लाइव टीवी

सीतापुर: महिला कांस्टेबल ने थाने में गोली मारकर की आत्महत्या
Bulandshahr News in Hindi

News18 Uttar Pradesh
Updated: January 11, 2020, 5:12 PM IST
सीतापुर: महिला कांस्टेबल ने थाने में गोली मारकर की आत्महत्या
महिला कांस्टेबल ने दारोगा की सर्विस पिस्टल से खुद को गोली मारकर आत्महत्या कर ली (सांकेतिक तस्वीर)

मृतक महिला कॉन्स्टेबल शोभा चौधरी 2016 बैच की आरक्षी थी जो कि बुलंदशहर की रहने वाली थी वर्तमान में वो सीतापुर (Sitapur) जनपद के खैराबाद थाने में तैनात थी. शुरुआती जांच में पारिवारिक अनबन व डिप्रेशन (Depression) की बात सामने आ रही है....

  • Share this:
सीतापुर. यूपी के सीतापुर (Sitapur) में एक महिला सिपाही ने थाने के अंदर खुद को गोली मार कर आत्महत्या (suicide) कर ली. महिला सिपाही ने थाने में तैनात दारोगा की सरकारी पिस्टल (service pistol) से खुद को गोली मारी. अचानक गोली चलने की आवाज के बाद थाना परिसर मे हड़कंप मच गया. मौके पर जब वहां मौजूद सिपाही खैराबाद थाने के कार्यालय के अन्दर पहुंचे तो महिला सिपाही को खून से लथपथ गिरा पाया. आनन-फानन में कांस्टेबल को जिला अस्पताल (district hospital Sitapur) लाया गया जहां डाक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया.

डिप्रेशन के चलते आत्महत्या!
मृतक महिला कॉन्स्टेबल शोभा चौधरी 2016 बैच की महिला आरक्षी सिपाही थी जो कि बुलंदशहर की रहने वाली थी वर्तमान में वो सीतापुर जनपद के खैराबाद थाने में तैनात थी. फिलहाल उसके शव को पोस्टमार्टम के लिए भेजा गया है वहीं पुलिस आत्महत्या के कारणों की जांच कर रही है. आरंभिक जांच में आत्महत्या की वजह पारिवारिक तनाव व डिप्रेशन बताया जा रहा है.

News 18 से बातचीत में एएसपी एमपी सिंह का कहना है महिला कॉन्स्टेबल शोभा चौधरी 2016 बैच की आरक्षी सिपाही थी. वह खैराबाद थाने में तैनात में कार्यालय ड्यूटी पर तैनात थी. कार्यालय में दरोगा की पिस्टल रखी हुई थी जिससे उसने अपने-आप को गोली मार ली. वहां तैनात अन्य कर्मचारियों ने जानकारी मिलते ही तत्काल उसे जिला अस्पताल पहुंचाया जहां डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया. उन्होंने कहा  इसमें आगे की जो कार्रवाई है वह की जा रही है. आरक्षी बुलंदशहर की रहने वाली है स्टाफ से आरंभिक पूछताछ में पता लगा कि उसकी कुछ पारिवारिक अनबन थी शादी को लेकर भी परेशान थी. वह डिप्रेशन में रहती थी. फिलहाल मामले की जांच की जा रही है.

कुछ सवाल ?
लेकिन बड़ा सवाल यह उठता है कि आखिर कैसे महिला सिपाही के पास पिस्टल आई और उसने कार्यालय में ही दरोगा की पिस्टल से गोली मारकर आत्महत्या कर ली ? नियमानुसार जब भी कोई दरोगा छुट्टी पड़ जाता है तो वह अपनी सरकारी पिस्टल थाने के हेड मुहर्रिर को देकर जाता है जिसे वह सरकारी मालखाने में जमा कर देता है. अब यहां पर सवाल यह उठता है कि सरकारी पिस्टल महिला कांस्टेबल शोभा चौधरी के हाथों में कैसे आई ? जिस पर अभी कोई भी जिम्मेदार कुछ भी बोलने को तैयार नहीं है.

ये भी पढ़ें- हाईकोर्ट के फैसले को सुप्रीमकोर्ट में चुनौती देंगे महंत नरेंद्र गिरी, बोले-नहीं किया अतिक्रमण !

एसिड पीड़िता की दास्तान कहती 'छपाक' अलीगढ़ में नहीं हुई रिलीज, फिल्म के समर्थन में उतरे सपाई

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए बुलंदशहर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: January 11, 2020, 5:08 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर