सिद्धार्थनगर में लगभग 100 कौवों की रहस्यमय मौत, बर्फ फ्लू की आशंका से ग्रामीण भयभीत

ग्रामीणों ने बातचीत में बताया कि कई मृत कौवों को जानवर उठा कर ले गए जबकि कई अभी भी खेतों में मरे पड़े हुए हैं

ग्रामीणों ने बातचीत में बताया कि कई मृत कौवों को जानवर उठा कर ले गए जबकि कई अभी भी खेतों में मरे पड़े हुए हैं

इतनी बड़ी संख्या में कौवों के मृत (Crows Dead) पाए जाने की सूचना मिलने पर वन विभाग (Forest Department) हरकत में आ गया है. विभाग की टीम ने मौके पर पहुंचकर आसपास के क्षेत्र का मुआयना किया. वन विभाग द्वारा कुछ मृत कौवों के सैंपल को लैब भेजने की कार्रवाई की जा रही है

  • Share this:

सिद्धार्थनगर. उत्तर प्रदेश के सिद्धार्थनगर (Siddharthnagar) जिले में रहस्यमय तरीके से 100 के लगभग कौवों की मृत्यु (Crows Dead) हो गई. इतनी बड़ी संख्या में कौवों की मौत होने से आसपास के गांवों में दहशत का माहौल है. घटना कपिलवस्तु कोतवाली क्षेत्र के मजिगवा गांव के पास की है जहां तकरीबन सौ कौवों की रहस्यमय मौत हो गई है. ग्रामीणों ने देखा कि कौवों के झुंड खेतों में चारों तरफ मृत पड़े हैं. यह स्थान भारत नेपाल बॉर्डर (India Nepal Border) के नजदीक है.

इतनी बड़ी संख्या में कौवों के मृत पाए जाने की सूचना मिलने पर वन विभाग हरकत में आ गया है. विभाग की टीम ने मौके पर पहुंचकर आसपास के क्षेत्र का मुआयना किया. इलाके की कांबिंग कर विभाग अपनी पड़ताल को आगे बढ़ाने में जुट गया है. वन विभाग द्वारा कुछ मृत कौवों के सैंपल को लैब भेजने की कार्रवाई की जा रही है. गांववालों से बातचीत में पता चला कि कुछ मृत कौवौं को जानवर उठा ले गए हैं बाकी यहीं खेत में पड़े मिले हैं.

करोना संक्रमण या बर्ड फ्लू की आशंका से भयभीत ग्रामीण

इस बारे में डीएफओ आकाश दीप वधावन ने कहा कि कौवा का आईक्यू लेवल बहुत हाई होता है, और ऐसे में ओलावृष्टि के कारण इनकी मृत्यु असामान्य है. बच्चों की मौत तो हो सकती है लेकिन वयस्क कौवों की मौत नहीं हो सकती. उन्होंने कहा कि मौसम में अचानक बदलव के कारण ऐसा संभव है, साथ ही बर्ड फ्लू की भी आशंका है.
वहीं, सोशल मीडिया में फैली खबर (अफवाह) जिसमें यह कहा जा रहा है कि 5जी के ट्रायल रेडिएशन से पक्षियों की मौत हो रही है. ग्रामीण कौवों की रहस्यमय तरीके से हो रही मौत को इससे जोड़कर देख रहे हैं. इस संबंध में पूछे जाने पर डीएफओ ने बताया कि यह शोध का विषय है. उन्होंने कहा कि लैब की रिपोर्ट आने के बाद ही इसके कारणों का पता चलेगा.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज