Home /News /uttar-pradesh /

UP Election: कैराना के बाद हॉट-स्पॉट शामली में किसका पलड़ा भारी, किस ओर है सियासी हवा का रुख?

UP Election: कैराना के बाद हॉट-स्पॉट शामली में किसका पलड़ा भारी, किस ओर है सियासी हवा का रुख?

UP Chunav 2022: शामली की 3 में से 2 सीटों पर 2017 में जीत दर्ज करने वाली भाजपा के सामने इस विधानसभा चुनाव में क्या है चुनौती? क्या है सियासी हवा का रुख?

UP Chunav 2022: शामली की 3 में से 2 सीटों पर 2017 में जीत दर्ज करने वाली भाजपा के सामने इस विधानसभा चुनाव में क्या है चुनौती? क्या है सियासी हवा का रुख?

UP Assembly Election 2022: पिछले विधानसभा चुनाव में भारतीय जनता पार्टी ने 3 में से 2 सीट शामली और थानाभवन में जीत दर्ज की थी. पलायन का मुद्दा जोर-शोर से उठाने के बाद भी पार्टी को कैराना सीट पर हार का सामना करना पड़ा था. इस बार की सियासी हवा का रुख बदला हुआ है. किसान आंदोलन के साये में हो रहे विधानसभा चुनाव में इस बार किसका पलड़ा भारी है? पढ़िए यह रिपोर्ट...

अधिक पढ़ें ...

शामली. यूपी विधानसभा चुनाव के पहले चरण में ही शामली की तीन सीटों पर भी मतदान होना है. केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह के प्रचार में उतरने के बाद जिले की कैराना सीट जहां सबसे हाट बन गई है. वहीं थानाभवन में प्रदेश के गन्ना मंत्री सुरेश राणा की साख दांव पर लगी है. 2017 के चुनाव में भाजपा ने तीन में से दो सीट शामली और थानाभवन में जीत दर्ज की थी. मगर पलायन का मुद्दा जोर-शोर से उठाने के बाद भी कैराना सीट पर भाजपा को हार का सामना करना पड़ा था.

वहीं, समाजवादी पार्टी ने इस बार भी कैराना से वर्तमान विधायक नाहिद हसन को मैदान में उतारा है. उनके सामने भाजपा की तरफ से कद्दावर नेता रहे हुकुम सिंह की बेटी मृगांका सिंह मैदान में हैं. किसान आंदोलन के साये में हो रहे इस चुनाव में इस बार शामली की किस सीट पर किसका पलड़ा भारी है? सियासी हवा की दिशा किस ओर मुड़ रही है? इन सब सवालों का जवाब जानने के लिए आइए समझते हैं तीनों सीटों का समीकरण…

आपके शहर से (शामली)

शामली
शामली

कैराना: दांव पर पलायन की सियासत

Tags: Kairana Assembly, Shamli news, UP Assembly Election 2022, UP Vidhan sabha chunav

विज्ञापन
विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर