सोनभद्र: पूनम हत्याकांड में पति, सास, ससुर को उम्रकैद, देवर और 2 ननद साक्ष्य के अभाव में दोषमुक्त

सोनभद्र की कोर्ट ने पूनम हत्याकांड में पति, सास और ससुर को उम्रकैद की सजा सुनाई है.

सोनभद्र की कोर्ट ने पूनम हत्याकांड में पति, सास और ससुर को उम्रकैद की सजा सुनाई है.

Sonbhadra News: सोनभद्र के पूनम हत्याकांड में कोर्ट ने सजा का ऐलान कर दिया है. कोर्ट ने हत्याकांड के दोषी पति, सास और ससुर को उम्रकैद की सजा सुनाई है. साथ ही 50-50 हजार रुपये का जुर्माना भी ठोका है.

  • Share this:
 रंगेश कुमार सिंह

सोनभद्र. उत्तर प्रदेश के सोनभद्र (Sonbhadra) में अपर सत्र न्यायाधीश द्वितीय राहुल मिश्रा की अदालत ने शुक्रवार को पूनम हत्याकांड (Poonam Murder Case) के मामले में दोषसिद्ध पाकर पति मनोज अग्रहरि, सास निर्मला देवी व ससुर ओमप्रकाश अग्रहरि को उम्रकैद (Life Imprisonment) एवं 50-50 हजार रुपये अर्थदंड की सजा सुनाई. अर्थदंड न देने पर दो-दो साल की अतिरिक्त कैद भुगतनी होगी. इतना ही नहीं दहेज प्रताड़ना के आरोप में पति को तीन साल की अतिरिक्त कैद एवं 5 हजार रुपये अतिरिक्त अर्थदंड की सजा सुनाई गई. केस में देवर मनीष, ननद करिश्मा एवं डिंपल को साक्ष्य के अभाव में दोषमुक्त करार दिया.

अभियोजन पक्ष के मुताबिक राबर्ट्सगंज कोतवाली में 7 अक्तूबर 2017 को दी तहरीर में चोपन रोड ओबरा निवासी गणेश प्रसाद अग्रहरि ने अवगत कराया था कि उसने अपनी बेटी पूनम की शादी वर्ष 2007 में राबर्ट्सगंज दीपनगर निवासी मनोज अग्रहरि के साथ किया था. ससुराल जाने पर दहेज की मांग को लेकर ससुराल वाले पूनम को प्रताड़ित करते रहते थे. मांग पूरी न होने पर पूनम को मारपीट कर भगा दिए थे. करीब दो साल बाद समझौता होने पर ससुराल वाले ले गए तथा दो लाख रुपये दुकान के नाम पर लिया. उसके बाद पुनः 3 लाख रुपये की मांग करने लगे. जब मांग पूरी नहीं हुई तो 4 अक्तूबर को सभी ने मिलकर पूनम को मार दिया. पूनम के सिर पर गम्भीर चोट लगी थी. इस तहरीर पर पुलिस ने एफआईआर दर्ज कर मामले की विवेचना किया.

देवर और दो ननद साक्ष्य के अभाव में दोषमुक्त 
विवेचक ने पर्याप्त सबूत मिलने पर न्यायालय में चार्जशीट दाखिल किया. मामले की सुनवाई करते हुए अदालत ने दोनों पक्षों के अधिवक्ताओं के तर्को को सुनने, गवाहों के बयान एवं पत्रावली का अवलोकन करने के पश्चात दोषसिद्ध पाकर पति मनोज अग्रहरि, सास निर्मला देवी व ससुर ओमप्रकाश अग्रहरि को हत्या के मामले में उम्रकैद एवं 50-50 हजार रुपये अर्थदंड की सजा सुनाई. अर्थदंड न देने पर दो-दो साल की अतिरिक्त कैद भुगतनी होगी. वहीं दहेज प्रताड़ना के आरोप में पति मनोज अग्रहरि को तीन वर्ष की अतिरिक्त कैद एवं 5 हजार रुपये अतिरिक्त अर्थदंड की सजा सुनाई गई है. इस मामले में देवर मनीष, ननद करिश्मा और डिंपल को साक्ष्य के अभाव में दोषमुक्त कर दिया. अभियोजन पक्ष की ओर से बहस अभियोजन अधिकारी वीपी यादव ने की.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज