शामली: पत्रकार की पिटाई के मामले में मानवाधिकार आयोग का DGP को नोटिस

उत्तर प्रदेश के शामली जिले में एक न्यूज चैनल के पत्रकार की GRP के जवानों द्वारा पिटाई का मामला तूल पकड़ता जा रहा है.

News18 Uttar Pradesh
Updated: June 14, 2019, 9:23 PM IST
शामली: पत्रकार की पिटाई के मामले में मानवाधिकार आयोग का DGP को नोटिस
राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग ने इस मामले स्वत: संज्ञान लेते हुए राज्य के पुलिस महानिदेशक को नोटिस दिया है.
News18 Uttar Pradesh
Updated: June 14, 2019, 9:23 PM IST
उत्तर प्रदेश के शामली जिले में एक न्यूज चैनल के पत्रकार की GRP के जवानों द्वारा पिटाई का मामला तूल पकड़ता जा रहा है. अब राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग ने इस मामले स्वत: संज्ञान लेते हुए राज्य के पुलिस महानिदेशक को नोटिस दिया है. आयोग ने मामले में एक डिटेल रिपोर्ट मांगी है, जिसमें यह भी बताया जाए कि दोषी पुलिसकर्मियों के खिलाफ क्या कार्रवाई की गई. चार हफ्तों में जवाब देने के बात भी कही गई है.

इस मामले में आरोपी एसएचओ और एक पुलिस कॉन्स्टेबल पर केस दर्ज कर उन्हें सस्पेंड कर दिया गया है. मानवाधिकार आयोग ने पाया है कि अगर मीडिया रिपोर्ट्स सही हैं तो पीड़ित पत्रकार के अधिकारों का हनन हुआ है. आयोग के मुताबिक पुलिस का यह व्यवहार पब्लिक सर्वेंट्स को शोभा नहीं देता है और यह बेहद अपमानजनक है. आयोग का मानना है कि अगर पुलिसकर्मियों के खिलाफ दोष सिद्ध होता है तो कड़ी कार्रवाई की जानी चाहिए.





ये है मामला
Loading...

न्यूज़ चैनल के पत्रकार को ट्रेन डिरेल होने की सूचना मिली तो वह तत्काल मौके पर पहुंच कर हादसे की खबर कवरेज करने लगे. जब वह अपना कैमरा चला रहे थे तो उसी दौरान एसओ राकेश कुमार भी मौके पर आ गए और खबर कवरेज करने का विरोध करने लगे. इसके बाद एसओ राकेश कुमार ने कथित रूप से पत्रकार के साथ अभद्र व्यवहार करते हुए उसके कैमरे पर हाथ मार दिया और फिर मारपीट शुरू कर दी. पत्रकार अमित कुमार का आरोप है कि इस दौरान उसका कैमरा टूट गया, लेकिन एसओ यही नहीं रुके और अपने अन्य छह पुलिसकर्मियों के साथ मिलकर उसे घेर लिया. अमित कहते हैं, 'पुलिसवालों ने फिर एक के बाद एक कई थप्पड़ जड़ दिए और लात-घूंसे मारते हुए थाने तक ले गए.'

गिड़गिड़ाता रहा पत्रकार

इस घटना का वीडियो भी सामने आया है, जिसमें दिख रहा है कि बेबस पत्रकार गिड़गिड़ाता रहा और अपनी जान की भीख मांगता रहा, लेकिन एसओ राकेश कुमार और उनके साथियों ने उसे हवालात में डाल दिया.

ये है वजह

पत्रकार का आरोप है कि उसने कुछ दिन पहले शामली रेलवे स्टेशन पर काम कर रहे अवैध वेंडरों की खबर चलाई थी, जिस पर एसओ जीआरपी की फजीहत हुई थी. इसी से खुन्नस खाकर एसओ ने उसकी सरेआम पिटाई की और उसे हवालात में डाल दिया.

ये भी पढ़ें:

शिवपाल ने SP में विलय की अटकलों को किया खारिज, अकेले सरकार बनाने का दावा

अलीगढ़ में महिला BDC को जिंदा जलाने की कोशिश, हालत गंभीर
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...