Sonbhadra news

सोनभद्र

अपना जिला चुनें

सोनभद्र नरसंहार का बदला लेने की फिराक में बस्तर के नक्सली, IB अलर्ट पर

सोनभद्र नरसंहार से पहले का वीडियो आया सामने

सोनभद्र नरसंहार से पहले का वीडियो आया सामने

एक रिपोर्ट के मुताबिक आईबी को मिली इनपुट के अनुसार नक्सलियों की एक टीम ने घटनास्थल के आसपास के कई गांव में लोगों से सम्पर्क किया है.

SHARE THIS:
पिछले दिनों सोनभद्र के उम्भा गांव में जमीनी विवाद को लेकर 10 लोगों की हत्या के बाद से सूबे में नक्सलियों के सक्रिय होने का अंदेशा जताई जा रही है. केंद्रीय ख़ुफ़िया एजेंसी को मिले इनपुट के मुताबिक इस नरसंहार के बाद छत्तीसगढ़ के बस्तर से नक्सलियों की एक थिंक टीम सोनभद्र के आस-पास सक्रिय हुई है. इस इनपुट के बाद आईबी की एक टीम ने सोनभद्र में डेरा डाल दिया है.

आईबी को मिली इनपुट के अनुसार नक्सलियों की एक टीम ने घटनास्थल के आसपास के कई गांव में लोगों से सम्पर्क किया है. इतना ही नहीं ख़ुफ़िया एजेंसी को उम्भा गांव में हुए नरसंहार के बाद आसपास के कई युवाओं के भूमिगत होने की सूचना भी मिली है. खुफिया एजेंसी को डर है कि बस्तर के नक्सलियों के यहां पहुंचने से किसी बड़ी वारदात की संभावना प्रबल दिख रही है.

IB के राडार पर संचार व्यवस्था

सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक ख़ुफ़िया एजेंसी ने प्रभावित गांव में होने वाली गतिविधियों पर नजर बनाए हुए है. साथ ही नक्सलियों को को चिन्हित करने की कोशिश भी की जा रही है. आईबी के राडार पर संचार व्यवस्था के साथ ही नक्सल विचारधारा से जुड़े लोग भी हैं. उधर यूपी एटीएस भी इलाके में सक्रिय हो गई है.

नक्सल प्रभावित रहा है उम्भा गांव

आदिवासी बहुल उम्भा गांव कभी नक्सल प्रभावित रह चुका है. सोनभद्र सन 1996 से लेकर 2012 तक नक्सल आंदोलन से जूझता रहा था. 17 जुलाई को हुए नरसंहार तक यह इलाका शांत ही था. नक्सल प्रभावित होने के बावजूद 17 जुलाई जैसी घटना यहां कभी नहीं हुई. अब ख़ुफ़िया एजेंसी को आशंका है कि नक्सली संवेदना को हथियार बनाकर अपना पैर जमाने की कोशिश कर सकते हैं.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

11 साल पुराने केस में मां-बेटी के हत्यारों के लिए कोर्ट का आदेश - Hang Till Death

अदालत ने दोनों हत्यारों को फांसी की सजा सुनाई.

Death Sentence अदालत ने दोनों पक्षों के तर्क सुनने के बाद गीता देवी और अशोक शर्मा को दोषी पाया और मृत्युदंड की सजा सुनाई. अदालत ने कहा कि दोनों को अलग-अलग फांसी के फंदे पर तब तक लटकाया जाए, जब तक कि मौत न हो जाए.

  • News18Hindi
  • LAST UPDATED : September 17, 2021, 00:11 IST
SHARE THIS:

रंगेश सिंह

सोनभद्र. सोनभद्र की अदालत ने हत्या के दो आरोपियों को दोषी करार देते हुए फांसी की सजा सुनाई है. अपर सत्र न्यायाधीश द्वितीय राहुल मिश्रा की अदालत ने वृहस्पतिवार को यह फैसला सुनाया. हत्या की यह वारदात 11 वर्ष पुरानी है.

पेश मामले के मुताबिक, चोपन थाने में हत्या का यह मामला 21 दिसंबर 2010 को दर्ज कराया गया था. मिर्जापुर जिले के कोतवाली कटरा के रहनेवाले सतीश कुमार शर्मा ने तहरीर दी थी. सतीश की तहरीर के मुताबिक, राजस्थान में रहनेवाले उनके दामाद श्रवण शर्मा ने 4 बजे भोर में फोन से सूचना दी कि चोपन के ग्राम प्रधान ने पत्नी सुनीता देवी व 3 साल की बेटी झलक की हत्या की खबर दी है. इस सूचना के बाद जब सतीश चोपन पहुंचे तो देखा कि उनकी बेटी सुनीता और नतिनी झलक मरी पड़ी थी. दोनों के गले में साड़ी का फंदा लगा हुआ था और शरीर, बिस्तर व कपड़े जले हुए थे. सतीश शर्मा ने अपनी तहरीर में इन दोनों की हत्या का आरोप बेटी की सास गीता देवी और दूर के रिश्तेदार अशोक शर्मा पर लगाया. सतीश का कहना था कि अशोक शर्मा अक्सर चोपन आता रहता था और गीता देवी से उसके अवैध संबंध के चर्चे थे. पुलिस ने हत्या की एफआईआर दर्ज कर मामले की जांच शुरू कर दी.

हैंग टिल डेथ

पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट में सुनीता के पेट में गर्भ पाए जाने की पुष्टि हुई. पर्याप्त सबूत जुटा कर पुलिस ने गीता देवी और अशोक शर्मा के खिलाफ कोर्ट में चार्जशीट दाखिल किया था. मामले की सुनवाई करते हुए अदालत ने दोनों पक्षों के तर्क सुनने के बाद गीता देवी और अशोक शर्मा को दोषी पाया और मृत्युदंड की सजा सुनाई. अदालत ने कहा कि दोनों को अलग-अलग फांसी के फंदे पर तब तक लटकाया जाए, जब तक कि मौत न हो जाए.

सोनभद्र में दूसरी बार सुनाई गई दूसरी फांसी की सजा

सोनभद्र जिले में दूसरी बार फांसी की सजा सुनाई गई है. हालांकि सोनभद्र अदालत में पहली बार सुनाई गई फांसी की सजा को इलाहाबाद हाईकोर्ट ने उम्रकैद में तब्दील कर दिया था. अब इस बार फांसी की सजा सुनाने के फैसले को अगर इलाहाबाद हाईकोर्ट में चुनौती दी जाती है तो वह उसे बरकरार रखेगा या बदलाव करेगा यह तो आने वाला समय बताएगा.

UP News: पति ने पत्नी के हत्या के लिए दी शूटरों को सुपारी, उन्होंने पति का कर डाला मर्डर

उत्तर प्रदेश के सोनभद्र के चोपन थाना क्षेत्र के सिंदुरिया गांव में 6 दिन पहले गोली मारकर सुरेंद्र पांडेय की हत्या का खुलासा हो गया है.

UP News: सोनभद्र के SP अमरेंद्र प्रसाद सिंह ने बताया कि थाना चोपन पुलिस व क्राइम ब्रांच सोनभद्र की संयुक्त टीम को बड़ी कामयाबी मिली है. पुलिस ने सनसनीखेज हत्याकांड का खुलासा करते हुए बताया कि इसमें चार लोग शामिल थे, 3 आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया गया है, वहीं एक भागने में कामयाब रहा.

SHARE THIS:

रंगेश सिंह.

सोनभद्र. उत्तर प्रदेश के सोनभद्र के चोपन थाना क्षेत्र के सिंदुरिया गांव में छह दिन पहले गोली मारकर सुरेंद्र पांडेय के हत्या का खुलासा हो गया है. आज पुलिस अधीक्षक (SP) अमरेंद्र प्रसाद सिंह ने हत्याकांड का खुलासा करते हुए बताया कि सालों से चले आ रहे पति-पत्नी के आपसी विवाद था. पति ने अपने पत्नी की हत्या करवाने के लिए दो लाख रुपये में जिन शूटरों को सुपारी दी थी, उन्हीं शूटरों ने सुपारी देने वाले पति की हत्या कर दी और घर से महज 100 मीटर दूर शव को फेंक कर फरार हो गए. एसपी सिंह ने बताया कि क्राइम ब्रांच व चोपन पुलिस ने हत्याकांड की गुत्थी सुलझा ली है और तीन अभियुक्तों को गिरफ्तार कर लिया है. उनकी निशानदेही पर दो लाख रुपये का चेक और हथियार भी बरामद किया है.

एसपी ने बताया कि सुबह 08.00 बजे थाना चोपन पर सूचना मिली कि सिंदुरिया निवासी सुरेंद्र पांडेय का शव पड़ा हुआ है. इस सनसनीखेज घटना की सूचना पर प्रभारी निरीक्षक चोपन सहित पुलिस के अन्य उच्चाधिकारीगण मौके पर पहुंचे. प्रभारी निरीक्षक द्वारा अग्रिम विधिक कार्रवाई की गयी तथा इस सम्बंध में मृतक के बहन की सूचना पर स्थानीय थाने पर मुकदमा दर्ज करवाया. हत्या का खुलासा करने के लिए टीमो का गठन कर कार्यवाही शुरू कर दी गयी.

मुखबिर की सूचना पर पकड़े गए आरोपी

मुखबिर की सूचना पर बुधवार शाम को 17.00 बजे स्वाट/एसओजी/सर्विलांस टीम व थाना चोपन पुलिस मुखबिर की सूचना पर हिन्दुआरी तिराहे के पास से घटना में शामिल शूटरों को गिरफ्तार कर लिया. अभियुक्तों की निशानदेही पर मृतक का मोबाइल फोन, मृतक द्वारा हस्ताक्षरित भारतीय स्टेट बैंक का चेक और मृतक की हीरो सुपर स्प्लेंडर मोटर साइकिल तथा कट्टा (12 बोर) बरामद किया गया.

शूटरों को शक था पत्नी को मारने के बाद पैसे नहीं मिलेंगे, इसलिए पति को मारा

वहीं पूछताछ में आरोपी शूटरों ने बताया कि मृतक सुरेन्द्र अपनी पत्नी की हत्या कराना चाहता था, जिसके लिये उसने दो महीने पहले चंदन तिवारी नामक व्यक्ति के माध्यम से शूटरों से संपर्क किया. हत्या के लिये 2 लाख रुपये की सुपारी तय हुई थी. शूटरों द्वारा घटना को अंजाम देने से पहले रुपये की मांग की गयी थी. मृतक सुरेन्द्र ने SBI के अपने खाते का बैलेंस और उसके द्वारा साइन किये चेक दिखाये. इसे लेकर उनके मन में शंका उत्पन्न हुई कि कहीं मृतक हत्या हो जाने के बाद उन्हें पैसा देगा या नहीं. इसलिये पत्नी की हत्या करने से अच्छा है कि सुरेन्द्र की हत्या कर वह चेक ले लिया जाये.

घटना के दिन मृतक स्वयं शूटरों योगेश व पंकज को लेकर चोपन आया. अपने घर ले जाकर हत्या के लिये तमंचा व कारतूस दिया. जब यह तीनों चोपन आ रहे थे तो रास्ते में सुरेन्द्र किसी से मोबाइल पर बात करने लगा तभी शूटरों के द्वारा पति सुरेंद्र की ही हत्या कर दी.

Army Bharti 2021: UP के इन 12 जिलों के लिए सेना में आईं भर्ती, आवेदन के लिए बचे सिर्फ 4 दिन

भारतीय सेना में भविष्‍य तलाश रहे जिन नौजवानों ने अभी तक आवेदन नहीं किया है, वे 21 अगस्‍त तक आवेदन कर सकते हैं.

Indian Army Recruitment Rally 2021: भारतीय सेना के 7 पदों के लिए प्रस्‍तावित भर्ती प्रक्रिया 6 सितंबर से वाराणसी के रणबांकुरे स्‍टेडियम में शुरू होने जा रही है. यह भर्ती प्रक्रिया 30 सितंबर तक जारी रहेगी.

SHARE THIS:

नई दिल्‍ली. उत्‍तर प्रदेश के 12 जिलों मे रहने वाले नौजवानों के लिए भारतीय सेना भर्ती अभियान शुरू करने जा रही है. सेना के विभिन्‍न पदों के लिए उत्‍तर प्रदेश के जिन 12 जिलों से भर्ती होनी हैं, उनमें आजमगढ़, बलिया, चंदौली, देवरिया, गोरखपुर, गाजीपुर, जौनपुर, मऊ, मिर्जापुर, संत रविदास नगर, सोनभद्र और वाराणसी शामिल हैं. भारतीय सेना ने इस भर्ती अभियान के लिए 8 जुलाई को नोटिफिकेशन जारी किया था. करीब सात पदों के लिए जारी भर्ती अभियान के लिए आवेदन की अंतिम तिथि 21 अगस्‍त है. भारतीय सेना में भविष्‍य तलाश रहे जिन नौजवानों ने अभी तक आवेदन नहीं किया है, वे सेना की आधिकारिक वेबसाइट joinindianarmy.nic.in के जरिए 21 अगस्‍त तक आवेदन कर सकते हैं.

इन पदों के लिए होनी है भर्ती रैली:
सैनिक (सामान्य ड्यूटी),
सैनिक (तकनीकी),
सैनिक (विमानन/गोला बारूद परीक्षक),
सैनिक (नर्सिंग सहायक / नर्सिंग सहायक पशु चिकित्सा),
सैनिक (क्लर्क / स्टोर कीपर तकनीकी),
सैनिक ट्रेडमैन (सभी शस्त्र)

शैक्षणिक योग्यता

  • सैनिक (सामान्य ड्यूटी) :
    (i) कुल 45% अंकों के साथ कक्षा 10वीं या मैट्रिक पास, प्रत्‍येक विषय में न्‍यूनतम 33% अंक.
    (ii) ग्रेडिंग सिस्टम बोर्ड से पास अ‍भ्‍यर्थियों के लिए सभी विषयों में ‘डी’ ग्रेड और एग्रीगिएट में ‘सी-2’ ग्रेड.

सैनिक (तकनीकी) :
(i) भौतिकी विज्ञान, रसायन विज्ञान और गणित विषय से 10+2/ इंटरमीडिएट पास की हो.
(ii) अंग्रेजी में न्‍यूनतम 50% अंक.
(iii) सभी विषयों में न्‍यूनतम और कुल 40% अंक.

सैनिक (विमानन/गोला बारूद परीक्षक):
(i) भौतिकी विज्ञान, रसायन विज्ञान और गणित विषय से 10+2/ इंटरमीडिएट पास की हो.
(ii) अंग्रेजी में न्‍यूनतम 50% अंक.
(iii) सभी विषयों में न्‍यूनतम और कुल 40% अंक.

सैनिक (नर्सिंग सहायक / नर्सिंग सहायक पशु चिकित्सा):
(i) भौतिकी विज्ञान, रसायन विज्ञान और जीव विषय से 10+2/ इंटरमीडिएट पास की हो.
(ii) अंग्रेजी में न्‍यूनतम 50% अंक.
(iii) सभी विषयों में न्‍यूनतम और कुल 40% अंक.

सैनिक (क्लर्क / स्टोर कीपर तकनीकी):
(i) कला, विज्ञान या वाणिज्‍य स्‍ट्रीम से 10 + 2/ इंटरमीडिएट परीक्षा पास की हो.
(ii) सभी विषयों में न्‍यूनतम 50% अंक.
(iii) सभी विषयों में कुल 60% अंक हों.
(iv) 12 वीं की कक्षा में अंग्रेजी, गणित और अकाउंट्स/बुक कीपिंग की पढ़ाई की हो.

सैनिक ट्रेडमैन (सभी शस्त्र):
(i) 33% अंकों के साथ 10 वीं कक्षा पास हों.

आयु सीमा
सैनिक (सामान्य ड्यूटी) पद के लिए आवेदन करने वाले अभ्‍यर्थियों जन्‍म 1 अक्‍टूबर 2000 से 1 अप्रैल 2004 के बीच का होना चाहिए. वहीं, सैनिक (तकनीकी), सैनिक (विमानन/गोला बारूद परीक्षक), सैनिक (नर्सिंग सहायक / नर्सिंग सहायक पशु चिकित्सा), सैनिक (क्लर्क / स्टोर कीपर तकनीकी) और सैनिक ट्रेडमैन (सभी शस्त्र) पद के लिए आवेदन करने वाले अभ्‍यर्थियों जन्‍म 1 अक्‍टूबर 1998 से 1 अप्रैल 2004 के बीच का होना चाहिए.

चयन प्रक्रिया
रैली के दौरान अभ्यर्थियों का शारीरिक स्वास्थ्य परीक्षण, शारीरिक मापन और चिकित्सा परीक्षण किया जाएगा. इन सभी मापदंडों में खरे उतरने वाले अभ्यर्थियों का चुनाव सामान्य प्रवेश परीक्षा के लिए किया जाएगा.

यह भी पढ़ें –
SSC GD Constable Recruitment 2021 : एसएससी ने जीडी कांस्टेबल भर्ती को लेकर जारी किया ये अहम नोटिस
RSMSSB Recruitment 2021: राजस्थान कर्मचारी चयन बोर्ड  ने निकाली 12वीं पास के लिए बंपर नौकरियां, जानें डिटेल

Sonbhadra News: 9 साल बाद नाबालिग छात्रा से अपहरण और दुष्कर्म के दोषी कौशल को 10 साल की सजा

सोनभद्र कोर्ट ने नाबालिग छात्रा के अपहरण और दुष्कर्म केस में सजा सुनाई है. (सांकेतिक चित्र)

Sonbhadra News: कोर्ट ने दोषी कौशल को 10 साल की कैद एवं 40 हजार रुपये जुर्माने की सजा सुनाई है. जुर्माने की रकम न देने पर 1 साल की अतिरिक्त सजा भुगतनी होगी.

SHARE THIS:

रंगेश सिंह

सोनभद्र. उत्तर प्रदेश के सोनभद्र (Sonbhadra) में अपर सत्र न्यायाधीश कोर्ट नम्बर-3 निहारिका चौहान की अदालत ने बुधवार को 9 साल पहले कक्षा 10 की छात्रा का अपहरण (Kidnapping) कर उसके साथ दुष्कर्म (Rape) करने के मामले में सजा सुनाई है. कोर्ट ने दोषी कौशल को 10 साल की कैद एवं 40 हजार रुपये जुर्माने की सजा सुनाई है. जुर्माने की राशि न देने पर 1 साल की अतिरिक्त सजा भुगतनी होगी. साथ ही अर्थदंड की आधी धनराशि पीड़िता को मिलेगी.

अभियोजन पक्ष के मुताबिक राबर्ट्सगंज कोतवाली क्षेत्र के एक गांव निवासी व्यक्ति ने थाने में 31 जनवरी 2012 को दी तहरीर में आरोप लगाया था कि उसकी बेटी कक्षा 10 की छात्रा है. वह 15 जनवरी 2012 को राबर्ट्सगंज कोतवाली क्षेत्र स्थित अपने ननिहाल गई थी. जब वह स्कूल गई, तभी खेखड़ा गांव निवासी कौशल पुत्र रामलगन ने उसकी बेटी का अपहरण कर लिया और उसके साथ दुष्कर्म किया.

पुलिस ने एफआईआर दर्ज कर मामले की विवेचना शुरू कर दी. एक फरवरी को पुलिस ने लड़की को राबर्ट्सगंज बस स्टेशन के पास से बरामद कर लिया. विवेचक ने पर्याप्त सबूत मिलने पर कौशल के विरुद्ध न्यायालय में चार्जशीट दाखिल किया. मामले की सुनवाई करते हुए अदालत ने दोनों पक्षों के अधिवक्ताओं के तर्कों को सुनने, गवाहों के बयान एवं पत्रावली का अवलोकन करने पर दोषसिद्ध पाकर दोषी कौशल को 10 साल की कैद एवं 40 हजार रुपये अर्थदंड की सजा सुनाई. वहीं अर्थदंड न देने पर एक साल की अतिरिक्त कैद भुगतनी होगी. जेल में बितायी अवधि सजा में समाहित रहेगी. साथ ही पीड़िता को अर्थदंड की आधी धनराशि मिलेगी. अभियोजन पक्ष की ओर से सरकारी वकील सत्यप्रकाश तिवारी ने बहस की.

खेत में मवेशी जाने से नाराज हमलावरों ने दम्पति को उतारा मौत के घाट, 2 गिरफ्तार

UP: सोनभद्र में दोहरे हत्याकांड के दो आरोपियों को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है.

Sonbhadra News: सोनभद्र के बभनी थाना क्षेत्र में एक अगस्त की रात हमलावरों ने दम्पति पर फावड़े से हमला कर मौत के घाट उतार दिया था. पुलिस ने मामले में दो आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है.

SHARE THIS:

रंगेश सिंह 

सोनभद्र. उत्तर प्रदेश के सोनभद्र (Sonbhadra) में बभनी थाना क्षेत्र के सड़क टोला में 1 अगस्त की रात शिवकुमार खरवार व उनकी पत्नी हीरामनी को मामूली विवाद में उसके ही बगल के रहने वाले दो सगे भाइयों ने मौत के घाट उतार दिया और फरार हो गए. घटना के बाद क्षेत्र में सनसनी फैल गयी थी. इतने शातिराना अंदाज से घटना को अंजाम दिया गया था कि पुलिस भी हैरत में थी. पुलिस हर जगह अपने मुखबीर को लगा रखा था ताकि इस हत्याकांड का खुलासा जल्द किया जा सके क्योंकि घटना को लेकर न सिर्फ कानून व्यवस्था पर बल्कि सोनभद्र पुलिस पर भी सवाल खड़ा हो रहा था.

इस बीच पुलिस को मुखबीर से सूचना मिली कि दम्पत्ति हत्याकांड के आरोपी आसनडीह पुलिया के पास छत्तीसगढ़ भागने के फिराक में खड़े हैं. मुखबीर से मिली सूचना के आधार पर पुलिस ने घेरा बन्दी की तो आरोपी भागने लगे लेकिन पुलिस ने दौड़ाकर पकड़ लिया और फिर उनकी निशानदेही पर हत्या में प्रयुक्त कत्ल में इस्तेमाल फावड़ा बरामद कर लिया.

पुलिस अधीक्षक अमरेंद्र प्रसाद सिंह ने बताया कि पूछताछ में आरोपी इंद्रदेव ने बताया कि शिवकुमार के जानवरों द्वारा उनके खेत की फसल को चर लिया जाता था. इस बात को लेकर कई बार दोनों पक्षों के बीच अक्सर आपस में विवाद होता रहता था. इसी बात से तंग आकर  आरोपी इंद्रदेव द्वारा अपने छोटे भाई बलदेव के साथ मिलकर शिवकुमार का काम तमाम करने का इरादा बना लिया और 1/2 अगस्त की रात्रि में शिवकुमार खरवार व उसकी पत्नी हीरामनी पर घर में सोते समय फावड़े से जान से मारने की नियत से हमला कर दिया.

हमले में हीरामनी की मौके पर ही मृत्यु हो गयी थी जबकि शिवकुमार गम्भीर रूप से घायल हो गया था, जिसकी वाराणसी स्थित ट्रामा सेंटर में इलाज के दौरान मृत्यु हो गयी. पुलिस अधीक्षक ने बताया कि इस हत्याकांड में दो अभियुक्त इन्द्र देव गोंड पुत्र हीरा सिंह गोंड व बलदेव गोंड पत्र हीरा सिंह गोंड दोनों निवासी ग्राम बभनी सड़क टोला को गिरफ्तार किया गया है. इनके पास से कत्ल में इस्तेमाल फावड़ा बरामद कर लिया गया है.

UP Crime: सेल्फी लेने के बहाने पत्नी को वाटरफॉल से मारा धक्का, एक महीने पहले हुई थी शादी

उत्तर प्रदेश के सोनभद्र में पति ने पत्नी की हत्या कर दी.

Sonbhadra News: उत्तर प्रदेश के सोनभद्र ने एक शख्स ने अपने पत्नी की हत्या (Murder) की दी. सेल्फी लेने के बहाने महिला को वाटरफॉल से नीचे धक्का मार दिया.

SHARE THIS:

रंगेश सिंह 

सोनभद्र. उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) के सोनभद्र (Sonbhadra) की रहने वाली नवविवाहिता आशा कुमारी के गुमशुदगी की पहेली को शक्तिनगर पुलिस ने सुलझा लिया. पुलिस के मुताबिक महिला के पति ने ही उसकी हत्या की है. शक्तिनगर पुलिस (Shaktinagar Police) ने कॉल डिटेल के आधार पर पति और उसके परिजनों को गिरफ्तार कर मामले का खुलासा कर दिया. आशा कुमारी के पति ने उसे घूमने के बहाने बुलाकर जलप्रपात में धक्का देकर मौत के घाट उतार दिया. घटना को इतनी सफाई से अंजाम दिया गया कि किसी को कानों कान खबर न लग सकी. पत्नी की हत्या कर पति बड़े आराम से बिहार निकला और अपने घर चला गया.

खुलासा करते हुए पुलिस अधीक्षक अमरेंद्र प्रसाद सिंह ने बताया कि शक्तिनगर के राजकिशन कॉलोनी के  रहने वाले शंकर कुमार ने अपनी बहन आशा कुमारी के गुमशुदा होने सम्बन्धित प्रार्थना पत्र दिया गया था. इसके बाद पुलिस ने तत्काल संज्ञान लेकर मामले की खोजबीन शुरू की. अपर पुलिस अधीक्षक मुख्यालय विनोद कुमार और क्षेत्राधिकारी पिपरी विजय शंकर मिश्र की जांच के दौरान पाया गया कि गुमशुदा आशा देवी का पति संजीत कुमार दिनांक 16 जुलाई को शक्तिनगर आया था और बस स्टैण्ड के पास किसी होटल में रुका था. कड़ाई से पुछताछ करने पर उसके द्वारा बताया गया कि अपनी पत्नी को रसकन्डा जल प्रपात दिखाने के लिए गया था. जहां सेल्फी खींचने के बहाने उसे जल प्रपात में धक्का दे दिया.

गुमशुदा के परिजनों की तहरीर के आधार पर थाना शक्तिनगर मुकदमा दर्ज कर लिया गया. संजीत कुमार, विरेन्द्र राम को  शक्तिनगर बस स्टैण्ड  के पास से गिरफ्तार किया गया. अभियुक्त संजीत कुमार उपरोक्त की निशानदेही पर मृतका आशा देवी का पर्स,आईडी कार्ड को घटना स्थल से बरामद किया गया है. दोनों ने अपना जुर्म कबूल कर लिया है. शव की बरामदगी के लिए शक्तिनगर पुलिस  छत्तीसगढ़ पुलिस के साथ मिलकर लगातार  प्रयास कर रही है.

परिवार में कोहराम

वारदात के बाद से महिला के माता-पिता का रो-रोकर बुरा हाल है. उन्होंने बताया कि संजीत कुमार ने अपने पत्नी को पहले उसके मायके छोड़कर चला गया. फिर तीन दिनों बाद पत्नी को फोन कर उसे घूमने के लिए जलप्रपात पर बुलाया और सेल्फी लेने के बहाने जलप्रपात पर किनारे ले जाकर धक्का दे दिया जिससे डूबने से उसके पत्नी की मौत हो गई. फिर संजीत वहां से चुपचाप चला गया. जब आशा के विषय में जानकारी लेने के लिए पति संजीत को फोन किया गया तो उसने आशा से मुलाकात होने की बात से इंकार किया.

UP: चंदौली में दबंग पूर्व ब्लॉक प्रमुख सहित 3 लोगों पर FIR, गैंगरेप के बाद हत्या का आरोप

चंदौली में दबंग पूर्व ब्लॉक प्रमुख सहित 3 लोगों पर FIR (File photo)

बबुरी थानाध्यक्ष (SHO) सत्येंद्र विक्रम सिंह का कहना है कि किशोरी की मौत के मामले में पूर्व प्रमुख शिवेंद्र सिंह, अजय पाठक और एक अज्ञात के खिलाफ संगीन धाराओं में मुकदमा (FIR) दर्ज किया गया है. पुलिस मामले की विवेचना कर रही है.

SHARE THIS:
चंदौली. वाराणसी से सटे चंदौली (Chandauli) जिले के बबुरी थाना क्षेत्र निवासी एक नाबालिग की मौत के मामले में न्यायालय के आदेश पर पुलिस ने चकिया के पूर्व ब्लॉक प्रमुख शिवेंद्र सिंह सहित 3 लोगों पर हत्या, सामूहिक दुष्कर्म सहित अन्य संगीन धाराओं में मुकदमा दर्ज किया गया है. रसूखदार पूर्व ब्लॉक प्रमुख के खिलाफ सीधी कार्रवाई से पुलिस कतरा रही थी. लेकिन पॉक्सो कानून के तहत गठित चंदौली की विशेष अदालत के आदेश पर पुलिस को झुकना पड़ा और बबुरी थाने में पूर्व प्रमुख शिवेंद्र प्रताप उसके करीबी अजय पाठक और एक अन्य के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर लिया गया है.

बता दें कि 12 जून को बबुरी थाना क्षेत्र निवासी किशोरी घर से निकली लेकिन रात तक वापस नहीं लौटी. परिजनों के अनुसार, सोनभद्र जिले की सुकृत पुलिस ने फोन कर बताया कि किशोरी गंभीर अवस्था में मिली है. उसे अस्पताल में भर्ती करवाया गया, जहां उसकी मौत हो गई. बगैर पोस्टमार्टम के किशोरी के शव को प्रवाहित कर दिया गया. इस मामले में पुलिस और चिकित्सकों पर भी आरोप लगे.

मुनव्वर राणा के बयान पर BJP का पलटवार, योगी के मंत्री बोले- पूरी तरह सुरक्षित है UP

पुलिस पर हीलाहवाली का आरोप लगा जबकि सोनभद्र के सरकारी चिकित्सक पर आरोप है कि बगैर पोस्टमार्टम उसने मौत का कारण जहर का सेवन बताया. किशोरी के दादा ने आरोप लगाया कि उसकी पोती अजय पाठक के यहां झाडू पोछा करने जाती थी. उस दिन भी वह अजय पाठक के घर ही गई थी. लेकिन वहां से सोनभद्र कैसे पहुंची यह रहस्य है. यह भी बताया कि दोनों आरोपित पूर्व प्रमुख और अजय पाठक अपने वाहन से किशोरी का शव लाने सोनभद्र गए थे. किशोरी के शव पर भूसा लगा था, जिससे साफ था कि उसकी मौत स्वाभाविक नहीं थी.

आरोपियों के खिलाफ जांच जारी- SHO
आरोप यह भी कि सामूहिक दुष्कर्म के बाद किशोरी को जहर दिया गया था. पीड़ित परिवार ने थाने से लेकर पुलिस के आलाधिकारियों तक गुहार लगाई लेकिन ऊंचे रसूख के चलते आरोपितों के खिलाफ पुलिस ने कोई कार्रवाई नहीं की. अंत में मृतका के दादा ने न्यायालय में गुहार लगाई. बबुरी थानाध्यक्ष सत्येंद्र विक्रम सिंह का कहना है कि किशोरी की मौत के मामले में पूर्व प्रमुख शिवेंद्र सिंह, अजय पाठक और एक अज्ञात के खिलाफ संगीन धाराओं में मुकदमा दर्ज किया गया है. पुलिस मामले की विवेचना कर रही है. इसके बाद ही आगे की कार्यवाही की जाएगी.

Sonbhadra News: ओबरा में निर्माणाधीन 1320 मेगावॉट के पॉवर प्लांट में मजदूरों की हड़ताल, मचा हड़कंप

सोनभद्र के ओबरा में मजदूरों ने वेतन की मांग को लेकर निर्माणाधीन पावर प्लांट का काम रोक दिया है.

Lucknow News: ओबरा में कोरियाई कम्पनी दुसान द्वारा निर्माणाधीन 1320 मेगावॉट की नई विद्युत परियोजना में महीनों से वेतन ना मिलने से नाराज सैकड़ों मजदूरों ने हड़ताल कर दी है. मजदूरों का आरोप है कि पांच महीने से ज्यादा समय का वेतन नहीं दिया गया है.

SHARE THIS:
रंगेश सिंह

सोनभद्र. उत्तर प्रदेश के सोनभद्र (Sonbhadra) जिले में ओबरा में कोरिया के दुसान कम्पनी द्वारा 1320 मेगावॉट की विद्युत परियोजना (Power Project) का निर्माण कार्य किया जा रहा है. कम्पनी में ठेका मजदूरों द्वारा आज अचानक काम बंद कर हड़ताल पर जाने से हड़कम्प मंच गया. सैकड़ों की संख्या में मजदूरों ने सी प्लांट का काम रोककर आंदोलन शुरू कर दिया.  मजदूरों का कहना है कि ठेकेदारों ने कई महीने का वेतन नहीं दिया है. नाराज मजदूरों ने कार्य बहिष्कार कर धरने पर बैठ गए और सी प्लांट में जाने वाला रास्ता ब्लॉक कर दिया.

बता दें यहां लगभग 15 दिनों से मजदूर आन्दोलनरत हैं, पर सी प्लांट का काम कर रही दुसान के कोई अधिकारी मजदूरों की सुध तक नहीं लिए, जिससे आज मजदूर भड़क गए. उन्होंने सड़क को ब्लॉक कर जाम लगा दिया. सुबह 7 बजे से मजदूर काम बंद कर 11 बजे तक बैठे रहे पर कोई आला अधिकारी मजदूरों से बात करने के लिए नहीं आया. मजदूरों के काम बंद करने से पहले से ही देर हो चुके पॉवर प्लांट के काम मे बाधा उत्पन्न हो गई है.

पता चला है कि पांच से छह महीने का वेतन मजदूरों को नहीं मिला है. ठेकेदार का कोई अता-पता नही है. मौके पर स्थानीय पुलिस लोगों को समझाने का कार्य कर रही है. सोनभद्र के जिलाधिकारी अभिषेक सिंह के संज्ञान में आने के बाद जिलाधिकारी ने तत्काल आदेश देकर ओबरा एसडीएम व श्रम अधिकारी मौके पर भेजा है.

ठेका मजदूरों का आरोप है कि हम लोगों का पांच महीने से ज्यादा समय का वेतन नहीं दिया गया है. हम लोगों के सामने भुखमरी की स्थिति उतपन्न हो गयी है, पर कम्पनी के ठेकेदार भाग खड़े हुए हैं. ना तो मोबाइल उठा रहे हैं, ना ही उनका कोई सम्पर्क हो पा रहा है. जब तक हम लोगों का बकाया वेतन नहीं दिया जाता, तब तक काम बंद ही रहेगा.

इस मामले में जिलाधिकारी अभिषेक सिंह ने कहा कि तत्काल ओबरा एसडीएम व श्रम अधिकारी को मौके पर भेज कर मजदूरों की मांगों को जल्द पूरा कराने का आदेश दिया है. जिन मजदूरों का श्रम विभाग में रजिस्ट्रेशन नहीं हुआ है, उनका रजिस्ट्रेशन करवाने का काम किया जाएगा.

अब देखने वाली बात होगी कि कब तक मजदूरों का बकाया भुगतान हो पाता है क्योंकि 1320 मेगावॉट उत्तर प्रदेश सरकार की परियोजना में सबसे महत्वपूर्ण है. बिजली संकट से जनता को बचाने के लिए इस परियोजना को जल्द से जल्द पूरा करना है. अधिकारियों के लापरवाही से पहले ही परियोजना में देर हो चुकी है. सरकार जनता को 24 घण्टे बिजली मुहैया कराना चाहती है, वहीं इन लापरवाह अधिकारियों की वजह से सरकारी कार्य मे रोज कोई ना कोई बाधा उतपन्न हो रही है.

UP News: सोनभद्र में नवजात को जिंदा दफन कर रहा था अधेड़, लोगों की पड़ी नजर तो हुआ फरार 

सोनभद्र में नवजात को जिन्दा दफनाने की कोशिश

Sonbhadra News: सोनभद्र के अनपरा थाना क्षेत्र में एक अधेड़ नवजात शिशु को श्मशान में गढ्ढा खोदकर दफनाने की कोशिश कर रहा था, तभी बच्चे के रोने की आवाज सुनकर एक महिला वहां पहुंच गई.

SHARE THIS:
सोनभद्र. 'जाको राखे साइयां, मार सके न कोई' की कहावत रविवार की देर शाम को सोनभद्र (Sonbhadra) जनपद के अनपरा में चरितार्थ हो गई. रेनुसागर चौकी परिक्षेत्र के रेनुसागर मोड़ श्मशान घाट के समीप एक अधेड़ नवजात को जिंदा दफना रहा था, तभी बच्चे की रोने सुनकर आसपास के लोगों की नजर पड़ने से अधेड़ शिशु को छोड़कर फरार हो गया.

रेनुसागर मोड़ स्थित श्मशान घाट के समीप एक अधेड़ उम्र का व्यक्ति एक नवजात जिंदा शिशु को जिन्दा दफनाने की तैयारी कर रहा था, तभी नवजात के रोने की आवाज सुन आसपास की रहने वाली मजदूर महिला सुनीता देवी पति स्व संजय कुमार की नजर पड़ गयी. जिसे अपने पास आते देख अधेड़ शिशु को छोड़कर फरार हो गया. जिसके बाद सुनीता ने तत्काल नवजात शिशु को गड्ढे से बाहर निकाल उसे साफ सुथरा किया. मामले की जानकारी होते ही बड़ी संख्या में लोगों की भीड़ इकट्ठा हो गई. इस बीच पुलिस को भी सूचना दी गई. मौके पर पहुंचे अनपरा कोतवाल विजय प्रताप सिंह ने शिशु को तत्काल स्थानीय चिकित्सालय पहुंचाया.

अधेड़ की तलाश में जुटी पुलिस
कोतवाल विजय प्रताप सिंह ने बताया कि लोगों द्वारा बताए गए हुलिया के आधार पर अधेड़ की तलाश की जा रही. शिशु का स्वास्थ्य थोड़ा ख़राब है, जिसका इलाज चल रहा है. आगे विधिक की कार्रवाई की जाएगी। मौके पर रेनुसागर चौकी प्रभारी वंश नरायण राय सहित अन्य पुलिस कर्मी भी मौजूद रहे. घटना को लेकर क्षेत्र में तरह-तरह की चर्चाओं का बाजार गर्म है. अभी तक कोख में लड़कियों के मारने की खबरे सुर्खियां बनती थी, लेकिन इस घटना में तो शिशु एक सप्ताह का नवजात लड़का है.

(रिपोर्ट: रंगेश कुमार सिंह)

UP News: सोनभद्र में आकाशीय बिजली गिरने से 3 की मौत, तीन अन्य घायल

सोनभद्र में बिजली गिरने से तीन की मौत (प्रतीकात्मक तस्वीर)

UP News: बभनी थाना क्षेत्र के डूम्भा गांव मे आकाशीय बिजली गिरने से एक व्यक्ति की मौत हो गई और दूसरा व्यक्ति घायल हो गया. जनपद मे आकाशीय बिजली से कुल तीन लोगों की मौत हुई है और तीन लोग घायल हुए हैं.

SHARE THIS:
सोनभद्र. उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) के सोनभद्र जिले में रविवार को अचानक तेज बारिश और आकाशीय बिजली (Lightening) गिरने से अलग-अलग थाना क्षेत्रों में तीन व्यक्तियों की मौत हो गई, जबकि तीन लोग घायल हो गए. कोन थाना क्षेत्र के कुड़वा ग्राम पंचायत में अपने बुआ की मृत्यु के पश्चात दसवीं के कार्यक्रम के समय लगभग 4 बजे तेज चमक और बारिश के दौरान आकाशीय बिजली की चपेट में आने से दो की मौत हो गई, जबकि दो लोग घायल हो गए. आनन-फानन में परिजनों ने सभी को सीएचसी विंढमगंज पहुंचे, जहां दो युवकों को डॉक्टरों ने मृत घोषित कर दिया, जबकि दोनों दो अन्य घायलों की हालत गंभीर होने पर जिला अस्पताल रेफर कर दिया. सूचना के बाद मौके पर पहुंची पुलिस ने दोनों शवों को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया.

दूसरी तरफ बभनी थाना क्षेत्र के डूम्भा गांव में आकाशीय बिजली गिरने से एक व्यक्ति की मौत हो गई और दूसरा व्यक्ति घायल हो गया. जनपद में आकाशीय बिजली से कुल तीन लोगों की मौत हुई है और तीन अन्‍य घायल हुए हैं.

इनकी हुई मौत
जानकारी के अनुसार कोन थाना क्षेत्र के कुड़वा ग्राम पंचायत में बारिश के दौरान आकाशीय बिजली की चपेट में आने से कृष्णा यादव उम्र 55 वर्ष पुत्र स्वर्गीय दशरथ यादव, शिव कुमार यादव 45 वर्ष पुत्र हेलाल यादव की मौत हो गई. सुरेश यादव उम्र लगभग 50 वर्ष पुत्र तपेश्वर यादव और सुरेश कुशवाहा 60 पुत्र बिरझु कुशवाहा झुलस गए. आनन-फानन में परिजनों द्वारा प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र विंढमगंज पर लाया गया. जहां मौके पर मौजूद डॉक्टर सत्येंद्र प्रसाद ने उक्त लाए गए चारों लोगों को देख कर दो लोगों को मृत घोषित कर दिया. वहीं, दो की हालत गंभीर देख जिला अस्पताल रेफर किया.

पेड़ के नीचे छिपे थे सभी
ग्राम प्रधान सुजीत कुमार ने बताया कि विकास खंड चोपन के अंतर्गत कोन थाना क्षेत्र के कुडवा ग्राम पंचायत में अपने बुआ के निधन के बाद दसवीं के कार्यक्रम में घर के सारे परिजन और सगे संबंधी घाट पर बाल दाढ़ी बनवा ही रहे थे कि लगभग 4:00 बजे गरज चमक के साथ मूसलाधार बारिश शुरू हो गई. बारिश से इधर-उधर भागने के दौरान नीम के पेड़ के नीचे सारे लोग जा छुपे. इसकी वजह से आकाशीय बिजली के चपेट में आ गए. दो लोगो की मौत हो गयी है जबकि दो की हालत गंभीर है जिन्हें जिला अस्पताल रेफर कर दिया गया है.

(रिपोर्ट: रंगेश सिंह)

सोनभद्र जिला पंचायत चुनाव: सपा ने अध्यक्ष पद पर जय प्रकाश पांडेय उर्फ चेखुर पाण्डेय पर खेला दांव

सपा ने अध्यक्ष पद पर जय प्रकाश पांडेय उर्फ चेखुर पाण्डेय पर खेला दांव (File photo)

सोनभद्र में जिला पंचायत अध्यक्ष पद के चुनाव में यदि आंकड़ों पर गौर करें तो सपा के पास 11 सदस्य, जबकि बीजेपी (BJP) के पास मात्र 6 सदस्य हैं.

SHARE THIS:
सोनभद्र. उत्तर प्रदेश में पंचायत चुनाव के बाद ब्लॉक प्रमुख और जिला पंचायत अध्यक्ष (Zila Panchayat President) के चुनाव की तारीखों का ऐलान हो गया है. इसी कड़ी में समाजवादी पार्टी (Samajwadi Party) ने जिला पंचायत पद के मुख्य दावेदार चेखुर पाण्डेय उर्फ जय प्रकाश पाण्डेय को सोनभद्र (Sonbhadra) से अपना प्रत्याशी घोषित किया है. शनिवार को सपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव की सहमति पर प्रदेश अध्यक्ष नरेश उत्तम पटेल ने जय प्रकाश पांडेय को प्रत्याशी बनाने की घोषणा की. बता दें कि जय प्रकाश पांडेय घोरावल के जिला पंचायत क्षेत्र घघरी वार्ड नं0 27 से जिला पंचायत सदस्य के तौर पर जीत हासिल की है.

निर्दलीय बन सकते हैं 'किंग मेकर'
सोनभद्र की बात करें तो यहां जिला पंचायत सदस्यों की संख्या 31 है जबकि क्षेत्र पंचायत के 781 सदस्य हैं. यूं तो चुनाव में सभी राजनीतिक दलों ने अपना दांव आजमाया था लेकिन चला सिर्फ कुछ ही का. जिला पंचायत में पहले पायदान पर सपा है जबकि बीजेपी तीसरे नंबर पर है. दूसरे स्थान पर निर्दलीय प्रत्याशियों की संख्या है और यही संख्या निर्णायक बन सकती है. ऐसा माना जा रहा है कि जिला पंचायत अध्यक्ष पद के लिए टक्कर प्रमुख दो दल सपा व बीजेपी के बीच होगी.

ये रहा राजनीतिक समीकरण
सोनभद्र में जिला पंचायत अध्यक्ष पद के चुनाव में यदि आंकड़ों पर गौर करें तो सपा के पास 11 सदस्य, जबकि बीजेपी के पास मात्र 6 सदस्य हैं. अध्यक्ष बनने के लिए मैजिक आंकड़ा 16 है. ऐसे में सपा मैजिक आंकड़े के सबसे नजदीक है और उसे मात्र 5 सदस्यों की जरूरत पड़ेगी, जबकि बीजेपी को 10 सदस्यों की जरूरत पड़ेगी .

बहरहाल जिला पंचायत चुनाव में बीजेपी पहले ही अपनी किरकिरी करा चुकी है. ऐसे में बीजेपी की निगाह जिला पंचायत अध्यक्ष की सीट समेत दस ब्लाक प्रमुखों पर है. वहीं सपा बीजेपी के इस अभियान को रोकने में पूरी तरह से लगी हुई है. कुल मिलाकर काफी दिलचस्प चुनाव देखने को मिलेगा. (रिपोर्ट- रंगेश सिंह)

मौसम विभाग का ऐलान- UP में 13 जून को आ रहा मॉनसून, बलिया, गाजीपुर, सोनभद्र से करेगा प्रवेश

मौसम विभाग ने कहा है कि यूपी में मॉनसून 13 जून को प्रवेश कर रहा है.

UP Monsoon News: लखनऊ स्थित मौसम विभाग के निदेशक जे पी गुप्ता के अनुसार ताजा अध्ययन के मुताबिक मॉनसून की चाल सामान्य है. रविवार को यूपी में पूर्वांचल के कई जिलों में इसकी वजह से बारिश हो सकती है. लखनऊ तक इसे पहुंचने में 2 से 3 दिन का समय लग सकता है.

SHARE THIS:
लखनऊ. उत्तर प्रदेश में मॉनसून (Monsoon) के आगमन का इंतजार खत्म हो गया है. मौसम विभाग ने घोषणा कर दी है कि यूपी की सीमा में अगले 24 घण्टे में यानी कल रविवार (13 जून) को किसी समय मॉनसून प्रवेश कर जाएगा. प्रदेश के वो जिले जिनकी सीमा बिहार से लगती है वे बारिश से तर-बतर हो जाएंगे. बलिया (Ballia), गाजीपुर (Ghazipur), चंदौली (Chandauli) और सोनभद्र (Sonbhadra) तक में इसका पहला असर देखने को मिल जाएगा. इसके बाद दो से तीन दिनों में पूरे प्रदेश में बारिश हो जाएगी.

लखनऊ स्थित मौसम विभाग के निदेशक जे पी गुप्ता ने बताया कि ताजा अध्ययन के मुताबिक मॉनसून की चाल सामान्य है और रविवार को पूर्वांचल के कई जिलों में इसकी वजह से बारिश हो सकती है. लखनऊ तक इसे पहुंचने में दो से तीन दिन का समय लग सकता है. इसकी इन्टेन्सिटी पर निर्भर करेगा कि पश्चिमी यूपी के जिलों में कब तक मॉनसून पहुंचता है. फिलहाल इसकी रफ्तार सामान्य दिख रही है.

बिहार में पहुंचा मॉनसून, कई जिलों में अलर्ट
दूसरी ओर बिहार में शनिवार को मॉनसून का आगमन हो गया. पटना स्थित मौसम विभाग के निदेशक विवेक सिन्हा ने बताया कि फिलहाल मॉनसून का असर दरभंगा तक फैल गया है. विवेक सिन्हा ने भी संभावना जताई है कि दरभंगा से यूपी की सीमा तक पहुंचने में मॉनसून को 24 घण्टे का समय लग जाएगा. इसकी रफ्तार स्ट्रांग है. तय समय से एक दिन पहले बिहार में मॉनसून की इण्ट्री हुई है. अगले 48 घण्टों में बिहार के कई जिलों में भारी बारिश का अलर्ट भी जारी किया गया है.

दरभंगा उत्तर बिहार का जिला है. इसके बाद तीन और जिलों को पार करके मॉनसून की इण्ट्री बलिया में होगी. बता दें कि बिहार के रास्ते ही यूपी में मॉनसून का प्रवेश होता है. बंगाल की खाड़ी से चले बादल बंगाल, ओड़िशा, झारखण्ड और बिहार को पार करके यूपी में दाखिल होते हैं.

इस साल तीन से चार दिन पहले पहुंच रहा मॉनसून
इस साल समय से तीन-चार दिन पहले प्रदेश में मॉनसून पहंच रहा है. अमूमन 16-17 जून या इसके बाद ही इसकी सूबे में आमद होती है. बंगाल की खाड़ी में बने चक्रवातीय सिस्टम के चलते कुछ दिन पहले ही मॉनसून आ रहा है.

इन जिलों में आज शाम प्री-मॉनसून बारिश
लखनऊ स्थित मौसम विभाग ने आज शनिवार की शाम तक कई जिलों में हवा के तेज झोंकों के साथ बारिश का अनुमान जारी किया है. ये जिले हैं - मेरठ, इटावा, औरैया, जालौन, कानपुर नगर, कानपुर देहात, लखनऊ, उन्नाव, बाराबंकी, बहराइच, रायबरेली, हमीरपुर, फतेहपुर, गाजीपुर, मऊ, चंदौली, गोरखपुर, आजमगढ़, देवरिया, अम्बेडकर नगर, बसंती, सुल्तानपुर और संत कबीरनगर. हालांकि इन जिलों में होने वाली बारिश मॉनसूनी नहीं बल्कि प्री-मॉनसून बारिश कही जाएगी.

ODOP: मार्जिन मनी स्कीम में गोरखपुर सहित पूर्वांचल के ये 10 जिले फिसड्डी, अधिकारियों पर गाज की तैयारी

UP: ODOP स्कीम के तहत खराब प्रदर्शन करने वाले जिलों के अधिकारियों के खिलाफ यूपी के एमएसएमई मंत्री सिद्धार्थ नाथ सिंह ने सख्त निर्देश जारी किये हैं

UP News: सीएम योगी आदित्यनाथ (CM Yogi Adityanath) की प्राथमिकता वाली ODOP मार्जिन मनी स्कीम में प्रदेश के 32 जिलों का खराब प्रदर्शन है. इनमें से सबसे खराब प्रदर्शन वाले 10 जिले और 5 मंडल के अधिकारियों के खिलाफ शासन को रिपोर्ट भेजी गई है.

SHARE THIS:
लखनऊ. उत्तर प्रदेश के सीएम योगी आदित्यनाथ (CM Yogi Adityanath) की महत्वाकांक्षी योजना एक जिला एक उत्पाद (ODOP) जिसके जरिये यूपी सरकार का ये प्रयास था कि जिलों में धीरे पहचान खो रहे उत्पादों को खास पहचान मिले. इसके लिए यूपी सरकार ने खासतौर पर एक कार्ययोजना भी बनाई. जिसके चलते ना सिर्फ एक तरफ जिलों के उत्पादों को नयी पहचान मिली बल्कि उनकी डिमांड में तेजी आयी है. लेकिन इस कार्ययोजना को कई जिलों में अधिकारी पलीता लगा रहे हैं. यही कारण है कि 32 जिलों का प्रदर्शन बेहद खराब आया है.

इसी को देखते हुए यूपी के एमएसएमई मंत्री सिद्धार्थ नाथ सिंह ने सख्त निर्देश जारी किये हैं. इन निर्देशों के तहत एक जिला एक उत्पाद मार्जिन मनी स्कीम में खराब प्रदर्शन करने वाले इन जिलों के अधिकारियों को हटाने का फैसला किया गया है.

दरअसल सीएम की प्राथमिकता वाली ODOP मार्जिन मनी स्कीम में प्रदेश के 32 जिले फिसड्डी साबित हुए हैं. इनमें से सबसे खराब प्रदर्शन वाले 10 जिले और 5 मंडल के अधिकारियों के खिलाफ शासन को रिपोर्ट भेजी गई है. खराब प्रदर्शन करने वाले जिलों में कुशीनगर, श्रावस्ती, गोरखपुर, गाजीपुर, लखीमपुर खीरी, पीलीभीत, जौनपुर, सौनभद्र, चित्रकूट और गोंडा शामिल हैं.

जानकारी के अनुसार इन जिलों में दिए गए लक्ष्य के सापेक्ष 8.18 प्रतिशत से लेकर 29.95 प्रतिशत राशि ही वितरित कर सकी. अब सरकार ने इस खराब प्रदर्शन करने वाले जिलों के खिलाफ नजरें टेढ़ी कर ली है. MSME मंत्री सिद्धार्थ नाथ सिंह ने कहा है कि सिर्फ फील्ड में अच्छा काम करने वाले अधिकारी ही तैनात रखे जायेंगे इसीलिए समीक्षा करके खराब प्रदर्शन करने वाले अधिकारियों को जल्द हटाने के लिए कह दिया गया है. इससे अन्य अधिकारियों में ये संदेश जाना चाहिए कि वो जिलों लक्ष्य के सापेक्ष कार्य करें अन्यथा उन पर भी कार्यवाही की जायेगी.

सोनभद्र: PM नरेंद्र मोदी ने नव दंपति की शादी को बनाया यादगार, पत्र भेजकर दिया आशीर्वाद

कोमल और रविशंकर की शादी 30 अप्रैल को हुई है.

Sonbhadra News: पिता का साया 12 वर्ष पहले उठ जाने के बाद से पूनम देवी के बच्चे अपना गर्जियन पीएम मोदी को ही मानते हैं. ऐसे में एक निमंत्रण पत्र प्रधानमंत्री को भी भेजा गया. किसी को उम्मीद नहीं थी कि प्रधानमंत्री आशीर्वाद के रूप में पत्र भेजेंगे.

SHARE THIS:
सोनभद्र. उत्‍तर प्रदेश के सोनभद्र (Sonbhadra) जनपद के चुर्क के कोल्हुआ निवासी पूनम देवी की बेटी कोमल का विवाह उस वक्त यादगार बन गया, जब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) की तरफ से नव दंपति को आशीर्वाद का पत्र मिला. कोमल और रविशंकर की शादी 30 अप्रैल को हुई थी. कोमल ने प्रधानमंत्री को शादी में आने का निमंत्रण पत्र भेजा था. हालांकि, कोरोना काल में शादी बड़े सादगी के साथ संपन्न हुआ, लेकिन अब प्रधानमंत्री का पत्र पाकर कोमल काफी खुश है.

दरअसल, शादी में कोमल ने जिद की कि जब हमलोग अपने गार्जियन के रूप में देश के यशस्वी प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को मानते हैं तो उनको भी शादी का निमंत्रण दिया जाना चाहिए. पिता का साया 12 वर्ष पहले उठ जाने के बाद से पूनम देवी के बच्चे अपना गार्जियन प्रधानमंत्री मोदी को ही मानते है. ऐसे में एक निमंत्रण पत्र प्रधानमंत्री को भी भेजा गया. किसी को उम्मीद नहीं थी कि प्रधानमंत्री आशीर्वाद के रूप में पत्र भेजेंगे. प्रधानमंत्री का आशीर्वाद पाकर कोमल बहुत ही गदगद हैं और कह रही हैं कि उनकी शादी यादगार हो गई.

कोमल के भाई भाजपा कार्यकर्ता
बता दें पति की मौत के बाद पूनम देवी ने कड़ी मेहनत कर अपने बच्चों की परवरिश की. कोमल का भाई गौरव सिंह भाजपा आईटी सेल में जिला सह-संयोजक है. अपनी बहन की शादी को लेकर उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को निमंत्रण पत्र भेजा था. प्रधानमंत्री शादी में शरीक तो नहीं हो सके लेकिन वहां से पत्र का जबाब आया. प्रधानमंत्री ने नव दंपति को दीर्घ, सुखद एवं सौभाग्यपूर्ण जीवन के लिए शुभकामनाएं दी है.

पीएम का पत्र पाकर खुश हैं दोनों परिवार
प्रधानमंत्री का पत्र मिलने के बाद न सिर्फ नव दंपति कोमल एवं रविशंकर बल्कि दोनों परिवारों के लोग बेहद खुश हैं. गौरव सिंह का कहना है कि वे भाजपा को अपना परिवार मानता है और परिवार के नाते उन्होंने प्रधानमंत्री को निमंत्रण पत्र भेजा था, लेकिन उन्हें उम्मीद नहीं थी कि एक छोटे से कार्यकर्ता के लिए प्रधानमंत्री इतना गंभीर हो जाएंगे और उसका जबाब भेजेंगे. वे इस पत्र के लिए बहुत खुश है. साथ ही खुशी इस बात के लिए भी है कि इस खुशी के मौके पर बहन के सिर पर पिता का हाथ नहीं था जो प्रधानमंत्री जी ने पूरा कर दिया.

(रिपोर्ट: रंगेश सिंह)

सोनभद्र में मंगेतर को बंधक बनाकर युवती से किया गैंगरेप, 3 आरोपी गिरफ्तार

सोनभद्र में मंगेतर को बंधक बनाकर युवती से किया गैंगरेप

मामले की गम्भीरता को देखते हुए सोनभद्र एसपी (SP) अमरेंद्र प्रसाद सिंह ने घटना स्थल का मुआयना किया और आरोपियों को जल्द गिरफ्तार करने का आदेश दिया.

SHARE THIS:
रंगेश कुमार सिंह/सोनभद्र. उत्तर प्रदेश के सोनभद्र (Sonbhadra) के बीजपुर थाना क्षेत्र के एक गांव में पहाड़ी पर स्थित मंदिर में अपने मंगेतर के साथ दर्शन करने आयी युवती के साथ तीन युवकों ने गैंगरेप (Gang Rape) किया. तीनों आरोपी जंगल में लकड़ी काटने आये थे. जोड़े को अकेला देखकर व सुनसान इलाका होने का फायदा उठाते हुए लड़की को तीनों ने जंगल मे ले जाकर दुष्कर्म की घटना को अंजाम दिया. वहीं लड़की के मंगेतर के साथ मारपीट भी की. किसी तरह दोनों वहां से बच कर भागने के बाद इसकी जानकारी स्थानीय पुलिस को दी. पुलिस ने मामला दर्ज कर रविवार को तीनों आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है. पुलिस ने आरोपियों पर धारा 376 के तहत मामला दर्ज किया है.

बता दें कि बभनी थाना क्षेत्र के एक गांव की युवती शनिवार को अपने मंगेतर के साथ धरतीडाड़ गांव के मोटकी पहाड़ी पर स्थित हनुमान मंदिर में दर्शन पूजन करने आई थी. पूजन के बाद दोनों मंदिर से नीचे जंगली रास्ते से आ रहे थे, तभी कुल्हाड़ी से लैस तीन युवक मौके पर पहुंच गए. युवती के मंगेतर को कुल्हाड़ी के बल पर धमकाकर बंधक बना लिया और युवती को कुछ दूर झाड़ियों में खींच ले गए. जान से मार देने की धमकी देकर तीनों युवकों ने युवती के साथ सामूहिक दुष्‍कर्म की घटना को अंजाम दिया और फरार हो गए.

Mau News: 7 वर्ष की सजा वाले बंदियों की शुरू हुई रिहाई, निःशुल्क मिलेगी वकीलों की मदद

युवती के पिता ने पुलिस को आज सुबह तहरीर देकर बताया कि उसकी बेटी की शादी जिस व्यक्ति से लगी है वह उसी के साथ हनुमान मंदिर दर्शन पूजन करने गई थी. जहां लकड़ी लेने आए तीन लोगों ने सामूहिक दुष्‍कर्म किया. मामले की गम्भीरता को देखते हुए सोनभद्र एसपी अमरेंद्र प्रसाद सिंह ने घटना स्थल का मुआयना किया और आरोपियों को जल्द गिरफ्तार करने का आदेश दिया. विवेचना कर रहे दुद्धी सर्किल के सीओ अभिनव यादव की अगुवाई वाली टीम ने जंगल के पास से ही आरोपी तीनों युवकों को गिरफ्तार कर लिया लिया. तीनों आरोपियों से पूछताछ जारी है.

Sonbhadra : बरवाखाड का नवनिर्वाचित प्रधान तीन साथियों के साथ गिरफ्तार, जानें वजह

बरवाखाड का नवनिर्वाचित प्रधान गिरफ्तार. (प्रतीकात्मक तस्वीर)

मौके पर पहुंची पुलिस ने प्रधान पद के जीते प्रत्याशी के घर से संदिग्ध मांस, खाल व काटने के औजार बरामद किए. तब पुलिस ने मौके से नवनिर्वाचित प्रधान और उसके तीन सहयोगियों को गिरफ्ताए कर लिया.

SHARE THIS:
रंगेश सिंह

सोनभद्र. सोनभद्र के कोन थाना क्षेत्र के ग्राम पंचायत बरवाखाड में बृहस्पतिवार की आधी रात एक समुदाय विशेष के लोगों ने त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव में ग्राम प्रधान पद पर जीत की खुशी में पार्टी रखी थी. इस पार्टी में गोमांस परोसे जाने की सूचना पुलिस को मिली. सूचना के बाद मौके पर पहुंची पुलिस ने प्रधान पद के जीते प्रत्याशी के घर से संदिग्ध मांस, खाल व काटने के औजार बरामद किए. तब पुलिस ने मौके से नवनिर्वाचित प्रधान और उसके तीन सहयोगियों को गिरफ्ताए कर लिया. स्थानीय कोन पुलिस ने चारों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर आगे की कार्रवाई में जुट गई है.

ग्रामीणों ने कहा - चुनाव में किया था वादा

स्थानीय ग्रामीणों के अनुसार ग्राम प्रधान ने वोटरों से वादा किया था कि प्रधान का चुनाव जीतने के बाद गोकशी की जाएगी. इस घटना के बाद गांव में काफी आक्रोश है. मौके पर पहुंचे बीजेपी के कार्यकर्ताओं सहित बजरंग दल, विश्व हिन्दू महासंघ, विश्व हिन्दू परिषद के नेताओं ने इसका पुरजोर विरोध किया. कोन क्षेत्र मे काफी तनाव की स्थिति बनी हुई है.

मामले की जांच जारी

सोनभद्र एसपी अमरेंद्र प्रसाद सिंह ने बताया कि कोन थाना क्षेत्र के ग्राम पंचायत बरवाखाड के नवनिर्वाचित ग्राम प्रधान रुक्मुद्दीन पुत्र मुकद्दर अली ने कल देर रात अपनी जीत की खुशी में पार्टी रखी थी. इस पार्टी के बारे में ग्रामीणों ने सूचना दी कि प्रधान की पार्टी में गोमांस परोसने की तैयारी की गई है. सूचना के आधार पर पुलिस ने छापा मारा तो मौके से संदिग्ध मांस, खाल व धारदार हथियार मिले. जिसके बाद ग्राम प्रधान व उसके तीन सहयोगियों को गिरफ्तार कर गोकसी व विभिन्न धाराओं में मुकदमा दर्ज कर लिया गया है. आगे की कार्रवाई की जा रही है.

सोनभद्र: हाइवा ने ट्रक को सामने से मारी टक्कर, 100 फीट गहरी खाई में गिरा, महिला समेत 4 की मौत

सोनभद्र में एक सड़क दुघर्टना में हाइवा ने ट्रक को टक्कर मार दी, जिससे ट्रक में सवार चार लोगों की मौत हो गई.

सोनभद्र में ट्रक और हाइवा की जोरदार टक्कर हुई, इस हादसे के बाद ट्रक सैकड़ों फीट नीचे खाई में जा गिरा, उसमें सवार एक महिला समेत चार लोगों की मौके पर मौत हो गई.

SHARE THIS:
रंगेश सिंह, सोनभद्र. उत्तर प्रदेश के सोनभद्र में ट्रक और हाइवा की जोरदार टक्कर हो गयी, इस हादसे के बाद ट्रक सैकड़ों फीट नीचे खाई में जा गिरा, जिससे ट्रक पर सवार एक महिला समेत चार लोगों की मौके पर मौत हो गई. जबकि तीन लोग घायल हो गए. सूचना के बाद मौके पर पहुंचे स्थानीय पुलिस व आसपास के लोगों ने दुर्घटना में घायल को तत्काल हिंडाल्को अस्पताल भेजा गया. वहीं, पुलिस ने चारों मृतकों के शवों को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया.

बदादें की पिपरी थाना क्षेत्र के रिहंद बांध के आगे वन देवी मंदिर के तीव्र मोड़ के पास तेज रफ्तार हाइवा ने विपरीत दिशा से आ रही ट्रक को टक्कर मार दी, हादसे में ट्रक सैकड़ों फीट खाई में जा गिरी, जिससे उस पर सवार सात लोगों में से चार लोगों की मौत हो गयी, जबकि तीन लोग घायल हो गए. स्थानीय लोगों के सूचना पर मौके पर पहुंंची पुलिस ने राहत बचाव कार्य करते हुए तीनो घायलों को हिंडाल्को अस्पताल में भर्ती कराया और खाई में गिरे ट्रक से चारों शवों को निकालकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है.

सोनभद्र पुलिस अधीक्षक अमरेंद्र प्रसाद सिंह ने बताया कि आज शाम तीन बजे अनपरा की ओर से कोयला लेकर आ रहे ट्रक की विपरीत दिशा से आ रहे हाइवा से आमने-सामने टक्कर हो गई. चूंकि ट्रक पहाड़ी से तेज रफ्तार से उतर रहा था, इसलिए उसकी गति तेज होने के कारण टक्कर के बाद ट्रक खाई में जाकर पलट गया, जिससे उस पर सवार चार लोगों की दर्दनाक मौत हो गई.

मृतकों में 50 वर्षीय शिवर्ती देवी पत्नी लालजी निवासी बेलवादह, 21 वर्षीय राहुल कुमार पुत्र सतीश चंद्र निवासी नगला ढक्कन जनपद एटा, 25 वर्षीय दिनेश कुमार पुत्र ईश्वर निवासी बैरपान सहित एक अज्ञात व्यक्ति शामिल है. जबकि तीन लोग घायल हो गए तीनो घायलों को हिंडाल्को अस्पताल में भर्ती कराया गया है. स्थानीय पुलिस राहत बचाव कार्य में जुटी हुई हैं. सभी मृतकों के शवों को पोस्टमार्टम के लिए भेजा जा रहा है. परिवारजनों से संपर्क कर आगे की कार्यवाही की जाएगी.

Sobhadra Panchayat Chunav: चोपन के नेवारी में पहली बार दलित महिला कैसे बनी प्रधान, जानें पूरी कहानी

ग्राम पंचायत चुनाव के नतीजों में जीत के बाद बुड़की का स्वागत किया गया

Sobhadra Panchayat Chunav Result: चोपन ब्लॉक अंतर्गत ग्राम पंचायत नेवारी में कुल 2187 मत पड़े थे, जिसमें 233 मत रिजेक्ट हो गए. बुडकी को कुल 467 मत मिले, जबकि रीना देवी को 388 मत मिला. इस प्रकार से बुड़की 85 मतों से विजयी घोषित हुई

SHARE THIS:
रिपोर्ट - रंगेश सिंह

ओबरा (सोनभद्र). जैसा नाम, वैसा ही काम कर के निर्भय ने सामान्य महिला सीट पर आजादी के बाद पहली बार अपनी पत्नी बुड़की को ग्राम प्रधान बनाकर महिलाओं का हौसला बढ़ाया है. करीब 30 वर्षों से लगातार हर बार चुनाव लड़ने के बाद हार का सामना करने के बाद भी निर्भय ने संघर्ष नहीं छोड़ा. बता दें कि चोपन ब्लॉक अंतर्गत ग्राम पंचायत नेवारी में आजादी के बाद से सिर्फ एक बार ब्राह्मण समाज के अलावा अब तक सिर्फ बैसवार बिरादरी का ही प्रधान चुना जाता रहा है. ब्राह्मण समाज के कुडारी गांव निवासी लोकपति त्रिपाठी जब वर्ष 2011 में कुडारी गांव भी ग्राम पंचायत नेवारी में शामिल था तो ग्राम प्रधान चुने गए थे.

इसके पहले बैसवार बिरादरी के तीन पंचवर्षीय जुगुल सिंह और उनकी पत्नी सरस्वती देवी निवर्तमान में भी प्रधान रहे. इसके पहले बैसवार बिरादरी के ही गोरखनाथ सिंह प्रधान रहे. इस बार जुगुल सिंह ने अपनी बहू रीना देवी को चुनाव लड़ाया था, जिन्हें नतीजों में हार मिली. अबकी बार कुल नौ महिला प्रत्याशियों ने चुनाव लड़ा था जिसमें चार ब्राह्मण, तीन बैसवार और दो हरिजन समाज से थीं. कुल 2187 मत पड़े थे, जिसमें 233 मत रिजेक्ट हो गए. कुल पांच राउंड की गणना हुई. पहले राउंड में ब्राह्मण समाज की अनीता ने सबसे अधिक 148 मत पाकर बढ़त बनाई. दूसरे नंबर पर बैसवार बिरादरी की रीना देवी को 119 मत मिले.

हरिजन समाज की बुड़की को छठवां स्थान मिला, उन्हें सिर्फ 34 मत मिले. दूसरे राउंड में बैसवार बिरादरी की रीना देवी को 122 मत, हरिजन समाज की बुड़की को 76 मत और ब्राह्मण समाज की अनीता को 39 मत मिले. तीसरे राउंड में बुड़की को 147 मत, अनीता को 80 मत और रीना देवी को 75 वोट मिले. चौथे राउंड में बुड़की को 159 मत, अनीता को 39 मत और रीना देवी को 33 मत मिले. तीसरे राउंड से जो बुड़की ने बढ़त बनाई अंतिम राउंड तक बरकरार रही. पांचवें एवं अंतिम राउंड में बुड़की को 51 मत, अनीता को 45 मत और रीना देवी को 34 मत मिले.

इस तरह बुड़की को कुल 467 मत मिले, जबकि रीना देवी को 388 मत मिला. इस प्रकार से बुड़की 85 मतों से विजयी घोषित हुईं. अनीता को 351 मतों से संतोष करना पड़ा. वहीं, आशा 36 मत, किरण 230 मत, चिंता 57 मत, गौरा देवी 76 मत, विद्यावती 208 मत और सावित्री को 47 मत मिला.

UP Panchayat Chunav: हिंसा के बीच चौथे चरण में 75.38 फीसदी मतदान, अब 2 मई के लिए मतगणना की तैयारी

यूपी: पंचायत चुनाव में चौथे चरण में वोटिंग के साथ ही मतदान प्रक्रिया पूरी हो गई है.

Lucknow News: उत्तर प्रदेश में पंचायत चुनाव की मतदान प्रक्रिया पूरी हो गई है. अब 2 मई से मतगणना शुरू होगी. पूरे पंचायत चुनव में औसतन 72.72 फीसदी मतदान हुआ. पहले चरण में 71 प्रतिशत, दूसरे चरण में 72 फीसदी के बाद तीसरे चरण के चुनाव में 73.5 फीसदी वोट पड़े थे.

SHARE THIS:
लखनऊ. उत्तर प्रदेश में त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव (UP Panchayat Chunav) के चौथे और आखिरी चरण (Fourth Phase) में 75.38 प्रतिशत मतदान हुआ. राज्य निर्वाचन आयोग (State Election Commission) से मिली जानकारी के मुताबिक चौथे चरण में 17 जिलों में हुए मतदान में औसतन छिटपुट हिंसा के बीच अधिकतर जगह शांतिपूर्ण रहा. आखिरी चरण में वोट पड़ने के साथ ही प्रदेश में पंचायत चुनाव की मतदान प्रक्रिया पूरी हो गई है. अब 2 मई से मतगणना शुरू होगी. पहले चरण में 71 प्रतिशत, दूसरे चरण में 72 फीसदी के बाद तीसरे चरण के चुनाव में 73.5 फीसदी वोट पड़े थे. इस तरह से पूरे पंचायत चुनव में औसतन 72.72 फीसदी मतदान हुआ.

अब 2 मई को मतणगना के लिए काउंटिंग सेंटर पर राज्य निर्वाचन आयोग की गाइडलाइन जारी हो गई है. राज्य निर्वाचन आयुक्त मनोज कुमार ने बताया कि हर मतगणना केन्द्र पर मेडिकल हेल्थ डेस्क खोले जाएंगे. सभी आवश्यक दवाइयों के साथ डॉक्टर उपलब्ध रहेंगे. कोविड-19 के लक्षण दिखने पर मतगणना स्थल पर प्रवेश की अनुमति नहीं होगी. मतगणना स्थल पर थर्मल स्कैनिंग कराना अनिवार्य रहेगा. नतीजों के बाद विजय जुलूस पर प्रतिबन्ध रहेगा. प्रत्याशियों और अभिकर्ताओं को कोविड नेगेटिव की रिपोर्ट अनिवार्य रहेगी, उनकी आरटीपीसीआर या एंटीजन टेस्ट की निगेटिव रिपोर्ट अनिवार्य होगी, कोविड-19 वैक्सिनेशन कोर्स पूरा करने की रिपोर्ट भी दिखा सकेंगे.

चौथे चरण में कुल 347436 उम्मीदवार मैदान में हैं. जिला पंचायत सदस्य की 738 सीटों पर 10679 प्रत्याशी, क्षेत्र पंचायत सदस्य की 18356 सीटों पर 55408 प्रत्याशी, जबकि ग्राम पंचायत वार्ड सदस्य की 177648 सीटों के लिए 114400 उम्मीदवार मैदान में हैं.

इन जिलों में पड़े वोट

चौथे चरण में अंबेडकर नगर, अलीगढ़, कुशीनगर, कौशांबी, गाजीपुर, फर्रुखाबाद, बुलंदशहर, बस्ती, बहराइच, बांदा, मऊ, मथुरा, शाहजहांपुर, संभल, सीतापुर, सोनभद्र तथा हापुड़ जिलों में मतदान हुआ.

मतदान के दौरान फायरिंग
शाहजहांपुर के सिधौली ब्लॉक में परवाड़ी गांव में मतदान के दौरान प्रत्याशियों के एजेंटों के बीच विवाद हो गया है, जिसके बा हुई मारपीट में लाठी-डंडे चल गए और भगदड़ मच गई. इस दौरान कई लोगों के घायल होने की सूचना है. कुछ देर बाद मतदान पर फायरिंग भी हुई. पुलिस ने कई को हिरासत में लिया है.

मतदान कर्मी की मौत
शाहजहांपुर में ही चुनाव ड्यूटी के दौरान निगोही ब्लाक के हितेनी गांव में एक कर्मचारी सोबरन लाल की तबीयत बिगड़ने के बाद उसकी मौत की खबर है. वहीं कलान ब्लॉक में एक महिला मतदान कर्मी अपर्णा ने तबीयत खराब होने पर वीडियो बनाकर वायरल कर दिया. उसे अस्पताल में भर्ती कराया गया है.

मथुरा में हिंसा
मथुरा में रखोली ग्राम पंचायत के नेहरा गांव में मतदान के दौरान दो प्रतिद्वंदी प्रत्याशियों के गुटों के बीच गोली चली, जिसमें आठ लोग घायल हुए. पुलिस ने छह लोगों को गिरफ्तार किया है. इसकी वजह से मतदान कुछ देर के लिए प्रभावित हुआ. वहीं मऊ के बड़राव ब्लाक के अमिला ग्राम सभा स्थित रकबा गांव के बूथ पर मतपत्रों को लेकर विवाद हुआ. अधिकारियों द्वारा इस बूथ पर पुनर्मतदान कराए जाने के आश्वासन पर प्रदर्शन समाप्त हुआ.

UP Corona News: उन्नाव, कासगंज, सोनभद्र के SP हुए कोरोना संक्रमित

उत्तर प्रदेश में उन्नाव, कासगंज और सोनभद्र के एसपी भी कोराेना पॉजिटिव हो गए हैंं.  (सांकेतिक तस्वीर)

Lucknow News: उन्नाव, कासगंज और सोनभद्र के एसपी कोरोना संक्रमित हो गए हैं,. इनके स्वस्थ होने तक दूसरे अफसरों को अतिरिक्त प्रभार सौंपा गया है. वहीं मैनपुरी में भी डीएम और उनकी पत्नी कोरोना संक्रमित हैं. मैनपुरी के एसपी में भी कोरोना के लक्षण पाए गए हैं.

SHARE THIS:
लखनऊ. उत्तर प्रदेश में कोरोना संक्रमण (COVID-19 Infection) भयावह हो चुका है. हर जिले में मरीजों की तादाद बढ़ती ही जा रही है. कोरोना से मौतों का सिलसिला भी लोगों को डरा रहा है. इस बीच प्रशासनिक तंत्र भी कोरोना की चपेट में है. मुख्यमंत्री से लेकर मंत्री, विधायक और अफसर संक्रमित हो रहे हैं. इसी क्रम में 3 जिलों उन्नाव (Unnao), कासगंज (Kasganj), सोनभद्र (Sonbhadra) के एसपी कोरोना संक्रमित हो गए हैं.

यूपी शासन की तरफ से आईपीएस आशीष तिवारी को SP उन्नाव का अतिरिक्त प्रभार सौंपा गया है. उन्नाव के एसपी सुरेश राव ए कुलकर्णी के स्वस्थ होने तक सेनानायक एसएसएफ, लखनऊ पद के साथ उन्नाव का अतिरिक्त प्रभार संभालेंगे. इसी तरह से कासगंज के एसपी मनोज कुमार सोनकर के स्वस्थ होने तक आईपीएस कुंवर अनुपम सिंह सतर्कता अधिष्ठान, लखनऊ के साथ कासगंज का अतिरिक्त प्रभार संभालेंगे.

मैनपुरी के एसपी में भी कोरोना के लक्षण
इनके अलावा सोनभद्र के एसपी अमरेंद्र प्रसाद सिंह भी कोरोना पॉजिटिव हो गए हैं. उनकी जगह 4वीं वाहिनी पीएसी, प्रयागराज की सेनानायक आईपीएस सुधा सिंह सोनभद्र जिले का अतिरिक्त प्रभार संभालेंगीं. उधर मैनपुरी में डीएम मैनपुरी डीएम और उनकी पत्नी भी कोरोना संक्रमित हो गए हैं. इनके अलावा सीडीओ इंशा और ज्वाइंट मजिस्ट्रेट ऋषिराज में भी कोरोनावायरस के लक्षण पाए गए हैं. एसपी मैनपुरी अविनाश पांडे में भी कोरोना के लक्षण हैं.

पंचायत चुनाव ड्यूटी से लौटे 15 फीसद पुलिसकर्मी संक्रमित
पंचायत चुनावों से लौटे पुलिस कर्मियों में 10 से 15 फ़ीसद पुलिसकर्मी कोरोना संक्रमित पाए गए हैं. ऐसे में कोरोना संक्रमण को रोकने के साथ ही पुलिसकर्मियों को कोरोना संक्रमण से बचाने की बड़ी चुनौती खड़ी हो गई है. डीआईजी प्रयागराज सर्वश्रेष्ठ त्रिपाठी के निर्देश पर जहां सभी थानों, चौकियों, पुलिस लाइन और कार्यालयों में कोविड हेल्प डेस्क बनाई गई है.

डीआईजी के मुताबिक थानों, चौकियों और पुलिस लाइन में ड्यूटी से लौट रहे पुलिसकर्मियों की थर्मल स्कैनिंग और ऑक्सीमीटर से ऑक्सीजन लेवल की जांच की जा रही है. डीआईजी के मुताबिक पुलिस कर्मियों के कोविड पॉजिटिव आने पर उन्हें क्वारेंटाइन किया जा रहा है और कोविड प्रोटोकॉल का पूरी तरह से पालन कराया जा रहा है. मास्क न पहनने पर पुलिस कर्मियों का भी चालान किया जा रहा है.
Load More News

More from Other District