लाइव टीवी

जानिए, शिव नगरी काशी में गंगा किनारे किसकी सेहत जानने के लिए पहुंची है खास टीम

Upendra Dwivedi | News18 Uttar Pradesh
Updated: October 23, 2019, 4:40 PM IST
जानिए, शिव नगरी काशी में गंगा किनारे किसकी सेहत जानने के लिए पहुंची है खास टीम
गंगा (Ganga) की सेहत जांचने के लिए सबसे बड़े अभियान की शुरूआत बुधवार को शिवनगरी काशी से हो चुकी है.

वाराणसी (Varanasi) के लगभग सभी प्रमुख घाटों पर टीम गंगा (Ganga) के जल की जांच करेगी. यह जांच करीब एक दर्जन से ज्यादा बिंदुओं पर होगी.

  • Share this:
वाराणसी (Varanasi): शिव (Shiva) की जटाओं से निकली मोक्षदायिनी और जीवनदायिनी गंगा (Ganga)  को लेकर बड़ी खबर है. जिस शिव की जटाओं से गंगा (Ganga)  निकली, अब उन्हीं शिव के त्रिशूल पर बसी काशी से उसकी सेहत को लेकर जांच (investigation) शुरू हो गई है. गंगा (Ganga)  की सेहत (Health) जांचने के लिए सबसे बड़े अभियान की शुरूआत बुधवार को शिवनगरी काशी से हो चुकी है.

दरअसल, काशी में गंगा (Ganga)  की सेहत जानने के लिए नेशनल मिशन फॉर क्लीन गंगा (National Mission for Clean Ganga)  की टीम वाराणसी (Varanasi) पहुंच गई है. यह टीम तीन दिन तक काशी में रुकेगी. काशी में यह टीम तीन दिनों तक गंगा (Ganga)  की सेहत की जांच करेगी. टीम ने बुधवार से जांच शुरू कर दी है. वाराणसी के लगभग सभी प्रमुख घाटों पर टीम गंगा (Ganga)  के जल की जांच करेगी. यह जांच करीब एक दर्जन से ज्यादा बिंदुओं पर होगी.

शिव के त्रिशूल पर बसी काशी से उसकी सेहत को लेकर जांच (investigation) शुरू हो गई है. Investigation has started regarding Shiva's health on Kashi's trident.
शिव के त्रिशूल पर बसी काशी से उसकी सेहत को लेकर जांच (investigation) शुरू हो गई है.


कई बिंदुओं पर होगी गंगा (Ganga)  की जांच

नेशनल मिशन फॉर क्लीन गंगा (Ganga)  की टीम तीन दिन तक काशी में रहकर यह जांच करेगी कि गंगा (Ganga) जल कितना साफ हुआ या फिर अभी भी गंगा (Ganga)  की वही स्थिति है। यही नहीं, प्रमुख घाटों पर गंगा (Ganga)  के हालात क्या हैं, इसको भी टीम परखेगी. जांच का बिंदु ये भी होगा कि अभी गंगा (Ganga)  और वरुणा में कितने एमएलडी सीवर गिर रहा है. इतनी कवायद और बड़ी रुकम खर्च होने के बाद कितना गंगा (Ganga)  जल निर्मल हुआ.

टीम अपने साथ यहां कई आधुनिक उपकरण भी लेकर पहुंची है. जिसके जरिए गंगा (Ganga)  की स्थिति के सटीक कारण को जाना जा सके. The team has also brought many modern equipment with them. Through which the exact cause of the Ganga situation can be known.
टीम अपने साथ यहां कई आधुनिक उपकरण भी लेकर पहुंची है. जिसके जरिए गंगा (Ganga) की स्थिति के सटीक कारण को जाना जा सके.


टीम सरकार को सौंप सकती है रिपोर्ट
Loading...

टीम अपने साथ यहां कई आधुनिक उपकरण भी लेकर पहुंची है. जिसके जरिए गंगा (Ganga)  की स्थिति के सटीक कारण को जाना जा सके. नेशनल मिशन फॉर क्लीन गंगा (Ganga)  की टीम जिले के सभी एसटीपी का भी निरीक्षण करेगी. इसके अलावा यह भी देखेगी कि गंगा (Ganga)  नदी की अविरलता और निर्मलता के लिए कौन से प्रयास किए जाने बाकी हैं. बताया जा रहा है कि तीन दिन तक चलने वाले इस महाअभियान की रिपोर्ट टीम सरकार को सौंप सकती है.

यह भी पढ़ें:
कांग्रेस से 'दूर' हो रहीं MLA अदिति सिंह के चचेरे भाई को प्रियंका गांधी ने कराया ज्वाइन
पहली बार UP उपचुनाव लड़ रही बसपा के लिए नतीजे तय करेंगे 2022 का भविष्य
यूपी में दीवाली पर सिर्फ 2 घंटे ही फोड़ सकते हैं पटाखे, ये है टाइमिंग

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए वाराणसी से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 23, 2019, 4:31 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...