सुल्‍तानपुर लोकसभा सीट: मेनका गांधी के सामने कितनी टिकेगी संजय और चंद्रभद्र की दावेदारी

2019 लोकसभा चुनावों की बात करें तो यहां से मेनका गांधी मैदान में हैं. जबकि उनके खिलाफ कांग्रेस ने संजय सिंह को मैदान में उतारा है. जबकि सपा-बसपा और रालोद गठबंधन की ओर से बसपा के चंद्र भद्र सिंह चुनाव लड़ रहे हैं.

News18Hindi
Updated: May 11, 2019, 1:38 PM IST
सुल्‍तानपुर लोकसभा सीट: मेनका गांधी के सामने कितनी टिकेगी संजय और चंद्रभद्र की दावेदारी
सुल्‍तानपुर से बीजेपी प्रत्‍याशी मेनका गांधी
News18Hindi
Updated: May 11, 2019, 1:38 PM IST
गोमती नदी के तट पर बसे सुल्तानपुर की खास बात यह है कि यह शहर धार्मिक और ऐतिहासिक दोनों ही दृष्टि से काफी अहम रहा है. वहीं राजनीतिक रूप में देखें तो यहां कांग्रेस, बीजेपी और बसपा तीनों पार्टियों का जनाधार रहा है. तीनों ही पार्टियां समय समय पर चुनाव जीतती रही हैं.

2019 लोकसभा चुनावों की बात करें तो यहां से मेनका गांधी मैदान में हैं. जबकि उनके खिलाफ कांग्रेस ने संजय सिंह को मैदान में उतारा है. जबकि सपा-बसपा और रालोद गठबंधन की ओर से बसपा के चंद्र भद्र सिंह चुनाव लड़ रहे हैं. चूंकि तीनों ही पार्टियां यहां से चुनाव जीतती रही हैं ऐसे में यहां की जनता किसे बहुमत देती है? यह अनुमान लगाना मुश्किल है लेकिन पिछले चुनावी नतीजों को देखते हुए यहां सपा-बसपा का वोटबैंक ज्‍यादा है. हालांकि मेनका गांधी और बीजेपी के पक्ष में वोट पड़े तो बीजेपी यह सीट आसानी से जीत सकती हैं.



sanjay singh
कांग्रेस प्रत्याशी संंजय सिंह (File Photo)


2014 में वरुण गांधी को सौंपी कमान

सुल्‍तानपुर की जनता ने 2014 लोकसभा चुनावों में बीजेपी उम्‍मीदवार वरुण गांधी को अच्‍छे वोटों से जिताया था. वरुण के खिलाफ कांग्रेस के 2009 के सांसद संजय सिंह की पत्‍नी अमिता सिंह खड़ी थीं लेकिन वरुण गांधी को 4,10,348  वोट मिले थे. वहीं दूसरे नंबर पर बसपा के पवन पांडेय रहे. जिन्‍हें 2,31,446 वोट मिले. इसके साथ ही  तीसरे नंबर पर समाजवादी पार्टी के शकील अहमद को 2,28,144 वोट मिले. कांग्रेस की अमिता सिंह चौथे नंबर पर रही थीं.



बेहद खास बात है कि सुल्‍तानपुर में अगर बीजेपी के देवेंद्र बहादुर राय को छोड़ दें तो कोई भी प्रत्‍याशी दोबारा जीत हासिल नहीं कर सका है. हालांकि पार्टियों ने प्रत्‍याशी बदलकर एक से अधिक बार यहां जीत हासिल की है.
menaka gandhi
चुनाव प्रचार के दौरान मेनका गांधी (Photo:Twitter)


मेनका और वरुण के विवादित बयान

चुनाव प्रचार के दौरान अभी तक मेनका गांंधी और वरुण गांधी के विवादित बयानों की वजह से इस सीट पर देशभर की निगाहें टिक गई हैं. मेनका गांधी का अल्पसंख्यकों को लेकर दिया बयान और वरुण गांधी द्वारा विपक्षियों पर खराब भाषा में प्रहार करना राष्ट्रीय मीडिया की सुर्खियों में छाया रहा है.

लोकसभा सीट का सामाजिक ताना-बाना
सुल्तानपुर लोकसभा क्षेत्र में पांच विधानसभा सीटें हैं.  इनमें इसौली, सुल्तानपुर, सदर, कादीपुर (सुरक्षित) और लम्भुआ सीटें शामिल हैं. फिलहाल चार सीटों पर बीजेपी का कब्‍जा है जबकि सिर्फ एक सीट पर सपा का विधायक है. दिलचस्‍प है कि इस लोकसभा सीट पर समाजवादी एक बार भी खाता नहीं खोल पाई है.

इस सीट पर  कुल 18,11,770  मतदाता हैं. मतदाता पुनरीक्षण सूची के अनुसार 947618 पुरुष, 844059 महिलाएं, 93 तृतीय लिंग व 9253 दिव्यांग मतदाता हैं. सुल्‍तानपुर लोकसभा सीट के लिए छठे चरण में 12 मई को वोट डाले जाएंगे.
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर

News18 चुनाव टूलबार

चुनाव टूलबार