सोनभद्र नरसंहार पीड़ितों को सपा ने दिया एक-एक लाख का चेक, सरकार से की 50-50 लाख देने की मांग

समाजवादी पार्टी (Samajwadi party) ने मंगलवार को सोनभद्र के उम्भा नरसंहार कांड के पीड़ितों को सहायता राशि बांटी. पूर्व राज्यमंत्री व्यास जी गौड़ ने नरसंहार में मृतकों के परिवारोंको एक-एक लाख और 22 घायलों को 50-50 हजार के चेक वितरित किए.

News18 Uttar Pradesh
Updated: September 3, 2019, 5:19 PM IST
सोनभद्र नरसंहार पीड़ितों को सपा ने दिया एक-एक लाख का चेक, सरकार से की 50-50 लाख देने की मांग
सोनभद्र के उम्भा नरसंहार पीड़ितों को चेक देते समाजवादी पार्टी के नेता
News18 Uttar Pradesh
Updated: September 3, 2019, 5:19 PM IST
सोनभद्र. समाजवादी पार्टी ने मंगलवार को सोनभद्र के उम्भा नरसंहार कांड (Sonbhadra massacre) के पीड़ितों को सहायता राशि बांटी. पूर्व राज्यमंत्री व्यास जी गौड़ ने नरसंहार में मृतकों के परिवारों को एक-एक लाख और 22 घायलों को 50-50 हजार के चेक वितरित किए. इस दौरान व्यास जी गौड़ ने उत्तर प्रदेश सरकार से मांग की कि मृतकों के परिजनों को सरकार 50-50 लाख रुपये और घायलों को 25-25 लाख रुपए सहायता राशि दे. साथ ही उन्होंने मांग की कि आदिवासियों को उनकी जमीन पर मालिकाना हक भी दिया जाए.

बता दें इससे पहले यूपी के सोनभद्र नरसंहार के बाद कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने मिर्जापुर के चुनार गेस्ट हाउस में सोनभद्र नरसंहार पीड़ित परिवारों से मुलाकात की थी. मुलाकात के दौरान प्रियंका गांधी ने कहा था कि कांग्रेस पार्टी हरेक मृतक परिवार को 10 लाख का अनुदान दिया जाएगा. इसके बाद प्रियंका गांधी ने अपने दूसरे दौरे में पीड़ित परिवारा को मुआवजे का चेक सौंपा था.

दरअसल 17 जुलाई को सोनभद्र जिले के घोरावल के मूर्तिया गांव में बुधवार को जमीनी विवाद में ग्राम प्रधान और ग्रामीणों के बीच हुई हिंसक झड़प में गोली लगने से 11 लोगों की मौत हो गई. जबकि कई गंभीर रूप से घायल हुए. मामले में योगी सरकार ने तीन सदस्यीय जांच कमेटी बनाई. इस कमेटी को विवादित जमीन के मालिकाना हक की जांच करनी थी. साथ ही इस बात की भी जांच करनी थी कि समय-समय पर यह जमीन किसके पास ट्रांसफर हुई? कमेटी को इस संदर्भ में विस्तृत जांच कर सरकार को अपनी रिपोर्ट सौंपनी थी.

जांच रिपोर्ट में दोषी कई अफसरों पर गिरी थी गाज

जांच कमेटी की रिपोर्ट आने के बाद इसमें प्रारम्भिक तौर पर उपजिलाधिकारी (एसडीएम) को दोषी पाया गया है और उन्हें तत्काल प्रभाव से सस्पेंड कर दिया गया है. एसडीएम विजय प्रकाश तिवारी के खिलाफ अब विभागीय जांच चलेगी. सराकर ने घटना के बाद ही जांच के लिए दो सदस्यीय कमेटी बनाई थी, जिसके रिपोर्ट सामने आई है. वहीं एडीजी जोन, वाराणसी की रिपोर्ट में सीओ घोरावल, एसडीएम घोरावल, एसएचओ घोरावल, वह दो सब इंस्पेक्टर दोषी पाए गए हैं. वहीं कई के खिलाफ जांच की संस्तुति की गई है. जांच रिपोर्ट में इस बात का दावा किया गया है कि इनकी कमी की वजह से मामला निस्तारित नहीं हुआ. भारी संख्या में लोग 2 दर्जन से अधिक ट्रैक्टरों से सैकड़ों लोग असलहा सहित पहुंचे थे और घटना को अंजाम दिया था. इनकी लापरवाही को देखते हुए उनके खिलाफ निलंबन के साथ विभागीय कार्रवाई की भी संस्तुति की गई.

(रिपोर्ट: अनूप श्रीवास्तव)

ये भी पढ़ें:
Loading...

सोनभद्र हत्याकांड: SDM निलंबित, सीओ, एसएचओ भी पाए गए दोषी

पीड़ितों को उनका 'ये हक' दिलाने सोनभद्र जा रही हैं प्रियंका

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए सोनभद्र से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: September 3, 2019, 5:19 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...