ़ाने से इंकार कर दिया है. मौलवी की नाराजगी का कारण शादी में डीजे बजाना(Playing DJ) और दूल्हे का डांस करना बना. यही नहीं, मौलवी शादी छोड़कर वापस लौट गया और वह लड़की के परिजनों द्वारा माफी मांगने के बाद भी नहीं माना. इसके बाद शहर के दूसरे मौलाना को बुलाया गया और निकाह पढ़ा गया. इसके बाद दूल्हा अपनी दुल्हन को लेकर रुकसत हो गया.

दरअसल मामला कैराना कोतवाली क्षेत्र के मौहल्ला खेल कला है, जहां गत 21 मार्च को दिल्ली के जगतपुरी से एक व्यक्ति के घर दो बारात आईं थीं. जैसे ही बारात लड़की पक्ष के घर पर पहुंची, तभी बारात के साथ लाए गए डीजे को बजाया गया. डीजे की धुन पर दोनों दूल्हों ने बारातियों के साथ एक गाड़ी के ऊपर चढ़कर जमकर डांस किया.

मौलवी सुफियान ने किया इंकार, तो बुलाई पंचायत

बारातियों द्वारा खाना खाने के बाद मोहल्ले की ईदगाह मस्जिद के पेश इमाम मौलवी सुफियान से निकाह पढ़ाने की मांग की गई, जिसके बाद मौलवी सुफियान ने बारात में डीजे बजाने की बात कहते हुए नाराजगी जताई और निकाह पढ़ाने से साफ इंकार कर दिया. देर रात करीब 11 बजे दूसरे मौलाना द्वारा दूल्हे और दुल्हन का निकाह पढ़ाया. इसके बाद अगले दिन लड़की पक्ष वालों ने एक पंचायत कर सुफियान द्वारा निकाह पढ़ाने से इंकार करने पर ऐतराज जताया. बाद में कारी सुफियान द्वारा जामा मस्जिद के शाही इमाम मौलाना ताहिर व मोहल्ले के जिम्मेदार लोगों को बुलाया. जहां पर पहुंचे जामा मस्जिद के शाही इमाम मौलाना ताहिर ने मौलवी सुफियान द्वारा शादी में डीजे बजाने से नाराज होकर निकाह न पढ़ाए जाने की तारीफ की और उनका हौसला बढ़ाया.
मौलाना ताहिर ने सभी से अपील की है कि अगर किसी ब्याह शादी में डीजे बजा जाए तो कोई भी निकाह न पढ़ाएं. शादी में बजाए गए डीजे की धुन पर नाचने का दूल्‍हों और बारातियों का डांस की वीडियो भी सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है. यही नहीं, शादी में डीजे बजाने के कारण मस्जिद के पेश इमाम द्वारा निकाह नहीं पढ़ाए जाने की प्रशंसा होने के साथ आगे से शादियों में डीजे न बजाने का समर्थन किया जा रहा है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज