जानिए कैसे CBI बच्चों के अश्लील वीडियो पोर्न साइट पर डालने वाले इंजीनियर तक पहुंची?

सोनभद्र का नीरज (बाएं) और गिरफ्तार जेई राम भवन
सोनभद्र का नीरज (बाएं) और गिरफ्तार जेई राम भवन

दरअसल इंस्टाग्राम पर चाइल्ड पॉर्नोग्राफी (Child Pornography) का प्रचार करने और उसके वीडियो बेचने के मामले में सितंबर में सीबीआई टीम ने सोनभद्र में छापेमारी की थी.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 19, 2020, 7:04 PM IST
  • Share this:
रंगेश कुमार सिंह

सोनभद्र. बच्चों के अश्लील वीडियो (Obscene Video) बनाकर पोर्न साइट (Pornography websites) पर बेचने के मामले में गिरफ्तार उत्तर प्रदेश के चित्रकूट (Chitrakoot) के जूनियर इंजीनियर राम भवन (JE Ram Bhawan) का सुराग सीबीआई को सोनभद्र (Sonbhadra) से लगा. दरअसल 25 सितंबर को सीबीआई ने सोनभद्र के अनपरा से इंजीनियर नीरज कुमार की गिरफ्तारी की थी. नीरज से पूछताछ के बाद ही जेई का नाम आया.

दरअसल इंस्टाग्राम पर चाइल्ड पॉर्नोग्राफी (Child Pornography) का प्रचार करने और उसके वीडियो बेचने के मामले में सितंबर में सीबीआई टीम ने सोनभद्र में छापेमारी की थी. इस दौरान सीबीआई की टीम ने सोनभद्र के अनपरा में चाइल्ड पोर्नोग्राफी वीडियो बेचने के आरोपी के घर से घटना में इस्तेमाल मोबाइल बरामद किया.



पॉक्सो और आईटी एक्ट में दर्ज हुई है एफआईआर
अनपरा के युवक ने इंस्टाग्राम पर चाइल्ड पोर्नोग्राफी का प्रचार किया था. पेमेंट मिलने पर चाइल्ड पॉर्नोग्राफी के वीडियो वॉट्सऐप पर भेजे थे. सीबीआई दिल्ली की विशेष यूनिट ने ये छापेमारी की. सीबीआई ने इस मामले में पॉक्सो और आईटी एक्ट में एफआईआर दर्ज की. जानकारी के अनुसार जिस शख्स के घर पर छापा मारा गया है, उसका नाम नीरज कुमार है. वह बीटेक की पढ़ाई पूरी करने के बाद दिल्ली में नौकरी कर रहा था. उस पर नीरज पर चाइल्ड पोर्नोग्राफी से जुड़े वीडियो बेचने का आरोप है. सीबीआई की टीम ने नीरज से पूछताछ की तो उसने इस गोरखधंधे से जुड़े कई और नामों का खुलासा किया. उसी की सूचना के बाद सीबीआई ने चित्रकूट में जूनियर इंजीनियर राम भवन की गिरफ्तारी का जाल बिछाया.



कई एकाउंट में वीडियो कर रखे हैं सेव
जांच में पता चला है कि नीरज ने फाइल होस्टिंग सर्विस और क्लाउड स्टोरेज पर अलग-अलग ईमेल आईडी से कई एकाउंट खोल रखे थे. इनमें वो चाइल्ड पोर्नोग्राफिक मैटीरियल स्टोर करता था. ये भी पता चला कि जब ग्राहकों से उसे पैसे की डिलीवरी हो जाती थी तो वह वॉट्सऐप, टेलीग्राम, इंस्टग्राम और सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म के माध्यम से वीडियो साझा कर देता था.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज