होम /न्यूज /उत्तर प्रदेश /1200 प्रवासी श्रमिकों को लेकर हरदोई पहुंची स्‍पेशल ट्रेन, लेकिन घर पहुंचने में अभी लगेगा वक्‍त

1200 प्रवासी श्रमिकों को लेकर हरदोई पहुंची स्‍पेशल ट्रेन, लेकिन घर पहुंचने में अभी लगेगा वक्‍त

लंबी जद्दोजहद के बाद घर की दहलीज तक पहुंचे 1200 प्रवासी मजदूर (फाइल फोटो)

लंबी जद्दोजहद के बाद घर की दहलीज तक पहुंचे 1200 प्रवासी मजदूर (फाइल फोटो)

पंजाब (Punjab) के लुधियाना (Ludhiana) शहर में फंसे करीब 1200 प्रवासी मजदूरों को श्रमिक स्‍पेशल ट्रेन (Shramik special t ...अधिक पढ़ें

हरदोई. देश के विभिन्‍न राज्‍यों में फंसे प्रवासी मजदूरों (Migrant Workers) को उनके घर पहुंचाने का सिलसिला तेजी से जारी है. इसी कड़ी में पंजाब (Punjab) के लुधियाना (Ludhiana) शहर में फंसे करीब 1200 प्रवासी मजदूरों को श्रमिक स्‍पेशल ट्रेन (Shramik special train) के जरिए उत्‍तर प्रदेश (Uttar Pradesh) के हरदोई शहर में पहुंचाया गया है. ये सभी प्रवासी मजदूर लॉकडाउन लागू होने के बाद से ही अपने घर जाने के लिए जद्दोजहद कर रहे थे. श्रमिक स्‍पेशल ट्रेन की मदद से यह सभी लोग भले ही आज हरदोई (Hardoi) तक पहुंच गए हों, लेकिन अभी भी इनकी आधी जद्दोजहद बाकी है. अभी इन मजदूरों को अपने घर पहुंचने के लिए थोड़ा इंतजार करना होगा.

उल्‍लेखनीय है कि रोजगार की तलाश में हरदोई जिले से विभिन्‍न कस्‍बों और गांव से हजारों की तादात में लोग पंजाब, गुजरात, महाराष्‍ट्र और दिल्‍ली एनसीआर के लिए पलायन कर गए थे. देश में लॉकडाउन लागू होने के बाद इन मजदूरों के लिए जीवन यापन बेहद कठिन हो गया है, लिहाजा अब ये सभी मजदूर अपने घरों को लौटना चाहते हैं. इन्‍हीं, मजदूरों में पंजाब के लुधियाना शहर में फंसे हजारों प्रवासी मजदूर शामिल थे. अब इनमें से 1200 मजदूरों को श्रमिक स्‍पेशल ट्रेन के जरएि हरदोई पहुंचाया गया है. कल यह ट्रेन हरदोई स्टेशन के प्लेटफार्म नंबर 1 पर पहुंच गई है. हरदोई स्‍टेशन पहुंचने के बाद, इन प्रवासी मजदूरों का आधा सफर पूरा हो गया है, लेकिन आधा सफर अभी भी बाकी है. जिसे पूरा करने में इन प्रवासी मजदूरों को 14 दिन का समय लगेगा.

क्‍वारंटाइन सेंटर भेजे गए सभी प्रवासी मजदूर
विभिन्‍न प्रांतों से आने वाले प्रवासी मजदूर स्‍थानीय नागरिकों के स्‍वास्‍थ्‍य के लिए खतरा न बन पाए, इस आशंका को ध्‍यान में रखते हुए जिला प्रशासन ने स्‍टेशन पर एहतियातन सभी तैयारियां पूरी कर ली थी. तैयारियों के तहत, स्‍टेशन पर स्‍वास्‍थ्‍य विभाग की टीम प्रवासी मजदूरों के स्‍वास्‍थ्‍य जांच के लिए मौजूद थी. वहीं स्‍टेशन पर 60 बसों का इंतजाम किया गया था, जिससे इन प्रवासी मजदूरों को वहां से सीधे क्‍वारंटाइन सेंटर ले जाया जा सके. रविवार देर रात हरदोई रेलवे स्‍टेशन पहुंची इस ट्रेन के सभी 24 कोच को प्रशासन की देखरेख में खुलवाया गया. एक-एक कर सभी प्रवासी मजदूरों की थर्मल स्‍क्रीनिंग की गई. थर्मल स्‍क्रीनिंग के दौरान, जो लोग सामान्‍य पाए गए, उन्‍हें तहसील परिसर में बनाए गए क्‍वारंटाइन सेंटर भेज दिया गया. वहीं, जिनके स्‍वास्‍थ्‍य को लेकर थोड़ा भी शक हुआ, उन्‍हें वहां से सैंपलिंग के लिए सीधे अस्‍प्‍ताल भेज दिया गया.

श्रमिको का दावा नि:शुल्‍क मिला टिकट और खाना
श्रमिक स्‍पेशल ट्रेन से हरदोई पहुंचे प्रवासी मजदूरों का कहना है कि लुधियाना से हरदोई तक के सफर के लिए उन्‍हें नि:शुल्‍क टिकट उपलब्‍ध कराई गई थी. इतना ही नहीं, रेलवे की तरफ से उन्‍हें खाना और पानी भी उपलब्‍ध कराया गया था. हरदोई पहुंचने के बाद, इन प्रवासी मजदूरों ने बताया कि लॉकडाउन की वजह से कोई काम न होने के कारण उनकी जिंदगी बड़े कष्ट में थी.


Tags: Corona Suspect, Coronavirus, COVID 19, Hardoi, Lockdown, Migrant Workers, Shramik Special Train, Uttar pradesh news

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें