होम /न्यूज /उत्तर प्रदेश /

सोनभद्र में टोटके वाले फेरे, जानिए दो लड़कियों ने आपस में क्यों रचाई शादी...

सोनभद्र में टोटके वाले फेरे, जानिए दो लड़कियों ने आपस में क्यों रचाई शादी...

अंधविश्वास के कारण सोनभद्र में हुई दो लड़कियों की शादी.

अंधविश्वास के कारण सोनभद्र में हुई दो लड़कियों की शादी.

Sonbhadra News: यह पूरा मामला सोनभद्र जिले के बभनी क्षेत्र के आदिवासी समाज का है. दरअसल क्षेत्र के एक गांव में किसी ओझा ने दो युवतियों को कुंडली में दोष बताते हुए कहा था कि उनकी अगर शादी होती है तो पति की जल्द मौत हो जाएगी.

हाइलाइट्स

अंधविश्वास में ओझा के कहने पर दो लड़कियों ने की शादी.
पंचायत ने माना अमान्य, बकरा भात का दिया दंड.

रंगेश सिंह 

सोनभद्र. उत्तर प्रदेश के सोनभद्र जिले में शादी के लिए टोटके का अनोखा मामला सामने आया है. पति की शीघ्र मौत के भय से दो युवतियों ने आपस में ही शादी रचा ली. महज टोटके के लिए निभाई इस रस्म के दौरान धूमधाम से बरात भी निकाली गई. भोज कराया गया. मंडप सजा और परंपरागत ढंग से फेरे और अन्य रस्में भी हुईं. वहीं, पुलिस ने इस प्रकार की किसी भी सूचना से इंकार किया है.

बकरा भात का दंड, परिवार ने किया इंकार
दो युवतियों की शादी की जानकारी मिलने के बाद बिरादरी के लोग भड़क गए. पंचायत बुलाकर दोनों युवतियों के परिवार को बकरा-भात का दंड सुना दिया. ऐसा न करने पर उन्हें बिरादरी से बाहर करने का फैसला लिया गया हालांकि परिवार के लोगों ने शादी को सिर्फ टोटका बताकर दंड स्वीकारने से इंकार कर दिया है.

भावी पति की ना हो जाए मौत
यह पूरा मामला सोनभद्र जिले के बभनी क्षेत्र के आदिवासी समाज का है. दरअसल क्षेत्र के एक गांव में किसी ओझा ने दो युवतियों को कुंडली में दोष बताते हुए कहा था कि उनकी अगर शादी होती है तो पति की जल्द मौत हो जाएगी. इससे भयभीत युवतियों ने उपाय पूछा तो बताया कि किसी लड़के से पहले इन दोनों की आपस में शादी करा दी जाए. फिर क्या था, पति की जिंदगी बचाने के लिए दोनों युवतियों ने टोटका निभाते हुए बीते सोमवार को आपस में शादी रचाई. धूमधाम से बरात लेकर एक युवती दूल्हा बनकर दूसरे युवती के दरवाजे पर पहुंची. घरवालों ने बरातियों का स्वागत किया. उन्हें भोज कराया गया. रात में पारंपरिक तरह से फेरे हुए.

पंचायत ने लगाया बकरा-भात का दंड
शादी के बाद दोनों को गांव के डीह बाबा के पूजा स्थल पर ले जाया गया. दोनों ने डीह बाबा का विधिवत पूजन-अर्चन किया. तीन दिन बाद इस परंपरा पर गांव में सुगबुगाहट शुरू हुई तो बिरादरी के लोगों की पंचायत बुलाई गई. पंचों ने इस शादी को अमान्य करार दिया और दोनों युवतियों के परिवारों पर समूचे बिरादरी को बकरा-भात कराने का दंड लगाया. हिदायत दी गई कि ऐसा न करने पर उन्हें बिरादरी से अलग कर दिया जाएगा. परिजनों ने बेटियों की खुशी और सुखी जीवन के लिए यह कदम उठाने की बात कह दंड देने से इंकार कर दिया है.

Tags: Marriage, Sonbhadra News, UP news, Uttar pradesh news

अगली ख़बर