होम /न्यूज /उत्तर प्रदेश /

पाकिस्तान से 28 साल बाद वतन लौटे शमशुद्दीन की घर वापसी लटकी, अमृतसर में फंसा

पाकिस्तान से 28 साल बाद वतन लौटे शमशुद्दीन की घर वापसी लटकी, अमृतसर में फंसा

28 साल बाद पाकिस्तान से भारत पहुंचा है कानपुर का शमशुद्दीन (File)

28 साल बाद पाकिस्तान से भारत पहुंचा है कानपुर का शमशुद्दीन (File)

पाकिस्तान (Pakistan) की जेल में सजा काटकर 28 साल बाद वतन लौटने वाले कानपुर के शमशुद्दीन की घर वापसी अलक गई है.  कागजों के फेर में वह अमृतसर (Amritsar)) में फंसा हुआ है. 

कानपुर. पाकिस्तान (Pakistan) से 28 साल बाद वापस अपने वतन लौटे उत्तर प्रदेश के कानपुर के शमशुद्दीन (Shamshuddin) की घर वापसी लटक गयी है. कागजों के फेर में वह अमृतसर में फंसा हुआ है. कानपुर में उसके पहचान के कागजात ढूंढे नहीं मिल रहे हैं. ऐसे में शमशुद्दीन के परिजन खासे परेशान हैं. वह पुलिस और प्रशासनिक अधिकारियों के चक्कर काट रहे हैं. दरअसल, 26 नवम्बर को कराची जेल से छूटने के बाद वह अमृतसर (Amritsar) पहुंचा था. इसके बाद परिजनों मे उसके घर वापसी की उम्मीद जग गयी थी.

अमृतसर में क्वारंटीन की अवधि पूरी करने के बाद भी उसकी घर  वापसी नहीं हो पा रही है. आपको बता दें कि 28 साल पहले बजरिया इलाके के कंघी मोहाल में रहने वाला शमशुद्दीन घर में विवाद होने के बाद परिचित के पास पाकिस्तान गया था.  बाद में वहां हालात खराब होने के कारण फंस गया और फर्जी तरह से वहां कीे नागरिकता ले ली. बाद में परिवार को भी बुला लिया और वहां अपना धंधा जमा लिया.

ये भी पढ़ें: मध्य प्रदेश के इन 4 शहरों में पटाखों की आतिशबाजी पर 30 नवंबर तक रोक, निर्देश जारी



शमशुद्दीन को घर लौटने का इंतजार

कुछ साल बाद शमशुद्दीन ने अपने बीवी बच्चों को वापस भारत भेज दिया.अपना पासपोर्ट रिन्यू कराने पहुंचने पर उसे पुलिस ने पकड़ लिया. आरोप है कि इसके बाद उसके ऊपर पाकिस्तान की फौज और पुलिस ने उसे भारत का जासूस साबित करने के लिए टार्चर किया. प्रताड़ना के बाद भी जब शमशुद्दीन ने जासूस होने की बात स्वीकार नहीं की तो गलत तरीके से बार्डर पार करने का आरोप लगा कर उसे जेल में डाल दिया गया. जहां सजा पूरी होने के बाद उसे रिहा किया गया और भारतीय फोज के हवाले कर दिया गया. तब से वह अमृतसर में ही है औऱ परिजन उसके घर लौटने का इंतजार कर रहे हैं. वहीं उसका छोटा भाई फहीम उसे लेने अमृतसर पहुंच गया है. वह कई दिनोें से अमृतसर में है, मगर कागजी कार्रवाई पूरी नहीं होने की वजह से उसे कानपुर नहीं भेजा जा रहा है. पुलिस के अधिकारी शमशुद्दीन के परिजनों की हर सम्भव मदद करने की बात कह रहे हैं.

आपके शहर से (कानपुर)

कानपुर
कानपुर

Tags: Government of Uttar Pradesh, Kanpur city news, Pakistan, Uttar Pradesh Government

विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर