होम /न्यूज /उत्तर प्रदेश /भ्रष्टाचार की भेंट चढ़ा सरकारी स्कूल में पढ़ने गया 7 साल का मासूम, गेट गिरने से दबकर मौत 

भ्रष्टाचार की भेंट चढ़ा सरकारी स्कूल में पढ़ने गया 7 साल का मासूम, गेट गिरने से दबकर मौत 

यूपी के सोनभद्र स्थित एक सरकारी स्कूल का गेट बच्चे के उपर गिरा जिससे उसकी मौत हो गई

यूपी के सोनभद्र स्थित एक सरकारी स्कूल का गेट बच्चे के उपर गिरा जिससे उसकी मौत हो गई

7 वर्षीय बच्चा श्लोक पटेल जो कक्षा एक में पढ़ने वाला छात्र था पकडेवा प्राथमिक विद्यालय में रोज की भांति पढ़ने गया था. इसी ...अधिक पढ़ें

हाइलाइट्स

सरकारी विद्यालय में बच्चे की मौत का मामला सोनभद्र जिला से जुड़ा है
बच्चे ने इलाज के दौरान वाराणसी के अस्पताल में दम तोड़ दिया
इस हादसे के बाद पीड़ित परिवार ने स्कूल प्रबंधन और जनप्रतिनिधियों पर आरोप लगाये हैं

रिपोर्ट- रंगेश सिंह

सोनभद्र. जिले के दुध्धी के पकडेवा प्राथमिक विद्यालय का पिलर सहित गेट गिरने से विद्यालय में पढ़ने गए 7 वर्षीय छात्र की मौत हो गई. गेट गिरने से इसमें दबकर बच्चा गंभीर रूप से घायल हो गया था. आनन-फानन में उसे स्थानीय मौजूद लोगों ने सीएचसी में भर्ती कराया जहां डॉक्टरों ने बच्चे की हालत को गम्भीर देखते हुए ट्रामा सेंटर रेफर कर दिया लेकिन वाराणसी ट्रामा सेंटर में इलाज के दौरान बच्चे ने दम तोड़ दिया.

परिजनों सहित ग्रामीणों का आरोप है कि अभी हाल ही में विद्यालय के जर्जर हालत को देखते हुए कायाकल्प के तहत बाउंड्री व गेट का निर्माण करवाया गया था फिर भी विद्यालय का भवन पूर्णतः जर्जर है और चारों तरफ की चहारदीवारी भी हाथों से हिलाने पर हिल रही है, ऐसे में इस विद्यालय में पढ़ने वाले बच्चों की जान खतरे में है. यहां विद्यालय के कायाकल्प के नाम पर कुछ नहीं है और ये हादसा इसी का परिणाम है.

दरअसल शुक्रवार को 7 वर्षीय श्लोक पटेल जो कि कक्षा एक में पढ़ने वाला छात्र था पकडेवा प्राथमिक विद्यालय में रोज की भांति स्कूल पढ़ने गया था. इसी दौरान दोपहर एक बजे वह स्कूल के गेट पर चढ़कर झूल रहा था कि इतने में अचानक विद्यालय का गेट पिलर सहित उसके ऊपर गिर गया और बालक उससे दब गया. बीएचयू प्रशासन ने बच्चे का पोस्टमार्टम कराकर शव को परिजनों को सौंप दिया. रविवार को परिजनों समेत ग्रामीणों ने रोष जाहिर करते हुए घंटो बवाल काटा. आरोप है कि विद्यालय के शिक्षक शैक्षिक कार्य के दौरान ही विद्यालय को छोड़कर कहीं चले गए थे. स्कूल चलते समय शिक्षक भी नदारद रहते हैं, जिससे एक बच्चे के साथ ये घटना घट गई.

मृतक के पिता सुरेंद्र पटेल का आरोप है कि यह हादसा प्रधान व सचिव की लापरवाही से हुआ है. उन्होंने मुआवजे की मांग करते हुए दोषियों के खिलाफ कार्रवाई की मांग की. उन्होंने जिलाधिकारी से पकडेवा विद्यालय पर कायाकल्प के नाम पर जारी हुए भुगतान व हुए कार्यों की स्थलीय निरीक्षण कर दोषियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की मांग की है. डालापीपर प्रधान प्रतिनिधि अंतु ने इस मामले में सफाई देते हुए कहा कि सचिव द्वारा बार-बार कहने पर भी सप्लायर का भुगतान नहीं करने से सप्लायर सीमेंट नहीं दे रहा है जिससे विद्यालय की छत समेत पुरानी चाहर दिवारी का मरम्मत नहीं हो पा रही है.

Tags: Sonbhadra News, UP news

टॉप स्टोरीज
अधिक पढ़ें