होम /न्यूज /उत्तर प्रदेश /

सोनभद्र नरसंहार पीड़‍ितों से अस्‍पताल में मिलीं प्रियंका गांधी

सोनभद्र नरसंहार पीड़‍ितों से अस्‍पताल में मिलीं प्रियंका गांधी

सोनभद्र के अस्‍पताल में घायलों से मिलीं प्रियंका गांधी.

सोनभद्र के अस्‍पताल में घायलों से मिलीं प्रियंका गांधी.

17 जुलाई को सोनभद्र जिले के घोरावल के मूर्तियां गांव में बुधवार को जमीनी विवाद में ग्राम प्रधान और ग्रामीणों के बीच हुई हिंसक झड़प में गोली लगने से एक पक्ष के 9 लोगों की मौत हो गई. जबकि तीन अन्य गंभीर रूप से घायल हैं.

    उत्‍तर प्रदेश कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी आज वाराणसी पहुंचीं. प्रियंका सुबह 9:40 पर वाराणसी पहुंचने के बाद ट्रामा सेंटर में गईं. जहां उन्‍होंने सोनभद्र के घोरावल कोतवाली इलाके के धुम्मा गोलीकाण्ड में घायल हुए लोगों से हाल चाल पूछा.

    बता दें कि 17 जुलाई को सोनभद्र जिले के घोरावल के मूर्तियां गांव में बुधवार को जमीनी विवाद में ग्राम प्रधान और ग्रामीणों के बीच हुई हिंसक झड़प में गोली लगने से एक पक्ष के 9 लोगों की मौत हो गई. जबकि तीन अन्य गंभीर रूप से घायल हैं. मृतकों में 5 पुरुष और 4 महिलाएं शामिल हैं. तनाव को देखते हुए मौके पर भारी संख्या में पुलिस बल की तैनाती है.

    ग्राम प्रधान और उसके साथियों पर गोली चलाने का आरोप
    मिल रही जानकारी के मुताबिक दोनों पक्षों में जमीन को लेकर काफी दिनों से तनाव चल रहा था. बुधवार सुबह एक पक्ष खेत को जोतने गया था, उसी वक्त ग्राम प्रधान और उसके लोग वहां पहुंचे और और उनका विरोध किया. इस बीच दूसरे पक्ष के लोग भी मौके पर आ गए. इसके बाद मामला इतना बढ़ा कि ग्राम प्रधान और उनके साथियों ने गोलियां चलानी शुरू कर दी. कहा जा रहा है कि इस दौरान सैकड़ों राउंड गोलियां चलीं. इस खूनी संघर्ष में 5 पुरुष और 4 महिलाओं की मौत हो गई, जबकि तीन अन्य घायल हैं, जिनका इलाज जिला अस्पताल में चल रहा है.

    दबंग छवि का है ग्राम प्रधान
    सोनभद्र के घोरावल कोतवाली के मूर्तिया ग्राम पंचायत के उम्भा गांव में बुधवार को जिस ग्राम प्रधान ने खूनी खेल खेला, उसकी छवि इलाके में दबंग की है. इतना ही नहीं उसके घर में चार-चार लाइसेंसी बंदूकें भी हैं. इसके अलावा कहा जा रहा है कि ग्राम प्रधान के दबाव में ही जिला प्रशासन इस विवाद को नहीं सुलझा पाया.

    दरअसल, जिस 90 बीघे जमीन पर कब्जे के लिए यह नरसंहार हुआ, उस पर गोंड आदिवासियों का दशकों से कब्ज़ा था. जबकि मूर्तिया का ग्राम प्रधान यज्ञदत्त ने इस जमीन को दो साल पहले एक पूर्व आईएएस से औने-पौने दाम में ख़रीदा था. यज्ञदत्त का परिवार वर्षों पहले पश्चिम यूपी से आकर यहां बस गया था. यज्ञदत्त गुर्जर बिरादरी से है.

    ये भी पढ़ें

    सपा सुप्रीमो मायावती के भाई की 400 करोड़ रुपए की बेनामी संपत्ति जब्त

    सोनभद्र नरसंहार: दबंग छवि का है ग्राम प्रधान यज्ञदत्त, उसके प्रभाव में था जिला प्रशासन

    Exclusive: सोनभद्र नरसंहार का दिल दहलाने वाला VIDEO आया सामने

    आपके शहर से (सोनभद्र)

    सोनभद्र
    सोनभद्र

    Tags: All India Congress Committee, Priyanka gandhi, Uttar pradesh news, Varanasi news

    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर