अपना शहर चुनें

States

पहले 251 रुपये में स्मार्टफाेन की बात कह ठगा, अब उसी मोहित ने ड्राई फ्रूट्स के नाम पर अरबों डकारे

मेवा और मसालों के नाम पर दुबई ड्राई फ्रूट्स नाम से अरबों रुपये का घोटाला. नोएडा में मोहित गोयल गिरफ्तार.
मेवा और मसालों के नाम पर दुबई ड्राई फ्रूट्स नाम से अरबों रुपये का घोटाला. नोएडा में मोहित गोयल गिरफ्तार.

Dry Fruits Scam in Noida: अरबों का मेवा और मसाला घोटाला करने वाले मोहित गोयल ने इससे पहले सेक्टर-63 में रिंगिंग बेल नामक कंपनी खोलकर फरवरी-2016 में फ्रीडम-251 के नाम से स्मार्टफोन लॉन्च किया था और 251 रुपये में लोगों के हाथ में स्मार्टफोन देने का दावा किया था. इसके लिए सात करोड़ से ज्‍यादा बुकिंग हुई थीं लेकिन लोगों को आजतक कोई स्‍मार्टफोन नहीं मिला.

  • News18Hindi
  • Last Updated: January 13, 2021, 10:12 PM IST
  • Share this:
नई दिल्‍ली. कुछ साल पहले 251 रुपये में स्‍मार्टफोन (Smartphone) देने का दावा करने वाले मोहित गोयल को दुबई ड्राय फ्रूट्स के नाम पर अरबों रुपये का घोटाला (Scam) करने के आरोप में गिरफ्तार किया गया है. मोहित के पास से दो लग्‍जरी कार के अलावा काफी सामान भी बरामद किया गया है. वहीं मोहित के साथ मिलकर इस घोटाले को अंजाम देने वाले करीब 50 लोगों पर भी पुलिस कार्रवाई कर रही है.

बताया जा रहा है कि देशभर में मेवा और मसालों (Dry Fruits and Spices) के नाम पर अरबों रुपये का फ्रॉड (Fraud) किया गया है. नोएडा के थाना सेक्‍टर 58 में दर्ज कराई गई शिकायत के बाद मोहित गोयल (Mohit Goel) के घोटाले का भंडाफोड़ हुआ है. यूपी पुलिस एडीसीपी रणविजय सिंह ने बताया कि रोहित मोहन नाम के शख्‍स ने 24 दिसंबर को शिकायत दर्ज कराई जिसमें बताया कि कुछ लोगों ने नोएडा के सेक्‍टर 62 में दुबई ड्राई फ्रूट्स हब (Dubai Dry Fruits Hub) के नाम से कंपनी खोलकर उनसे लाखों की ठगी की है. मोहन ने बताया कि उससे कंपनी ने 40 फीसदी रकम  देकर लाखों के मेवे खरीदे वहीं बाकी 60 फीसदी रकम चेक के माध्‍यम से दी, जो बाउंस हो गए.  जब वह कंपनी के पते पर पहुंचा तो वहां कोई कंपनी नहीं थी.

शिकायत दर्ज होने के बाद पुलिस ने मोहित  गोयल और उसके साथी ओमप्रकाश जांगिड़ को गिरफ्तार कर लिया है.




देशभर में की ठगी, कई राज्‍यों से आ रहे फोन

पुलिस ने बताया कि पूछताछ में मोहित गोयल और उसके साथियों ने 40 से ज्‍यादा लोगों के साथ करोड़ों की ठगी करने की बात स्‍वीकार की है. हालांकि ठगी के शिकार हुए लोगों की संख्‍या एक हजार के पार है. एडीसीपी रणविजय सिंह बताते हैं कि इन लोगों का ठगी का नेटवर्क काफी बड़ा था. गिरफ्तारी की सूचना मिलने के बाद अरुणाचल प्रदेश तक से पीड़‍ितों के फोन पुलिस के पास आ रहे हैं. इससे पहले सुमित यादव को भी गिरफ्तार किया गया था और वह भी इसी कंपनी से जुड़ा हुआ है.

पुलिस के पीछे भी लगा दिए मुखबिर

आगे पढ़ें
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज