सोनभद्र नरसंहार: अपना दल MLA का पत्र वायरल, जनवरी में CM योगी को किया था अलर्ट

अपने भेजे पत्र में विधायक हरिराम चेरो ने उम्भा गांव के आदिवासियों की पैतृक जमीन पर भूमाफियाओं द्वारा कब्जे की साजिश की आशंका जताते हुए 600 बीघा जमीन पर फर्जी सोसाइटी बनाकर इसे हड़पने का आरोप लगाया था. 14 जनवरी 2019 ओ लिखे इस पत्र में चेरो ने मामले की जांच उच्च स्तरीय एजेंसी से कराने की मांग भी की थी.

News18 Uttar Pradesh
Updated: July 25, 2019, 12:29 PM IST
सोनभद्र नरसंहार: अपना दल MLA का पत्र वायरल, जनवरी में CM योगी को किया था अलर्ट
सोनभद्र नरसंहार के पीड़ित परिवार
News18 Uttar Pradesh
Updated: July 25, 2019, 12:29 PM IST
सोनभद्र के उम्भा गांव में जमीन विवाद में 10 लोगों की नृशंस हत्या मामले में नया खुलासा हुआ है. बीजेपी के सहयोगी अपना दल के विधायक हरिराम चेरो का मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को इस संबंध में लिखा पत्र इन दिनों सोशल मीडिया पर वायरल है. मुख्यमंत्री को लिखे पत्र में विधायक ने उम्भा गांव में ग्राम प्रधान द्वारा आदिवासियों की जमीन हड़पने और किसी बड़ी घटना होने की आशंका जताई थी.

विधायक ने पत्र में उम्भा गांव के आदिवासियों की पैतृक जमीन पर भूमाफियाओं द्वारा कब्जे की साजिश की आशंका जताते हुए 600 बीघा जमीन पर फर्जी सोसाइटी बनाकर इसे हड़पने का आरोप लगाया था. 14 जनवरी, 2019 को लिखे अपने पत्र में विधायक चेरो ने मामले की जांच उच्च स्तरीय एजेंसी से कराने की मांग की थी.

sonbhadra massacre, apna dal mla hariram chero letter
अपना दल विधायक का वायरल पत्र


विधायक ने पत्र लिखने की पुष्टि की

इस पत्र के वायरल होने के बाद कहा जा रहा है कि अगर विधायक के इस पत्र का संज्ञान अधिकारियों ने लिया होता तो इतनी बड़ी घटना नहीं होती. वायरल पत्र के सही होने की पुष्टि खुद विधायक ने की है. उन्होंने कहा कि इस बारे में उन्होंने मुख्यमंत्री को पहले ही आगाह किया था, लेकिन कोई कार्रवाई नहीं हुई. उन्होंने आरोप लगाया कि भूमाफिया के दबाव में आदिवासियों को पुलिस और पीएसी के जवान प्रताड़ित करते हैं. साथ ही महिलाओं का शारीरिक शोषण भी किया जाता है.

विधायक ने बताया कि यह उनके क्षेत्र का मामला नहीं है, लेकिन आदिवासियों का नेता होने की वजह से उम्भा गांव के लोगों ने चौपाल लगाकर अपनी समस्या बतायी थी. इसी चौपाल में तहसीलदार भी मौजूद थे. उन्होंने कहा कि जिन आदिवासियों की हत्या हुई है वो भी उसी समाज से हैं. वो आजादी के बाद से ही इस जमीन को जोत-बो रहे थे.

ये भी पढ़ें: सोनभद्र नरसंहार का बदला लेने की फिराक में बस्तर के नक्सली, IB अलर्ट पर
Loading...

नेताजी सुभाष चंद्र बोस के रहस्य से नहीं उठ सका पर्दा और गुमनाम ही रहे गए गुमनामी बाबा
First published: July 25, 2019, 11:59 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...