• Home
  • »
  • News
  • »
  • uttar-pradesh
  • »
  • 11 साल पुराने केस में मां-बेटी के हत्यारों के लिए कोर्ट का आदेश - Hang Till Death

11 साल पुराने केस में मां-बेटी के हत्यारों के लिए कोर्ट का आदेश - Hang Till Death

अदालत ने दोनों हत्यारों को फांसी की सजा सुनाई.

अदालत ने दोनों हत्यारों को फांसी की सजा सुनाई.

Death Sentence अदालत ने दोनों पक्षों के तर्क सुनने के बाद गीता देवी और अशोक शर्मा को दोषी पाया और मृत्युदंड की सजा सुनाई. अदालत ने कहा कि दोनों को अलग-अलग फांसी के फंदे पर तब तक लटकाया जाए, जब तक कि मौत न हो जाए.

  • News18Hindi
  • Last Updated :
  • Share this:

    रंगेश सिंह

    सोनभद्र. सोनभद्र की अदालत ने हत्या के दो आरोपियों को दोषी करार देते हुए फांसी की सजा सुनाई है. अपर सत्र न्यायाधीश द्वितीय राहुल मिश्रा की अदालत ने वृहस्पतिवार को यह फैसला सुनाया. हत्या की यह वारदात 11 वर्ष पुरानी है.

    पेश मामले के मुताबिक, चोपन थाने में हत्या का यह मामला 21 दिसंबर 2010 को दर्ज कराया गया था. मिर्जापुर जिले के कोतवाली कटरा के रहनेवाले सतीश कुमार शर्मा ने तहरीर दी थी. सतीश की तहरीर के मुताबिक, राजस्थान में रहनेवाले उनके दामाद श्रवण शर्मा ने 4 बजे भोर में फोन से सूचना दी कि चोपन के ग्राम प्रधान ने पत्नी सुनीता देवी व 3 साल की बेटी झलक की हत्या की खबर दी है. इस सूचना के बाद जब सतीश चोपन पहुंचे तो देखा कि उनकी बेटी सुनीता और नतिनी झलक मरी पड़ी थी. दोनों के गले में साड़ी का फंदा लगा हुआ था और शरीर, बिस्तर व कपड़े जले हुए थे. सतीश शर्मा ने अपनी तहरीर में इन दोनों की हत्या का आरोप बेटी की सास गीता देवी और दूर के रिश्तेदार अशोक शर्मा पर लगाया. सतीश का कहना था कि अशोक शर्मा अक्सर चोपन आता रहता था और गीता देवी से उसके अवैध संबंध के चर्चे थे. पुलिस ने हत्या की एफआईआर दर्ज कर मामले की जांच शुरू कर दी.

    हैंग टिल डेथ

    पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट में सुनीता के पेट में गर्भ पाए जाने की पुष्टि हुई. पर्याप्त सबूत जुटा कर पुलिस ने गीता देवी और अशोक शर्मा के खिलाफ कोर्ट में चार्जशीट दाखिल किया था. मामले की सुनवाई करते हुए अदालत ने दोनों पक्षों के तर्क सुनने के बाद गीता देवी और अशोक शर्मा को दोषी पाया और मृत्युदंड की सजा सुनाई. अदालत ने कहा कि दोनों को अलग-अलग फांसी के फंदे पर तब तक लटकाया जाए, जब तक कि मौत न हो जाए.

    सोनभद्र में दूसरी बार सुनाई गई दूसरी फांसी की सजा

    सोनभद्र जिले में दूसरी बार फांसी की सजा सुनाई गई है. हालांकि सोनभद्र अदालत में पहली बार सुनाई गई फांसी की सजा को इलाहाबाद हाईकोर्ट ने उम्रकैद में तब्दील कर दिया था. अब इस बार फांसी की सजा सुनाने के फैसले को अगर इलाहाबाद हाईकोर्ट में चुनौती दी जाती है तो वह उसे बरकरार रखेगा या बदलाव करेगा यह तो आने वाला समय बताएगा.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज